Submit your post

Follow Us

चमकी बुखार में जिनके बच्चे मरे, उन्होंने विरोध किया तो केस दर्ज हो गया

5
शेयर्स

अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन ने डेमोक्रेसी की परिभाषा बताते हुए कहा था. डेमोक्रेसी द गवर्नमेंट ऑफ द पीपल, बाई द पीपल, फॉर द पीपल. इसका हिंदी तर्जुमा होता है- लोकतंत्र जनता का, जनता के लिए और जनता द्वारा बनाई गई शासन व्यवस्था.

लेकिन बिहार में जो घटना घटी है उस पर अगर अब्राहम लिंकन ज़िंदा होते तो ज़रूर मुस्कुरा रहे होते. बिहार में चमकी बुखार से मरे बच्चों के परिवार वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है. क्योंकि वे लोग नीतीश कुमार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. एफआईआर की लिस्ट में पूरे 19 लोगों के नाम हैं. जबकि 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा हुआ है.

विरोध प्रदर्शन करने की वजह से 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है
विरोध प्रदर्शन करने की वजह से 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है

दरअसल, 18 जून के दिन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुज़फ्फरपुर जाने वाले थे. वो चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों को देखने जा रहे थे. हरवंशपुर में भी चमकी की वजह से पांच बच्चों की मौत हुई थी. इसलिए हरिवंशपुर के लोगों ने सड़क जाम कर दी और धरने पर बैठ गए. इसके अलावा गांव के और भी लोग धरने में शामिल हो गए, क्योंकि वो इलाके में पानी की समस्या से काफी परेशान थे.

हरिवंशपुर में लोगों ने 18 जून के दिन प्रदर्शन किया था.
हरिवंशपुर में लोगों ने 18 जून के दिन प्रदर्शन किया था.

जब प्रशासन को पता चला तो लोगों को हटाने की कोशिश की. लोग अड़े रहे और फिर नीतीश कुमार को मुज़फ्फरपुर के लिए दूसरा रास्ता लेना पड़ा. मज़बूरी में लोगों ने प्रदर्शन खत्म कर दिया.

18 जून को नीतीश कुमार मुज़फ्फरपुर के एसकेएमसीएच हालात का जायज़ा लेने पहुंचे थे.
18 जून को नीतीश कुमार मुज़फ्फरपुर के एसकेएमसीएच हालात का जायज़ा लेने पहुंचे थे.

अब पुलिस ने प्रदर्शन करने वाले लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. पुलिस ने अपनी एफआईआर में लिखा है कि 18 जून के दिन लोगों ने प्रदर्शन तो किया ही, तोड़फोड़ भी की और वहां से गुज़र रहे लोगों के साथ मारपीट भी की.

बिहार में चमकी बुखार से 170 से ज्यादा बच्चों की जान जा चुकी है. मुज़फ्फरपुर, वैशाली, बेतिया, हाजीपुर, सीतामढ़ी समेत 19 ज़िले इस बीमारी के चपेट में आए हैं. अब चूंकि मौसम सुधरा है, मानसून कई इलाकों में सक्रिय हुआ है इसीलिए चमकी बुखार के मामले नहीं बढ़ रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ मुज़फ्फरपुर के एसकेएमसीएच में अब भी चमकी से पीड़ित बच्चों का इलाज़ चल रहा है.


बिहार: चमकी बुखार के शिकार बच्चे ही क्यों होते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
FIR lodged against 39 people in Vaishali after protest over lack of water and death of children due to AES

क्या चल रहा है?

कांग्रेस में एक और बड़ा इस्तीफा, सिद्धू ने पंजाब सरकार से दिया इस्तीफा

लंबे समय से सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच चल रही थी खींचतान.

क्रिस गेल ने एक फोटो ट्वीट की और फिर जो हुआ उसकी कल्पना भी नहीं की होगी

लोग क्रिस गेल के साथ ही विजय माल्या को ट्रोल करने लगे और अपना पैसा मांगने लगे.

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए विधायकों को जो गिफ्ट मिला, उसके बारे में तो सोचा भी नहीं होगा

गोवा में कांग्रेस के 15 में से 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे.

फिर से क्यों रोक दी गई है कश्मीर में चल रही 'अमरनाथ यात्रा'

वजह करीब 90 साल पुरानी है.

टीम लौटेगी इंडिया तो कोच शास्त्री और कोहली से पूछे जाएंगे ये तीन सवाल!

कुछ और लोगों की क्लास लगनी तय है.

एमपी में कुत्तों का ट्रांसफर, सीएम हाउस की सुरक्षा के लिए छिंदवाड़ा से लाया गया कुत्ता

बीजेपी ने कमलनाथ सरकार पर साधा निशाना.

जिस अम्पायर की इंग्लैंड के ख़िलाफ़ हिस्ट्री गड़बड़ है, वही करेगा फाइनल में अम्पायरिंग

लेओ भइय्या, नया झाम संभालो!

WC फाइनल के टिकट पर भारतीयों का कैसा कब्ज़ा है, ये न्यूज़ीलैंड के नीशम का ट्वीट पढ़ समझ जाएंगे

टीम पर इतना भरोसा था कि सारे टिकट खरीदकर बैठ गए थे क्रिकेट फैन्स.

इंडिया बाहर हो गई लेकिन खाली हाथ नहीं आई, जानिये जीते हुए मैचों से कितनी कमाई हुई

9 में से 7 मैच जीतने का हुआ है इंडिया को फ़ायदा.

एबी डिविलियर्स का धमाका, बोले- मैंने वर्ल्डकप टीम में लेने की डिमांड नहीं की थी

रिटायरमेंट पर आलोचना पर कहा- पैसे के लिए नहीं लिया रिटायरमेंट.