Submit your post

Follow Us

विदेश से आए कोच भी टीम इंडिया को नहीं पहुंचा पा रहे हैं FIFA वर्ल्ड कप तक

40
शेयर्स

भारत के फुटबॉल फैन्स. सालों से उम्मीद लगाए बैठे हैं. कि एक दिन हम फीफा वर्ल्ड कप खेलेंगे. दुनिया की महाशक्तियों के बीच हमारा राष्ट्रगान भी बजेगा और हम गर्व से टीवी के सामने खड़े हो जाएंगे. लेकिन हर बार ये उम्मीदें धरी की धरी ही रह जाती हैं. वर्ल्ड कप में पहुंचना तो दूर, टीम इंडिया उसके क्वॉलिफाइंग में ही सरेंडर कर देती है. इस बार भी यही होता दिख रहा है.

भारतीय टीम क्वॉलिफिकेशन के दूसरे राउंड का अपना पांचवां मैच भी हार गई. ओमान ने भारत को 1-0 से हरा दिया. भारत के लिए मैच की शुरुआत बहुत अच्छी नहीं रही. पहले हाफ में ही मिडफील्डर प्रणॉय हल्दर और डिफेंडर आदिल खान को चोट लग गई.

क्यों हार गई टीम?

क्वॉलिफायर्स के अगले राउंड में जाने की उम्मीद जिंदा रखने के लिए भारत को यह मैच हर हाल में जीतना था. लेकिन इस मैच में टीम का प्लान ही गड़बड़ था. भारतीय टीम इस मैच में तीन बदलावों के साथ उतरी थी. फारुख चौधरी, मनवीर सिंह और निशु कुमार को सहल अब्दुल समद, प्रीतम कोटाल और मंदार राव देसाई की जगह उतारा गया. कोच ने फॉरवर्ड आशिक कुरुनियन को लेफ्ट-बैक पोजिशन पर खिलाया, जो कि गलत फैसला साबित हुआ.

मैच में भारतीय फॉरवर्ड लाइन एकदम बेकार दिखी और मैच में एक बार भी क्लियर कट चांस बनाकर विपक्षियों को प्रेशर में नहीं डाल पाई. नए कोच इगोर स्टिमाच के अंडर यह पिछले 10 मैचों में 9वीं बार था जब भारतीय टीम जीत नहीं दर्ज कर पाई. इगोर के अंडर टीम सिर्फ एक मैच जीत पाई है. इसी साल हुए किंग्स कप में उन्होंने थाईलैंड को 1-0 से हराया था. इसके बाद से टीम ने चार मैच ड्रॉ खेले हैं जबकि पांच में उन्हें हार मिली है.

मैच की शुरुआत में पेनल्टी मिस करने वाले ओमान के फॉरवर्ड महसेन अल-घासनी ने 33वें मिनट में मैच का इकलौता गोल दाग दिया. रीप्ले में लगा कि वह ऑफसाइड थे लेकिन रेफरी ने गोल को सही करार दिया. हालांकि स्कोर भले 1-0 हो और इससे भ्रम बन रहा हो कि भारतीय टीम ने अच्छा खेला लेकिन सच्चाई इसके उलट है. टीम इंडिया इस मैच में गोल करने का एक भी मौका नहीं बना पाई.

इस हार के साथ ही भारत की वर्ल्ड कप क्वॉलिफायर्स के अगले राउंड में जाने की उम्मीदें भी खत्म हो गईं. ग्रुप में दूसरे नंबर की टीम ओमान के अब 12 पॉइंट्स हो गए हैं. ग्रुप की तीसरे नंबर की टीम अफगानिस्तान है जबकि चौथे नंबर पर भारत. ग्रुप की आखिरी टीम बांग्लादेश है.

# तो क्या अब कोई उम्मीद नहीं है?

फीफा वर्ल्ड कप में जाने की कोई उम्मीद नहीं है. लेकिन 2023 में होने वाले एशियन कप के अगले क्वालिफायर्स राउंड में जाने का मौका भारत के पास अभी भी है. दरअसल, फीफा वर्ल्ड कप और एशियन कप दोनों के क्वालिफायर्स एक साथ चल रहे हैं. भारत अब तक पांच मैच खेल चुका है और एक भी नहीं जीता है. अब तीन मैच बाकी हैं. अगर, टीम ये तीनों मैच जीत जाती है और उससे ठीक आगे चल रही अफगानिस्तान एक भी मैच हार जाता है तो भारत अपने ग्रुप में तीसरे नंबर पर आ जाएगा.

ऐसा हुआ तो अगले क्वॉलिफिकेशन राउंड में भारत को सीधी एंट्री मिल जाएगी. लेकिन अपने ग्रुप में अगर टीम सबसे नीचे भी फिनिश करती है तो भी वह एशियन कप क्वॉलिफाइंग की रेस में बनी रहेगी. ऐसी हालत में टीम को प्ले-ऑफ राउंड खेलना होगा जैसा उन्होंने 2019 एशियन कप के लिए खेला था.


ज़्लाटन इब्राहिमोविच के मशहूर ‘बाइ-साइकल किक’ गोल का किस्सा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!

बरसों से इंडिया का मित्र राष्ट्र रहा नेपाल क्या अब ज़मीन को लेकर कसमसा रहा है?

'कालापानी' को लेकर उत्तराखंड के CM टीएस रावत चिंता में हैं या गुस्से में, कहना मुश्किल है.

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ