Submit your post

Follow Us

दिल्ली में बहू बल्ब निकाल लेती थी, ससुर ने गला रेता और खून से लथपथ थाने पहुंच गया

5
शेयर्स

दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में एक सन्न कर देने वाली ख़बर सामने आई है. यहां के चूना मंडी इलाके में बिजली के बिल को लेकर हुई कहासुनी इतनी बढ़ गई कि ससुर ने चाकू से अपनी बहू का गला रेत दिया. एनबीटी की खबर के मुतबिक मृतका नीरज देवी अपने 10 साल के बेटे के साथ अपने सास-ससुर के घर रहती थी. नीरज का पति दर्शन अपने परिवार के साथ नहीं रहता था. दोनों के साथ तलाक का मामला तीस हजारी कोर्ट में चल रहा है. सास-ससुर बेटे के इस अलगाव का दोष मृतका नीरज को देते थे. और इसी बात पर नीरज से चिढ़ते भी थे. लेकिन ये चिढ़न-कुढ़न इस तरह से निकलेगी, ये किसी ने नहीं सोचा था.

पूरा मामला 

नीरज और सास-ससुर की बीच टकराव होता रहता था. लेकिन इस बार मामला हद से आगे बढ़ गया. बहाना बना बिजली का बिल. नीरज का ससुर भगत राम बिजली का बिल ज्यादा आने की शिकायत करता था. इस शाम जब बिजली के इस्तेमाल के लिए भगत राम ने टोका तो नीरज ने घर के सारे बल्ब ही निकाल लिए. वो ऐसा पहले भी कर चुकी थी. लेकिन इस बार बात ज्यादा बढ़ गई. सोमवार को जब झगड़ा हुआ तो ससुर ने चाकू से बहू का गला रेत दिया. हत्या करने के बाद भगत राम पहाड़गंज थाने की संगतरासा चौकी में जा पहुंचा और अपना जुर्म कबूलते हुए जाकर सरेंडर कर दिया. पुलिस ने मर्डर का मुकदमा दर्ज कर ससुर को गिरफ्तार कर लिया. हत्या में इस्तेमाल हुआ चाकू भी बरामद कर लिया गया है.

मृतका नीरज.
मृतका नीरज.

पुलिस ने इस मामले में पूछता की तो भगत राम ने आरोप लगाया कि बहू उनकी बुजुर्ग पत्नी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करती थी. रात के वक्त किचन, बाथरूम और सीढ़ियों का बल्ब निकाल देती थी. हमें अंधेरे में रहना पड़ता था. जिस देर रात ये वारदात हुई, उस दिन भी नीरज ने यही किया था. भगत का कहना है कि इसी वजह से उसे गुस्सा आ गया. और बहू की हत्या कर दी. भगत राम का कहना है कि नीरज पूरी प्रॉपटी को अपने नाम करवाने की जिद्द करती थी जानकारी के मुताबिक, सोमवार रात भगत राम डिनर कर रहा था. बहू जिद करने लगी कि डिनर उसके साथ ही होगा. लेकिन भगत राम ने इनकार कर दिया. बहस शुरू हो गई. नीरज के हाथ में चाकू था. भगत राम ने चाकू खींचने की कोशिश की और इसी चक्कर में हाथापाई हो गई. गुस्से में आकर भगत राम ने नीरज का गला रेत दिया. नीरज के परिजनों ने भी बेटी को परेशान करने के गंभीर आरोप लगाए हैं.

दर्शन और नीरज. ये शादी के समय की तस्वीर है.
दर्शन और नीरज. ये शादी के समय की तस्वीर है.

शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने बताया कि भगत राम के बेटे दर्शन की नीरज से 12 साल पहले शादी हुई थी. वर्ष 2012 के बाद दर्शन और नीरज के रिश्ते खराब होने लगे. अदालत ने दर्शन को पत्नी को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया. नीरज अपने पति के खिलाफ घरेलू हिंसा की भी शिकायत कर चुकी थी.

ऐसे अपराध एक सेकेंड मे नहीं हो जाते. ये पुरानी खीझ का नतीजा होता है. इस मामले में भी कुछ ऐसा ही हुआ है. रोज़-रोज़ की खिझन से तंग आकर 65 साल के भगत राम ने ऐसा अपराध कर डाला कि अपनी ज़िंदगी के आखिरी कुछ साल उसे काल कोठरी में गुज़ारने होंगे. इस हालत में नीरज और सास-ससुर जितना एक दूसरे से खिन्न नज़र आ रहे हैं, ये कदम दोनों में से किसी की भी ओर से उठाया जा सकता था. इस केस में ससुर के सब्र का बांध टूटा. अब पूरे घर में बचे हैं तीन शख़्स, नीरज का पति दर्शन, जो घर से पहले ही अलग रहता है. इन दोनों का 10 साल का बेटा और नीरज की सास, जिसकी विकट स्थिति देखकर भगत राम ने बहू नीरज का कत्ल किया. अगर जैसा भगत राम ने पुलिस को बताया है वो सच है तो बहू ने बेशक ग़लत किया हो, ग़लत करती आ रही है, फिर भी क़त्ल या किसी भी प्रकार की हिंसा को सही नहीं ठहराया जा सकता है. कानूनी प्रक्रिया के तहत कई और तरीके थे जो भगत राम को न्याय दिला सकते थे, काश ! भगत राम ने उन विकल्पों में से एक चुना होता, ना कि ये.

एक बात और, ये सब भगत राम की ओर से बताई गई कहानी है. इसके अलावा कुछ और भी कारण हो सकते हैं, कोई और व्यू पॉइंट हो सकता है. लेकिन वो बताने के लिए नीरज ज़िंदा नहीं है.


वीडियो- तेलंगाना में एक महिला ने अपनी बेटी के रेप के आरोपी बाप के खिलाफ शिकायत की

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Father in Law murdered the daughter in law as she took off the electricity bulb

टॉप खबर

मायावती ने गठबंधन क्या तोड़ा, खुद की लुटिया ही डुबो ली है

गठबंधन तोड़कर अखिलेश और माया चवन्नी भर सीटें भी नहीं जीत रहे हैं.

खट्टर सरकार रेपिस्ट बाबा की जेल से छुट्टी का समर्थन कर रही, लेकिन जानिए ऐसा होना संभव क्यूं नहीं

जेल से छुट्टी क्यों चाह रहा है बलात्कारी बाबा राम रहीम?

चमकी बुखार में जिनके बच्चे मरे, उन्होंने विरोध किया तो केस दर्ज हो गया

बिहार में एक दो नहीं पूरे 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.

चमकी बुखार से पीड़ित परिवार से मिलने गए सांसद-विधायक को लोगों ने बंधक बना लिया

उधर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य और केंद्र सरकार को नोटिस भेज दिया है.

जिन SP अजय पाल शर्मा को हीरो बताया जा रहा, उन्होंने "रेपिस्ट" पर गोली चलाई ही नहीं

न वो मौके पर थे, न रेप की वजह से गोली चली और न ही "रेपिस्ट" की मौत हुई.

पंजाब में गुरु ग्रंथ की बेअदबी के आरोपी और डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी मोहिंदर की जेल में हत्या

जानिए क्या है पूरा मामला जिसके चलते पूरे पंजाब में अफवाहों और कानाफूसियों का माहौल है और सीएम ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की रिक्वेस्ट की है.

मज़दूर के बेटे ने तीरंदाज़ी में भारत को सिल्वर मेडल दिला डाला

गरीब बस्ती में पले बढ़े इस लड़के ने भारत का नाम रोशन कर दिया.

क्या सन्नी देओल से छिन जाएगी उनकी सांसदी?

वजह चुनाव आयोग का एक नियम है.

CM नीतीश कुमार अस्पताल में थे, बच्चे की मौत हो गई

चमकी कहें या इंसेफेलाइटिस, अब तक 129 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मनमोहन सिंह को राज्य सभा में भेजने के लिए कांग्रेस ये तिगड़म भिड़ा रही है

अपना एक मात्र चुनाव हारने वाले मनमोहन सिंह पिछले 28 साल में पहली बार संसद के सदस्य नहीं होंगे.