Submit your post

Follow Us

उन्नाव में खुले में पड़ी मिलीं 3000 वैक्सीन डोज, टीका लगे बिना ही लोगों को मिले मैसेज

उत्तर प्रदेश का उन्नाव जिला. यहां लोगों ने फेक वैक्सीनेशन यानी नकली टीकाकरण की शिकायत की है. इंडिया टुडे/आजतक से जुड़े अभिषेक मिश्रा के मुताबिक जिले में बड़ी मात्रा में अनरजिस्टर्ड वैक्सीन डोज पाए गए हैं. ये वैक्सीन खुराक कोल्ड स्टोरेज से बाहर रखी मिली हैं. इतना ही नहीं, लोगों को गलत तरीके से मैसेज मिल रहे थे कि उन्हें टीका लग गया है.

क्या है मामला?

उन्नाव के मियागंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए आई लगभग 3000 वैक्सीन डोज एक निजी कर्मचारी के आवास पर संदिग्ध परिस्थितियों में बरामद की गईं. इन टीकों को कोल्ड स्टोरेज में भी नहीं रखा गया था. मौके पर पहुंचे सफीपुर से भाजपा विधायक बंबा लाल दिवाकर ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए आला अधिकारियों के साथ-साथ मुख्यमंत्री कार्यालय से भी शिकायत की है. CMO यानी चीफ मेडिकल ऑफिसर ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं.

मामले पर इंडिया टुडे से बातचीत में IO संगीत पटेल ने कहा,

CHC सुपरिटेंडेंट आफताब अहमद ने स्टोर हेल्पर रानी को इन वैक्सीन बॉक्स को अपने पास  रखने के लिए कहा था. रानी ने कहा कि उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि इन शॉट्स का क्या उपयोग किया गया. वो केवल अधीक्षक के आदेशों का पालन कर रही थी. रानी ने आरोप लगाया है कि आफताब अहमद सीएचसी में किए गए काम के फर्जी रिकॉर्ड बनाने के लिए दबाव बनाते थे. ऐसा नहीं करने पर जॉब से निकालने की धमकी देते थे.

इंडिया टुडे की टीम ने मियागंज CHC का दौरा किया, लेकिन अधीक्षक मौके पर नहीं मिले. उनके दोनों मोबाइल नंबर भी बंद थे.

लोगों की शिकायत के बाद मामला सामने आया

ये नकली टीकाकरण रैकेट तब सामने आया जब इलाके के वैक्सीन लाभार्थियों को ये संदेश मिला कि उन्हें दूसरी खुराक लग गई है, जबकि जिन्हें ऐसा हुआ ही नहीं था. पहली डोज लगवा चुके 42 साल के उमेश चंद्र नामक शख्स ने बताया,

सात नवंबर को वैक्सीन की दूसरी डोज लगनी थी, पर अस्पताल पहुंचने से पहले ही मोबाइल पर दूसरी डोज लगने का मैसेज आ गया. साथ-साथ मेरे भतीजे को भी दूसरी डोज लगने का मैसेज भेज दिया गया, जबकि उसे भी डोज नहीं लगी है. मैंने मामले की शिकायत सीएमओ और जिलाधिकारी से की है.

26 वर्षीय राजेश कनौजिया की भी कुछ ऐसी ही कहानी है. उन्होंने 7 नवंबर को वैक्सीनेशन के लिए टाइम बुक किया था. लेकिन वैक्सीन लगने से पहले ही उन्हें मैसेज मिल गया कि वैक्सीन लग गई. सीएचसी पहुंचे तो बताया गया कि तकनीकी खराबी है.

वहीं, भूपतिखेड़ा निवासी पूनम नामक महिला ने बताया कि उन्हें भी वैक्सीन की दूसरी डोज नहीं लगी है, फिर भी उन्हें वैक्सिनेशन कंप्लीट होने का मैसेज आ गया है. उन्होंने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर संपर्क करने के बावजूद उनकी समस्या का समाधान नहीं किया गया.

इस बारे में सीएमओ सत्य प्रकाश ने बताया,

“मियागंज का ये मामला मेरे संज्ञान में आया था कि 2 लाभार्थियों को टीकाकरण का मैसेज गया जबकि उनको टीका नहीं लगा था. मैं परसों खुद मियागंज गया था. छानबीन में पता चला कि शायद नंबर गलत फीड होने की वजह से उनके पास गलत मैसेज चला गया. दोनों लाभार्थियों को दूसरी डोज लगाई जाएगी.

उधर सफीपुर से भाजपा विधायक बंबा लाल दिवाकर का कहना है कि लोगों की शिकायत के बाद उन्होंने मामले का संज्ञान लिया और डीएम से बात की है.


नया कोरोना वैरिएंट AY.4.2 तीसरी लहर में मचा सकता है तबाही!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"