Submit your post

Follow Us

फेसबुक ने क्यों बैन की सरदार पटेल की मूर्ति वाली वेबसाइट?

फेसबुक को स्टैचू ऑफ यूनिटी की वेबसाइट पसंद नहीं है.

कोलंबस घर से निकला था भारत खोजने. लेकिन पहुंच गया अमेरिका. ऐसे ही हम स्टैचू ऑफ यूनिटी में दरार आने का दावा करने वाली एक फेक वायरल पोस्ट की पड़ताल कर रहे थे. पड़ताल करते-करते ये बात पता चली. कि अगर आप किसी को ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ की वेबसाइट का लिंक फेसबुक मैसेंजर पर भेजने की कोशिश करें, तो ये हो नहीं पाएगा. फेसबुक की तरफ से लाल फॉन्ट में एक मेसेज आएगा. इसमें लिखा होगा-

आपका मेसेज शेयर नहीं किया जा सकता है. क्योंकि ये लिंक हमारे कम्यूनिटी स्टैंडर्ड्स के खिलाफ है.

हमने वेबसाइट के लिंक को फेसबुक मेसेंजर पर किसी को भेजने की कोशिश की. लिखकर आया कि ये मेसेज नहीं भेजा जा सकता है.
हमने वेबसाइट के लिंक को फेसबुक मेसेंजर पर किसी को भेजने की कोशिश की. लिखकर आया कि ये मेसेज नहीं भेजा जा सकता है.

 

ये मेसेज भी आया. इसमें लिखा है कि ये लिंक फेसबुक के कम्युनिटी स्टैंडर्ड्स का उल्लंघन करता है. इसीलिए इसे शेयर नहीं किया जा सकता.
ये मेसेज भी आया. इसमें लिखा है कि ये लिंक फेसबुक के कम्युनिटी स्टैंडर्ड्स का उल्लंघन करता है. इसीलिए इसे शेयर नहीं किया जा सकता.

ये है 'यूनिटी ऑफ स्टैचू' की वेबसाइट का होम पेज.

ये है ‘यूनिटी ऑफ स्टैचू’ की वेबसाइट का होम पेज.

फेसबुक पेज पर शेयर भी नहीं कर सकते हैं
न केवल आप इस वेबसाइट का लिंक फेसबुक पर किसी को नहीं भेज सकते, बल्कि इसे अपने अकाउंट से पोस्ट भी नहीं कर सकते. आप इसे अपने पेज पर भी नहीं शेयर कर सकते हैं. फेसबुक ये बताने के बाद आपसे पूछेगा. कि अगर आपको लगता है कि ये उनके कम्यूनिटी स्टैंडर्ड के खिलाफ नहीं है, तो उन्हें ये बताइए.

आप इसका लिंक अपनी फेसबुक वॉल पर भी शेयर नहीं कर सकते हैं. करने की कोशिश करेंगे, तो ये मेसेज आएगा.
आप इसका लिंक अपनी फेसबुक वॉल पर भी शेयर नहीं कर सकते हैं. करने की कोशिश करेंगे, तो ये मेसेज आएगा.

क्या है फेसबुक का कम्युनिटी स्टैंडर्ड?
ये फेसबुक की एक पॉलिसी है. रोज़ाना दुनिया के कोने-कोने से लोग फेसबुक पर आते हैं. तस्वीरें, फोटोज़ शेयर करते हैं. स्टेटस लिखते हैं. एक-दूसरे से बात करते हैं. इनमें कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो इस प्लेटफॉर्म पर भी जमकर गंद मचाते हैं. गालियां देना. घटिया चीजें शेयर करना. कई बार ऐसी चीजें स्क्रॉल करते समय उनको भी दिख जाती हैं, जो ये सब बेहूदी चीजें देखना और पढ़ना नहीं चाहते. इसीलिए फेसबुक ने कुछ कम्यूनिटी स्टैंडर्ड सेट किए हैं. जैसे, सांप्रदायिक चीजें जो नफरत और हिंसा को भड़काती हैं, उन्हें फेसबुक हटा देता है.

ये फेसबुक के कम्युनिटी स्टैंडर्ड वाला पेज है.
ये फेसबुक के कम्युनिटी स्टैंडर्ड वाला पेज है.

 

किसी लिंक, पोस्ट, वीडियो या तस्वीर को आपत्तिजनक कब माना जाएगा, इसे तय करने के लिए फेसबुक ने अलग-अलग कैटगरी बनाई हुई हैं. बाईं तरफ देखिए, ये कैटगरी क्या-क्या हैं.
किसी लिंक, पोस्ट, वीडियो या तस्वीर को आपत्तिजनक कब माना जाएगा, इसे तय करने के लिए फेसबुक ने अलग-अलग कैटगरी बनाई हुई हैं. बाईं तरफ देखिए, ये कैटगरी क्या-क्या हैं.

किन चीजों को फेसबुक कम्युनिटी स्टैंडर्ड के खिलाफ मानता है?
इसके लिए फेसबुक ने कुछ पैमाना तय किया हुआ है. इसकी कैटगरी हैं-

– हिंसा, क्रिमिनल बर्ताव (ऐसे पोस्ट्स या ऐसा कॉन्टेंट जिससे लोगों को खतरा हो सकता है, या किसी आतंकवादी या आतंकी संगठन का अकाउंट, या फिर ऐसे पोस्ट्स जो हिंसा भड़काते हों)
– सुरक्षा (मसलन ऐसा कॉन्टेंट जो आत्महत्या, हैरेसमेंट, शोषण जैसी चीजों को बढ़ावा देता हो)
– आपत्तिजनक कॉन्टेंट (मसलन ऐसे पोस्ट्स या फोटोज़-वीडियोज़ जो हिंसा के लिए उकसाते हों, किसी समुदाय के प्रति नफरत पैदा करने की कोशिश करते हों)
– सच्चाई और विश्वसनीयता (जैसे, फेक न्यूज)
– इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी (किसी और के क्रिएटिव कॉन्टेंट को बिना क्रेडिट दिए, बिना मंजूरी लिए इस्तेमाल करना) का सम्मान
– कॉन्टेंट रिलेटेड रिक्वेस्ट्स (जैसे कोई अपना अकाउंट बंद करना चाहे या किसी इंसान की मौत के बाद उसके परिवार के लोग उसका अकाउंट बंद करवाएं)
– अडिशनल प्रॉटेक्शन ऑफ माइनर्स (मसलन, किसी नाबालिग के अकाउंट को बंद करने की रिक्वेस्ट आए, या कोई ऐसी पोस्ट हो जिसमें बच्चों के साथ हुए शोषण से जुड़ा कुछ आपत्तिजनक हो)

'स्टैचू ऑफ यूनिटी' के होम पेज का नीचे वाला हिस्सा देखिए. भारत सरकार की अलग-अलग वेबसाइट्स के लिंक दिए हुए हैं. कुल मिलाकर वेबसाइट पर ऐसा कुछ नहीं मिला, जिसे आपत्तिजनक कहा जा सके.
‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ के होम पेज का नीचे वाला हिस्सा देखिए. भारत सरकार की अलग-अलग वेबसाइट्स के लिंक दिए हुए हैं. कुल मिलाकर वेबसाइट पर ऐसा कुछ नहीं मिला, जिसे आपत्तिजनक कहा जा सके.

‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ की वेबसाइट में आपत्तिजनक क्या है?
हमने फेसबुक के कम्यूनिटी स्टैंडर्ड्स को अच्छी तरह पढ़ा. एक भी ऐसी कैटगरी नहीं है, जिनके मुताबिक ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ की वेबसाइट को कम्युनिटी स्टैंडर्ड्स के खिलाफ माना जाए.


राजस्थान के उस वकील से मिलिए जिन्होंने ताज महल में शिवलिंग की तरह पानी की बूंदें गिरते देखी हैं!

ज्योतिबा फुले की किताब ‘गुलामगिरी’ का वो हिस्सा जो आज के समय में बहुत जरूरी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राजस्थान में पुलिस अधिकारी ने की आत्महत्या, विपक्ष ने की सीबीआई जांच की मांग

आरोप लग रहे हैं कि राजनीतिक दबाव के चलते SHO ने जान दे दी.

विज्ञापन को लेकर केजरीवाल को घेरने के चक्कर में बीजेपी नियम पढ़ना भूल गई और ट्रोल हो गई

सिविल डिफेंस कोर के विज्ञापन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की फोटो छपी थी.

सलमान की फिल्मों में काम कर चुके कॉमेडी ऐक्टर मोहित बघेल का 27 साल की उम्र में निधन

कैंसर था, परिवार का आरोप है कि कोरोना वायरस के चलते अस्पताल ने भर्ती नहीं किया.

रेलवे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया अगले 10 दिन में कितनी हजार ट्रेनें चलने वाली हैं?

RAC टिकट पर भी रेलवे ने बड़ी बात कही है.

महाराष्ट्र के वसई से यूपी के गोरखपुर के लिए चली श्रमिक ट्रेन ओडिशा पहुंच गई

रेलवे ने इसके पीछे जो वजह बताई है वो भी जान लीजिए.

कोरोना संकट: क्या ये सात पॉइंट का एक्शन प्लान देश में सब कुछ सही कर देगा?

रामचंद्र गुहा, योगेंद्र यादव जैसे 26 लोगों ने मिलकर तैयार किया है.

नीति आयोग के CEO बोले- प्रवासी मज़दूरों का मामला खराब तरीके से हैंडल किया गया

उन्होंने कहा कि प्रवासी मज़दूरों को लेकर सरकारें और बेहतर कर सकती थीं.

अनिल अंबानी को 21 दिन में तीन चीनी बैंकों को 5446 करोड़ रुपये चुकाने होंगे

लंदन की कोर्ट ने दिया पैसे चुकाने का आदेश, बढ़ी मुश्किल.

वेंटिलेटर के बाद अब N95 मास्क पर कांग्रेस ने गुजरात सरकार को घेरा, BJP ने किया पलटवार

मास्क की कीमत को लेकर दोनों पार्टियां आमने-सामने हैं.

पैदल घर जा रहे मज़दूरों से राहुल गांधी की क्या बात हुई थी? अब राहुल ने खुद बताया

इसका वीडियो राहुल गांधी ने अपने यूट्यूब चैनल पर डाला है.