Submit your post

Follow Us

अग्निवेश को लेकर CBI के पूर्व अंतरिम डायरेक्टर के ट्वीट्स की इतनी भद्द क्यों पिट रही है?

सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन. CBI. इसके पूर्व ‘अंतरिम’ अध्यक्ष और रिटायर्ड आईपीएस अफसर एम नागेश्वर राव अपने ट्वीट्स को लेकर चर्चा में हैं. उन्होंने सोशल एक्टिविस्ट स्वामी अग्निवेश के निधन के कुछ घंटों बाद ही कहा, ‘अच्छा छुटकारा मिला, स्वामी अग्निवेश.’ साथ ही उन्होंने स्वामी अग्निवेश को एंटी हिंदू, हिंदू धर्म का नुकसान करने वाला बताया. नागेश्वर राव ने अपने ट्वीट में कहा, ”मैं शर्मिंदा हूं कि तुम तेलुगू ब्राह्मण के रूप में पैदा हुए. यमराज से मेरी शिकायत है कि उन्होंने इतना इंतज़ार क्यों किया?”

अग्निवेश पर नागेश्वर राव ने बैक टू बैक ट्वीट और रीट्वीट किए. अभी आप जाकर चेक करेंगे तो उनका ट्विटर ‘अग्निवेश विरोध’ से भरा पड़ा है. बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के उस ट्वीट को राव ने रीट्वीट किया, जिसमें कपिल मिश्रा ने कहा, ”राक्षसों, धर्म द्रोहियों, ढोंगियों की मृत्यु पर हर्ष मनाना हिन्दू धर्म है.”

11 सितंबर को अग्निवेश का निधन

स्वामी अग्निवेश का 81 साल की उम्र में 11 सितंबर को निधन हो गया. वो लंबे समय से बीमार थे. उनके लिवर में दिक्कत थी और मल्टी ऑर्गन फेल्योर हो गया था. दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बायलियरी साइंसेज (ILBS) में उनका इलाज चल रहा था. आर्य समाजी होने के नाते स्वामी अग्निवेश मूर्ति पूजा के विरोधी थे. सामाजिक कार्यकर्ता थे. बंधुआ मजदूरों को स्वतंत्र कराने और अन्ना आंदोलन में हिस्सा लेने की वजह से वो जाने गए.

नागेश्वर के ट्वीट की आलोचना

नागेश्वर राव के ट्वीट्स के बाद उनकी आलोचना भी शुरू हुई. इंडियन पुलिस फाउंडेशन (IPF) ने उन्हें घेरते हुए लिखा,

”इस तरह के नफरती मेसेज एक रिटायर्ड अफसर की तरफ से ट्ववीट करना, जो खुद को आईपीएस अधिकारी कहतें हैं. उन्होंने पुलिस की वर्दी को अपवित्र किया है. उन्होंने देशभर के पुलिस फोर्स खासकर नए अफसरों का मनोबल कम किया है.”

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा,

”स्वामी अग्निवेश आरएसएस की तरफ से आर्य समाज को निगलने से रोकने के लिए चट्टान की तरह खड़े रहे. हिंदू होने के नाते, मैं इस बात का मुरीद हूं कि मेरा धर्म चार्वाक को मानने वालों को भी जगह देता है. हिंदू धर्म बहुत बड़ा, गहरा और सुरक्षित है और ऑफिसर, आपकी इस तरह की बेवकूफी भरी नफरत को खारिज भी करता है.”

इतिहासकार एस इरफान हबीब ने कहा,

”आप एक अपमान की तरह हैं. कल्पना कर सकता हूं कि पुलिस अफसर के रूप में आपने क्या किया होगा? मृतक को गाली देना हिंदुत्व हो सकता है लेकिन निश्चित तौर पर हिंदू धर्म नहीं है. कभी नहीं से देरी भली. अपना इलाज कराइए.”

CBI बनाम CBI

साल 2018 में जब CBI बनाम CBI वाला झगड़ा सामने आया था और तत्कालीन CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा और उनके डिप्टी राकेश अस्थान लड़ पड़े थे, तब आलोक वर्मा को हटाकर नागेश्वर राव को 23 अक्टूबर, 2018 को अंतरिम सीबीआई डायरेक्टर बनाया गया था. इसके बाद उन्हें फायर सर्विसेज, सिविल डिफेंस और होम गार्ड का डायरेक्टर जनरल बनाया गया. जुलाई, 2020 में वो रिटायर हो चुके हैं. ये पहली बार नहीं है जब नागेश्वर राव अपने बयान की वजह से विवादों में आए हों. इससे पहले भी वो ‘हिंदुत्व’ को लेकर अपने ‘विचार’ प्रस्तुत करते रहे हैं.


मोदी के नारे लगाते हुए आए और स्वामी अग्निवेश को बुरी तरह पीटकर चले गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जो काम खुद बाल ठाकरे करते थे, शिवसेना वालों ने उसी के लिए एक्स नेवी ऑफिसर को पीट दिया!

पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

क्या यूपी में कोविड किट खरीद में घोटाला हुआ है? जांच के लिए SIT बनी

बीजेपी नेताओं ने ही घोटाले का आरोप लगाया है. ताजा मामला सहारनपुर से आया है.

जोकोविच ने अंपायर को गेंद मार घायल किया, उसके बाद जो हुआ वो क्रिकेट फैन्स के लिए सीख है

और इंडिया के बड़े सुपरस्टार्स के लिए भी.

ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती गिरफ्तार, आरोप साबित हुए तो 10 साल कैद हो सकती है

भाई शौविक और सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा पहले ही अरेस्ट हो चुके हैं.

GDP गिरने पर रघुराम राजन ने सरकार को बहुत बड़ी नसीहत दे दी है

किस बात पर रघुराम राजन ने कहा, 'सरकार अपने खोल में चली गयी'

अर्जुन कपूर के बाद मलाइका अरोड़ा भी कोरोना पॉज़िटिव!

मलाइका की बहन ने एक न्यूज़ वेबसाइट को दी जानकारी.

एक्टर और सांसद अनुभव मोहंती पर पत्नी ने घरेलू हिंसा का आरोप लगाया

कोर्ट में याचिका दायर की, सात सितंबर को होगी सुनवाई.

बेंगलुरु से पहला केस सामने आया, कोरोना को लेकर जिस बात का डर था, वही हुआ!

डॉक्टरों ने भी इसी बात का डर जताया था.

अर्जुन कपूर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव, घर में ही खुद को आइसोलेट किया

इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर जानकारी दी.

गुजरात दंगा: तीन मामलों से कोर्ट ने पीएम नरेंद्र मोदी का नाम हटाया

कोर्ट ने कहा- “आरोप अस्पष्ट हैं. सबूत नहीं हैं.”