Submit your post

Follow Us

U-19 वर्ल्ड कप के सबसे सफल देश ने इसे कभी होस्ट क्यों नहीं किया ?

साउथ अफ्रीका में अंडर-19 वर्ल्ड कप चल रहा है. सेमी-फाइनल में पाकिस्तान को हराकर टीम इंडिया फाइनल में पहुंच चुकी है. रविवार, नौ फरवरी को होने वाले फाइनल में टीम को बांग्लादेश से भिड़ना है. भारतीय अंडर-19 टीम इस वर्ल्ड कप की सबसे सफल टीम है. भारत ने चार बार वर्ल्ड कप जीता है. मज़े की बात यह है कि भारत ने चारों बार यह कारनामा विदेश में किया है.

साल 1988 में शुरू हुए इस टूर्नामेंट में भारत का रिकॉर्ड देखते हुए एक सवाल अक्सर उठता है- हमने कभी इस इवेंट को अपने घर में आयोजित क्यों नहीं किया? भारत लगातार तीसरी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा है. कई बार कहा जा चुका है कि BCCI ने इस टूर्नामेंट को इसलिए नहीं आयोजित किया क्योंकि इसमें फायदा नहीं होता. लेकिन अब BCCI के दो पूर्व ऑफिशल्स ने साफ किया है कि ऐसा नहीं है.

# नहीं रहा इंट्रेस्ट

BCCI के पूर्व कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी और पूर्व सेक्रेटरी निरंजन शाह से इस बारे में सवाल हुआ. दोनों ने ही इसके बारे में लगभग एक जैसे जवाब दिए. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस बारे में चौधरी ने कहा,

‘यह सवाल ICC से होना चाहिए. यह उन पर है कि वह अंडर-19 वर्ल्ड कप को कैसे होस्ट और प्रमोट करना चाहते हैं. मैं नहीं सोचता कि भारत द्वारा इसका आयोजन ना करने के पीछे प्रॉफिट का ना होना जिम्मेदार है. BCCI घरेलू क्रिकेट पर करोड़ों खर्च कर रहा है, जो कि एक गैर-लाभकारी काम है.

भारत में अंडर-19 वर्ल्ड कप का ना होना BCCI से ज्यादा ICC का मामला है. वर्ल्ड कप को अलॉट करने का मामला ICC की एग्जिक्यूटिव कमिटी देखती है. पिछली बार यह 2014 में हुआ था जब 2015 से 2023 तक का साइकल तय किया गया था. ऐसा लगता है कि BCCI ने जूनियर इवेंट को होस्ट करने में कभी इंट्रेस्ट ही नहीं दिखाया.’

जब इस बारे में शाह से पूछा गया तो उन्होंने कहा,

‘मैं नहीं सोचता कि हम अंडर-19 वर्ल्ड कप के ख़िलाफ हैं. प्रॉफिट का ना होना कोई मुद्दा नहीं है. बात बस इतनी है कि यह कभी भारत नहीं आया. दूसरी तरफ, यह हमारे लड़कों के लिए बेहतर रहा है कि उन्होंने इसे ऐसे हालात में जीता जो उन्हें घर में नहीं मिलती. यह उनके विकास में सहायक है. और साथ ही इस टूर्नामेंट को मलेशिया और UAE जैसे देशों में कराने से गेम का प्रमोशन भी होता है.’

आपको बता दें कि अंडर-19 वर्ल्ड कप सबसे ज्यादा बार न्यूज़ीलैंड में खेला गया है. कीवीज ने तीन बार इस टूर्नामेंट की मेजबानी की है. ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और बांग्लादेश ने इसे दो-दो बार आयोजित किया है.


अंडर-19 वर्ल्ड कप: इंडियन क्रिकेट टीम ने न्यूजीलैंड को हराया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.