Submit your post

Follow Us

सरकार ने PF पर ब्याज बढ़ाकर कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दिया है

देश के छह करोड़ कर्मचारियों को केंद्र सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है. कर्मचारियों के पीएफ पर साल 2018-19 के दौरान अब 8.55 के बजाय 8.65 फीसदी ब्याज मिलेगा. इसी साल फरवरी में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी EPFO ने कर्मचारियों के प्रोविडेंट फंड पर 0.10 फीसदी ब्याज ज्यादा देने का फैसला लिया था. साल 2016 से पीएफ पर 8.55 फीसदी ब्याज मिल रहा था. ब्याज दर बढ़ाने का फैसला फरवरी में केंद्रीय श्रम राज्यमंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता वाले कर्मचारी भविष्य निधि संगठन न्यासी बोर्ड ने लिया था. ये बोर्ड ही हर साल कर्मचारियों की जमा भविष्य़ निधि की ब्याज दर पर फैसला लेता है. बोर्ड के प्रस्ताव पर वित्त मंत्रालय मंजूरी देता है. इसके बाद ब्याज दर को खाताधारक या अंशधारक के खाते में डाला जाता है. जिस पर सात महीने बाद वित्त मंत्रालय ने मुहर लगा दी है.

पहले कितनी ब्याज दर मिल रही थी?

साल 2012-13 में पीएफ पर 8.5 फीसदी ब्याज मिलता था. फिर 2014-15 में ये 8.75 फीसदी हो गई. 2015-16 में ब्याज दर बढ़कर 8.8 फीसदी हो गई थी. फिर 16-17 में इसे 8.55 फीसदी कर दिया गया था. तब से यही ब्याज दर चल रही थी. 2019 के आम चुनाव के मद्देनजर माना जा रहा था कि ये ब्याज दर स्थिर रह सकती है या बढ़ाई जा सकती है. जिसके बाद फरवरी में ईपीएफओ ने इसे बढ़ाने का फैसला किया था.

 कर्मचारी को 58 साल के उम्र के बाद पेंशन मिलती है. इसके लिए 10 साल नौकरी जरूरी है. सांकेतिक तस्वीर. इंडिया टुडे.
कर्मचारी को एक उम्र के बाद पेंशन मिलती है. इसके लिए 10 साल नौकरी जरूरी है. सांकेतिक तस्वीर. रॉयटर्स.

क्या होता है ईपीएफओ?
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ साल 1951 में बना. कर्मचारियों के लिए. इसके ऑफिस में ऐसी सभी कंपनियों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है, जहां 20 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं. हर कंपनी के लिए ये ज़रूरी होता है कि वो कर्मचारियों का एक पीएफ खाता खुलवाए. और फिर उसमें कुछ पैसा जमा कराए. इसका मकसद निजी कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों को एक सामाजिक सुरक्षा देना है. मतलब ये कि इस पैसे से कर्मचारियों के भविष्य की जरूरतों के लिए कुछ पैसों की बचत हो जाती है.

कैसे जमा होता है पैसा?
किसी भी कंपनी में काम करने वाले कर्मचारी का हर महीने कुछ पैसा काटा जाता है. ये बेसिक सैलरी का 12 फीसदी होता है. इसमें इतना ही योगदान यानी 12 फीसदी पैसा कंपनी की तरफ से दिया जाता है. कर्मचारी के हिस्से की 12 फीसदी रकम उसके ईपीएफ खाते में जमा हो जाती है. जबकि कंपनी के हिस्से में से केवल 3.67 फीसदी ही कर्मचारी के ईपीएफ खाते में जमा होता है. बाकी 8.33 परसेंट रकम कर्मचारी पेंशन योजना यानी ईपीएस में जमा हो जाती है. कर्मचारी अपनी बेसिक सैलरी में से 12 फीसदी से ज्यादा रकम भी कटा सकता है. इस पर भी टैक्स छूट मिलती है. मगर कंपनी केवल 12 फीसदी का ही योगदान करती है. ईपीएफ में बैंक की तरह नामांकन की भी सहूलियत होती है. कर्मचारी के साथ कैजुअल्टी की दशा में नॉमिनी को सारा पैसा मिल जाता है.

कितनी पेंशन मिलती है?
जैसा पहले बताया कि कंपनी के हिस्से की 8.33 फीसदी रकम पेंशन स्कीम में जाती है. कर्मचारी को 58 साल के उम्र के बाद पेंशन मिलती है. इसके लिए 10 साल नौकरी ज़रूरी है. पेंशन 1000 रुपए से 3250 रुपए महीने तक हो सकती है. ये पेंशन खाताधारक को आजीवन मिलती है.

एडवांस पैसा निकालने का क्या तरीका है?
पीएफ खाते से पैसा निकाला भी जा सकता है. कर्मचारी खुद की या परिवार में किसी की बीमारी पर सैलरी का छह गुना पैसा निकाल सकते हैं. कर्मचारी अपनी शादी में या परिवार में किसी की शादी या पढ़ाई के लिए जमा रकम का 50 फीसदी निकाल सकता है. होम लोन चुकाने के लिए सैलरी का 36 गुना पैसा पीएफ से मिल जाता है. घर की मरम्मत के लिए सैलरी का 12 गुना और घर खरीदने के लिए भी पैसा निकाल सकते हैं.


वीडियोः शहीदों की मदद के लिए बने बैंक अकाउंट की सच्चाई क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

गवाह प्रभाकर सेल का दावा-8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बात हुई थी.

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

लिंक करने का पूरा प्रोसेस बता रहे हैं, जान लीजिए.

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

सपा ने ट्वीट कर कहा- 2022 में मिलकर करेंगे बीजेपी को साफ़!

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी के आरोप में पुलिस ने पकड़ा था सफाईकर्मी को.

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.