Submit your post

Follow Us

ब्रॉड के कहर से विंडीज़ को अब बस इंद्र देव ही बचा सकते हैं!

गली क्रिकेट का एक अलिखित नियम है- जिसका बैट और बॉल होगा, वो पहले बैटिंग भी करेगा और सबसे पहले बोलिंग भी. इंग्लैंड के ऑल-राउंडर स्टुअर्ट ब्रॉड नॉटिंघम के ऐसे ही बच्चे रहे होंगे. तभी तो जब बोलिंग आती है, तो वहां कमाल कर देते हैं. और जब बैटिंग आती है तो वहां जमकर बल्ला चलाते हैं.

कोरोना काल के बीच मैनचेस्टर में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ के बीच सीरीज़ का आखिरी टेस्ट खेला जा रहा है. अभी दो दिन का खेल ही हुआ है और स्टुअर्ट ब्रॉड-जेम्स एंडरसन की जोड़ी ने इंग्लैंड को मैच और सीरीज़ दोनों का फेवरेट्स बनवा दिया है. मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड ने अपनी पहली पारी 369 पर खत्म की. फिर उनके बोलर्स ने वेस्टइंडीज़ की टीम का मामला पूरी तरह से डांवाडोल कर दिया. दूसरे दिन का खेल खत्म होते-होते वेस्टइंडीज़ ने सिर्फ 137 रन पर छह विकेट गंवा दिए. वेस्टइंडीज़ की टीम मैच में अब भी इंग्लैंड से 232 रन पीछे है.

चलिए अब आपको दिन की पूरी कहानी बताते हैं

दूसरे दिन इंग्लैंड की टीम 258 रन पर 4 विकेट से आगे खेलने आई. लग रहा था कि जोस बटलर और ओली पोप की जोड़ी इंग्लैंड को बड़े स्कोर की तरफ ले जाएगी. लेकिन आज का दिन तो मानो गेंदबाज़ों के नाम ही लिखा था. दिन की शुरुआत में ही शैनन गेब्रियल ने अपना कमाल शुरू कर दिया. खेल शुरू होने के चार रन बाद ही ओली पोप, गेब्रियल की गेंद पर बोल्ड हो गए. वो कल के 91 के स्कोर में एक रन भी नहीं जोड़ पाए.

इसके बाद रोच भी कहां पीछे रहने वाले थे. उन्होंने वोक्स का डंडा बाहर कर दिया. रोच ने इस विकेट के साथ वो कारनामा भी कर दिया जो वेस्टइंडीज़ क्रिकेट में पिछले 26 सालों में तो नहीं ही हुआ. माने, उन्होंने 200 टेस्ट विकेट पूरे कर लिए. कर्टनी वॉल्श के बाद और रोच से पहले कोई भी तेज़ गेंदबाज़ विंडीज़ टीम के लिए 200 टेस्ट विकेट नहीं ले पाया था.

वोक्स के जाते ही अगले ओवर में जोस बटलर भी मानो अलग ही प्रेशर में गए. वो भी गेब्रियल की गेंद पर होल्डर को कैच देकर चलते बने. बटलर 67 के स्कोर पर आउट हुए.

18 रनों में चार विकेट लेकिन फिर भी नहीं बदला खेल:

देखते ही देखते इंग्लैंड ने 18 रनों के अंदर चार विकेट गंवा दिए. 280/8 विकेट के बाद लग रहा था कि आज वेस्टइंडियन 300 से पहले ही इंग्लिश टीम की पारी पूरी कर देंगे. लेकिन अभी कहां, अभी तो स्टुअर्ट ब्रॉड को अपनी पूरी बैटिंग करनी थी.

वो आए और ऐसे आए कि गेब्रियल, रोच, होल्डर, कॉर्नवाल सब देखते ही रह गए. ब्रॉड ने सिर्फ 33 गेंदों में इंग्लैंड की तीसरी सबसे तेज़ टेस्ट हाफ सेंचुरी जमा दी. ब्रॉड ने 45 गेंदों में 62 रनों की मैच टर्निंग पारी खेली और इंग्लैंड ने 369 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया.

दिन के पहले सेशन में छह विकेट गिरे और ये वेस्टइंडीज़ के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं था. क्योंकि लंच के बाद उन्हें स्टुअर्ट ब्रॉड, जेम्स एंडरसन, जोफ्रा आर्चर और क्रिस वोक्स की चौकड़ी का सामना करना था.

स्टुअर्ट ब्रॉड और एंडरसन की जोड़ी का आना तो अभी बाकी था:

चलिए आगे की कहानी सुनाते हैं. कहानी की शुरुआत में जिस लड़के ज़िक्र किया था. वो ही गेंद और बल्ले वाला. अब उस लड़के के हाथ में गेंद आ चुकी थी. बस फिर क्या था. पहले बॉल को बल्ले से धो रहे थे तो अब गेंद से बल्ले को छका रहे थे. ब्रॉड ने आते ही वेस्टइंडीज़ के सबसे धाकड़ बैट्समेन को चलता कर दिया. ब्रैथवेट, ब्रॉड के पहले ओवर में ही एक रन बनाकर आउट हो गए.

इसके बाद जॉन कैम्पबेल और शे होप ने कुछ कोशिश ज़रूर की. लेकिन जोफ्रा आर्चर ने कैम्पबेल को पहले गुड लेंग्थ पर गेंदें खिलाईं और फिर एक दम से चकमा देकर बाउंसर में फंसा लिया. कैम्पबेल 32 रन बनाकर चलते बने.

लेकिन अभी वर्ल्ड क्रिकेट के मौजूदा सबसे ग्रेट बोलर को अपना काम करना था. जी हां, हम बात कर रहे हैं लेजेंड जेम्स एंडरसन की. अपने होमग्राउंड पर दूसरा टेस्ट मिस करने के बाद वो तीसरे मैच में वापस आए.

लेकिन उन्होंने क्या झामफाड़ वापसी की. कप्तान ने 24वें ओवर में एंडरसन की तरफ गेंद फेंकी. उन्होंने तो भाईसाहब आग ही लगा दी. दूसरे स्पेल के पहले ओवर में शे होप को क्या कमाल की गेंद फेंकी. अंदर आती गेंद टप्पा पड़कर बाहर निकली और होप के बल्ले को चूमती हुई बटलर के दस्तानों में पहुंच गई. 17 रन बनाकर खेल रहे होप को फिर कोई होप नहीं दिखी.

T20 वर्ल्ड कप और एशिया कप की जगह IPL 2020 कराने पर शोएब अख्तर ने कुछ कहा है

चाय के बाद भी अंग्रेज़ों का राज़ कायम रहा:

विंडीज़ टीम तीन विकेट गंवाकर चाय पीने चली गई. लेकिन एंडरसन तो चाय से लौटकर भी नहीं ठहरे. इस बार ब्रूक्स को भी गेंद से चकमा दे दिया. ब्रूक्स के बल्ले का अंदर का किनारा लेकर गेंद फिर से बटलर के हाथों में. ब्रूक्स तो चार रन ही बना पाए.

इस स्पेल के पहले तीन ओवरों में एंडरसन ने एक भी रन नहीं दिया और दो विकेट भी चटकाए.

अब तक वेस्टइंडीज़ टीम के चार बल्लेबाज़ वापसी का रास्ता देख चुके थे. इसके बाद रोस्टन चेज़ और जर्माइन ब्लैकवुड ने कुछ संभालने की कोशिश की. लेकिन ब्रॉड फिर से आ गए. 73 का स्कोर आते-आते उन्होंने चेज़ को भी चलता कर दिया. चेज़ को तो उन्होंने ऐसी गेंद पर एलबीडब्ल्यू किया कि ना डीारएस की ज़रूरत पड़ी और ना ही अपील की. सीधे जश्न मनाना शुरू कर दिया.

बाकी रही सही कसर क्रिस वोक्स ने पूरी कर दी. 100 रन पार होते ही उन्होंने ब्लैकवुड को 26 के स्कोर पर बोल्ड मार दिया.

वेस्टइंडीज़ टीम के लिए आखिर में दिन की इकलौती अच्छी चीज़ हुई- खराब रोशनी. मैनचेस्टर के बादलों ने वेस्टइडीज़ को ऑल-आउट होने से बचा लिया और जैसे-तैसे उन्हें दूसरा दिन टालने का मौका दे दिया.

लेकिन फिर भी वेस्टइंडीज़ की टीम कब तक बचेगी. क्योंकि अभी उनके स्कोरबोर्ड पर 6 विकेट के नुकसान पर 137 रन हैं. और वो इंग्लैंड के स्कोर से 232 रन पीछे है.

दूसरे दिन के खेल से ये साफ है कि इंग्लैंड की टीम इस मैच में एकतरफा आगे है. अब वेस्टइंडीज़ को इस मैच में या तो दो दिन की बारिश या फिर कोई चमत्कारिक पारी ही जिता सकती है.


IND vs AUS 1999 सीरीज़ में सचिन को LBW देने वाले अंपायर डेरल हार्पर ने क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.

इन तीन परिवारों के उजड़ने की कहानी से समझिए कि कोरोना से बचाव कितना ज़रूरी है

पहले मां की मौत, फिर एक के बाद एक 5 बेटों की मौत

दिशा सालियान की मौत के बाद क्या सुशांत सिंह ने डिप्रेशन की दवाइयां लेनी बंद कर दी थीं?

डॉक्टर ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में बताया

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन नहीं रहे

वो 85 बरस के थे, कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

उत्तर बिहार में हर साल क्यों आती है बाढ़, अभी कैसे हैं हालात

भौगोलिक स्थिति समझना बहुत जरूरी है.

बिहार महादलित विकास मिशन घोटाला: 'स्पोकन इंग्लिश' के नाम पर कैसे हुई हेरा-फेरी

एक निलंबित और तीन रिटायर्ड IAS अधिकारियों समेत 10 लोगों पर FIR.