Submit your post

Follow Us

इंग्लैंड ने रचा इतिहास, कोहली सोच रहे होंगे ऐसा उनके साथ होता तो वो भी फाइनल में होते

5
शेयर्स

वर्ल्डकप 2019. दूसरा सेमीफाइनल. ऑस्ट्रेलिया वर्सेज इंग्लैंड. एक तरफ वो टीम ऑस्ट्रेलिया जो कभी वर्ल्डकप के सेमीफाइनल में नहीं हारी. दूसरी तरफ प्रचंड फॉर्म में दिख रही इंग्लैंड जो कभी वर्ल्डकप नहीं जीती. दोनों ही टीमों में राइवैलरी भी ऐसी जैसे भारत वर्सेज पाकिस्तान मैच में होती है. और ये राइवैलरी इस मैच में खत्म हुई इंग्लैंड की जीत के साथ. माने वर्ल्डकप फाइनल के लिए दूसरी टीम मिल गई. मेजबान इंग्लैंड जिसकी भिड़ंत अब फाइनल में न्यूजीलैंड से होगी.

मैच की शुरू से बात करें तो टॉस जीत कर ऑस्ट्रेलिया ने लपक कर बैटिंग ली. मगर ये फैसला पड़ गया उलटा. दोनों ओपनर एरॉन फिंच और डेविड वॉर्नर दहाई का आंकड़ा नहीं पार कर सके. सबसे पहला विकेट गिरा एरॉन फिंच का. मैच के दूसरे ओवर में. जोफरा आर्चर ने अपनी पहली गेंद पर ही फिंच को एलबीडब्लू कर चलता कर दिया. 0 के स्कोर पर. इसके बाद आउट हुए वर्ल्डकप में चरम फॉर्म में चल रहे डेविड वॉर्नर. इस मैच में शायद ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे बड़ी उम्मीद. मैच की पहली बॉल पर ही चौका मारा तो जनता ने पक्का शतक की उम्मीद भी लगा ली होगी. मगर 9 रन के स्कोर पर वो क्रिस वोक्स की एक स्विंग करती शॉर्ट बॉल में एज छुआ बैठे. इसके बाद आए हैंड्सकॉम्ब भी वोक्स की एक इन स्विंगर को सूंघ नहीं पाए. और 7वें ओवर में बोल्ड हो गए. 4 रन के स्कोर पर. ऑस्ट्रेलिया का स्कोर हो गया 14 रन पर 3 विकेट.

मैदान पर अब थे स्टीव स्मिथ और एलेक्स कैरी. मगर 8वें ओवर में ऑस्ट्रेलिया को एक और झटका लगा. विकेट नहीं गिरा था. जोफरा आर्चर की गेंद कैरी के हेलमेट के नीचे उनकी ठुड्डी पर लगी. और हेलमेट उतारके कैरी ने देखा तो उनके खून बहने लगा था. तुरंत मेडिकल टीम मैदान पर आई. फर्स्ट एड दिया गया कैरी को. और खास बात ये रही कि कैरी वापस नहीं लौटे. पट्टी बंधवा के डटे रहे. मैच का हाल देखकर तो ऐसा लगा जैसे टीम इंडिया की हाइलाइट्स देख रहे हों. खैर कैरी और स्मिथ ने पारी संभाली. दोनों सेट हो गए. 100 रन की पार्टनरशिप पूरी हुई. मगर ये 103 ही हुई थी कि कैरी एक बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में राशिद की गेंद पर कैच दे बैठे. 46 रन पर आउट हो गए.

इससे ट्रैक पर लौटी ऑस्ट्रेलियन पारी एक बार फिर लड़खड़ा गई. स्टोनिस अपनी दूसरी बॉल पर ही राशिद की गेंद पर 0 के स्कोर पर एलबीडब्लू हो गए. मैक्सवेल आए मगर वो भी 22 रन बना सके. कमिंस भी 6 के स्कोर पर राशिद का शिकार बने. दूसरी तरफ से स्मिथ डटे थे. एक बार फिर उनको दूसर तरफ से साथ मिलना शुरू हुआ मिचेल स्टार्क का. मगर 47वें ओवर में जब टीम को अच्छी फिनिश की जरूरत थी. स्मिथ खुद वोक्स का शिकार बने. और उनकी 119 बॉलों पर 85 रनों की जुझारू पारी का दी एंड हो गया. ऑस्ट्रेलियन टीम कुल मिलाके 223 रन बना सकी. 49 ओवरों में. 6 गेंद रहते ही ऑलआउट हो गई.

इंग्लैंड के सामने 224 का टारगेट था. लोग कयास लगा रहे होंगे कि कहीं इंग्लैंड के साथ भी तो वही नहीं होगा जो इंडिया के साथ हुआ था. चेज करते वक्त. पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. जैसन रॉय और बैरस्टो ने टीम को ताबड़तोड़ शुरुआत दिलवाई. लगा जैसे मैच किसी और मैदान पर हो रहा हो. रॉय तो खासतौर पर कुटाई कर रहे थे. क्या स्टार्क, क्या बेहरनड्रॉफ, क्या कमिंस, क्या लॉयन. जो आ रहा था, प्रसाद लेकर जा रहा था. इंग्लैंड पहला विकेट गिरा सकी 18वें ओवर में. 124 के स्कोर पर. बैरस्टो का. उन्होंने 34 रन बनाए 43 बॉलों में. स्टार्क ने एलबीडब्लू आउट किया. मगर रॉय नहीं रुक रहे थे. किसी बॉलर के बस का नहीं दिख रहा था उन्हें आउट करना. तो ये काम कर दिया अंपायर साहब ने. कमिंस की बॉल पर वाइड जाती गेंद पर एज लगने की अपील हुई थी. अंपायर ने इसे आउट दे दिया. रॉय बहुत नाराज हुए. मगर रिव्यू बचा नहीं था. रॉय बेचारे 65 बॉल पर 85 रन बनाके लौटे. 9 चौके और 5 छक्के लगाए. सेंचुरी से चूक गए. रॉय जब आउट हुए तो 19.4 ओवर पर इंग्लैंड का स्कोर 147 था. जीत के लिए महज 77 रन चाहिए थे. 180 बॉलों में. तो ये हलुआ काम निपटा दिया मॉर्गन और जो रूट ने. 33वें ओवर की पहली गेंद पर. रूट 49 पर नॉटआउट रहे तो कप्तान मॉर्गन 45 पर नॉटआउट रहे. इंग्लैंड ने 8 विकेट से ये मैच अपने नाम किया.

अब वर्ल्डकप की आखिरी तारीख है 14 जुलाई. फाइनल की तारीख. जो होगा न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच. और ये घमासान भी भीषण होने वाला है.


वीडियो- जब भारत-श्रीलंका के बीच हुए वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में दंगा भड़कने की स्थिति बन गयी थी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस में मचा हंगामा, तो योगी ने की ये बड़ी कार्रवाई

सेक्स चैट से शुरू हुआ था मामला, "घूसखोरी" और पोस्टिंग पर अटकी बात

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...