Submit your post

Follow Us

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

1.22 K
शेयर्स

लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान भाजपा के लगभग सभी शीर्ष नेताओं ने महागठबंधन के बारे में ऐलान किया था कि चुनाव बाद यह गठबंधन टूटने लगेगा. शायद ऐसा हो भी रहा है. इसके संकेत सबसे पहले मुलायम सिंह यादव ने सपा नेताओं के साथ मीटिंग में दिए. नए संकेत बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती की ओर से आ रहे हैं.

सोमवार यानी 3 जून को बसपा के सांसदों और जिलाध्यक्षों के साथ मायावती ने बैठक की. मायावती ने इस बैठक में कहा है कि उन्हें सपा के साथ गठबंधन से अपेक्षित परिणाम नहीं मिले. मायावती ने यह भी कहा कि वे गठबंधन की समीक्षा करेंगी.

ये चुनाव परिणाम मायावती के लिए अपेक्षाकृत अच्छे माने जा रहे हैं.
ये चुनाव परिणाम मायावती के लिए अपेक्षाकृत अच्छे माने जा रहे हैं. लेकिन मायावती गठबंधन से नाख़ुश हैं.

यूपी विधानसभा की 11 सीटें मौजूदा समय में खाली हैं. इन सीटों के विधायक इस साल लोकसभा चुनाव लड़कर सांसद चुने गए. मायावती ने यूपी की इन 11 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनावों पर अकेले लड़ने के संकेत भी दिए.

बसपा प्रमुख ने यह भी कहा कि 50 फीसद वोट पाने का लक्ष्य लेकर हमें राजनीति करनी है.

लोकसभा चुनाव के दौरान सपा और बसपा के वोटो के एक दूसरे को ट्रांसफ़र होने पर चर्चाएं होती रही थीं. यादव वोटों के बाबत मायावती ने मीटिंग में कहा कि अपेक्षा के अनुरूप यादव वोट बसपा के प्रत्याशियों को ट्रांसफ़र नहीं हुए.

शिवपाल यादव पर मायावती ने भाजपा को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया. मायावती ने कहा कि शिवपाल यादव ने भाजपा को वोट ट्रांसफ़र कराए, और समाजवादी पार्टी इसे रोक नहीं पाई.

आज़मगढ़ की दीदारगंज विधानसभा से बसपा विधायक सुखदेव राजभर ने कहा है,

“संगठन का ढांचा बहिनजी ने बदल दिया है. पार्टी की कई सारी कमेटियों को बहनजी ने भंग कर दिया है. मायावती जी ने टिप्पणी की कि गठबंधन के बावजूद जिस नतीजे की अपेक्षा थी वह नहीं हुई.”

चुनाव के पहले सपा और बसपा ने राष्ट्रीय लोकदल के साथ मिलकर महागठबंधन का ऐलान किया था. महागठबंधन के गठन के समय सपा और बसपा ने एक दूसरे के साथ 38-38 सीटें बांट ली थीं.

इस लोकसभा चुनाव में बसपा का प्रदर्शन 2014 की तुलना में बेहतर माना जा रहा है. 2014 में एक भी लोकसभा सीट न जीत पाने वाली बसपा ने 2019 में 10 लोकसभा सीटें जीती हैं. जबकि सपा के खाते में महज़ 5 सीटें आयीं हैं. सपा परिवार के तीन सदस्य धर्मेन्द्र यादव, डिम्पल यादव और अक्षय प्रताप यादव भी अपना चुनाव हार गए.

मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल के पार्टी में न रहने को भी हार का एक बड़ा कारण करार दिया
मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल के पार्टी में न रहने को भी हार का एक बड़ा कारण करार दिया

सुखदेव राजभर ने यह भी कहा कि मायावती जी ने चिंता जताई कि अखिलेश यादव के परिवार की तीन सीटें हारने के पीछे शिवपाल यादव बड़ी वजह रहे हैं.

गठबंधन टूटने के सवाल पर राजभर ने कहा कि ये तो पार्टी के बड़े नेता बताएंगे कि गठबंधन रहेगा या टूटेगा. लेकिन पार्टी विधानसभा उपचुनाव लड़ेगी.

मीडिया में खबरें आई हैं कि बीते हफ्ते सपा नेताओं के साथ हुई मीटिंग में भी मुलायम सिंह यादव ने आधी सीटें बसपा को देने पर सवाल उठाया था. मुलायम ने शिवपाल को पार्टी से अलग करने पर भी आपत्ति जताई थी.


लल्लनटॉप वीडियो: इन महिलाओं को मिली है मोदी कैबिनेट में जगह

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली

अब दोनों मुल्कों के लोग बधाइयां दे रहे हैं.

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

योगी, मोदी का डंडा चला है.

क्या गिरफ़्तारी के डर से गायब हो गए हैं चिदंबरम?

INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री को खोज रही हैं CBI और ED.

पिता ने मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगाई, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर मार डाला

लड़की की उम्र सिर्फ 15 साल है.

अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकलेंगे एटीएम से पैसे

बस नोटबंदी न हुई हो.

जावेद मियांदाद ने कहा, भारत को न्यूक्लियर बम मारकर साफ कर देंगे

जेंटलमैन्स गेम से जुड़े खिलाड़ी की अभद्र भाषा.

क्या है कोहिनूर मिल केस, जिसकी जांच के दायरे में राज ठाकरे आ गए?

वरिष्ठ शिवसेना नेता मनोहर जोशी के बेटे का भी नाम आया है.

जिस वायरल लड़के को 'उसैन बोल्ट' बता रहे थे, पहली रेस में उसका क्या हुआ?

शिवराज सिंह ने ट्वीट किया था, अब स्पोर्ट्स मिनिस्टर ने बताया- अब क्या होगा.

MP के सीएम कमल नाथ का भांजा गबन के इल्ज़ाम में गिरफ्तार

मामा सीएम हैं. लेकिन रतुल के दिन ठीक नहीं चल रहे.

टीम इंडिया की सबसे बड़ी दिक्कत का इलाज कोच शास्त्री और कोहली ने निकाल लिया है!

ये मसला पहले सुलझा होता तो वर्ल्डकप सेमीफाइनल में वो न होता जो हुआ.