Submit your post

Follow Us

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

196
शेयर्स

आज यानी 4 जून को प्रेस कांफ्रेंस करके बसपा प्रमुख मायावती ने आज सपा और बसपा के गठबंधन के बारे में बहुप्रतीक्षित ऐलान कर दिया. मायावती ने प्रेस कांफ्रेस में घोषणा की कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव में अकेले लड़ेगी.

राजनीतिक जानकार इसे सपा और बसपा के गठबंधन में एक गांठ की तरह देख रहे हैं. कल ही दिल्ली के पार्टी मुख्यालय में पार्टी के सांसदों और जिला प्रमुखों के साथ बैठक में मायावती ने इसके संकेत दिए थे.

आज अपनी प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा का वोट ही सपा को नहीं मिला. उन्होंने कन्नौज में डिम्पल यादव, बदायूं से धर्मेन्द्र यादव और फ़िरोज़ाबाद से अक्षय प्रताप यादव के चुनाव का हवाला दिया.

उन्होंने प्रत्याशियों के हारने का हवाला देते हुए कहा कि इन तीन सीटों पर यादव परिवार के ही सदस्य हार गए. मायावती ने कहा,

“जब सपा का वोट सपा को ही नहीं मिला है, तो बसपा को कैसे मिल सकता है?”

उन्होंने बसपा के काडर की खूबियां गिनाते हुए कहा कि सपा के काडर को बसपा के काडर की तरह कार्य करना चाहिए. मायावती की शिकायत थी कि उन्होंने चुनाव कैम्पेन में सपा काडर को बसपा काडर की तरह काम करते हुए नहीं देखा. सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ पर बात करते हुए मायावती ने कहा,

“अगर मुझे लगेगा कि आने वाले समय में सपा प्रमुख अपने राजनीतिक कार्यों के साथ-साथ अपने लोगों को मिशनरी बनाने में सफल हो जाते हैं, तो गठबंधन चलेगा. अगर अखिलेश इसमें सफल नहीं हो पाते हैं तो हमारा अकेले चलना ही बेहतर है.”

इस प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने ईवीएम पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि बसपा और सपा के मिले-जुले वोट भी हमारे प्रत्याशी को नहीं मिले, इसका मतलब है कि ईवीएम में गड़बड़ी हुई है. गौरतलब है कि 2017 के प्रदेश विधानसभा चुनाव के समय मायावती ने पहली बार ईवीएम की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए थे.

मायावती ने अपनी बातचीत की शुरुआत में गठबंधन की तारीफ की. लेकिन अगले ही पल उन्होंने “राजनीतिक विवशता” का हवाला दिया और सपा की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा दिए.

सपा नेता और जिला पंचायत सदस्त विजय यादव की हत्या के बाद गाजीपुर पहुंचे अखिलेश यादव ने भी बातचीत में गठबंधन ख़त्म करने के संकेत दिए.

मीडिया से बातचीत में अखिलेश यादव ने कहा,

“अगर गठबंधन टूटा है या गठबंधन पर जो बात रखी गई है, मैं उस पर सोच समझकर विचार करूंगा. जब गठबंधन है ही नहीं, तो हम सब विचार-विमर्श करके चुनाव की तैयारी करेंगे. हम विधानसभा उपचुनाव भी अकेले लड़ने पर विचार करेंगे.”


लल्लनटॉप वीडियो : यूपी में करारी हार के बाद मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव को क्या-क्या सुनाया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जब जेटली के घर के बाहर टांग दी गई थी- नो विजिटर अलाउड की तख़्ती

उस वक्त पहली बार ख़बर आई थी कि जेटली गंभीर रूप से बीमार हैं.

वेस्टइंडीज में टीम इंडिया अरुण जेटली को इस तरह दे रही है श्रद्धांजलि

जेटली बीसीसीआई में वाइस-प्रेसिडेंट रहे हैं.

मोदी पर फिल्म बनाने के बाद अब विंग कमांडर अभिनंदन पर फिल्म लेकर आ रहे हैं विवेक ओबेरॉय

विवेक ओबेरॉय क्यों कह रहे हैं कि 'बालाकोट एयरस्ट्राइक' के साथ करेंगे न्याय!

जांच रिपोर्ट में खुलासा, बालाकोट स्ट्राइक के दौरान क्रैश हुआ हेलिकॉप्टर वायु सेना की मिसाइल से गिरा था

बडगाम में क्रैश हुए Mi 17 में पायलटों समेत 6 वायुसैनिक मारे गए थे.

नहीं रहे पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली

पिछले 15 दिनों से एम्स के आईसीयू में थे भर्ती

बुमराह का ये रिकॉर्ड टेस्ट क्रिकेट में उन्हें इंडियन बॉलिंग की सनसनी साबित करने के लिए काफी है

वनडे के बाद टेस्ट मैचों में बुमराह का कमाल.

बाबा रामदेव ने बताया क्यों बिगड़ी थी आचार्य बालकृष्ण की तबीयत

अचानक तबीयत खराब होने के बाद आचार्य बालकृष्ण को एम्स में भर्ती कराना पड़ा था.

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड से कहा- करारा जवाब मिलेगा और लंका लगा दी

एक ओर जोफ्रा आर्चर थे तो दूसरी ओर हेजलवुड.

BCCI की टाइटल राइट्स डील में क्या झोल है?

ई-ऑक्शन नहीं होने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.

पतंजलि वाले बालकृष्ण को हार्ट अटैक आया, रेफर होने के बाद एम्स में भर्ती

पहले हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ के पास भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.