Submit your post

Follow Us

चिराग पासवान और पशुपति पारस के झगड़े में लोजपा का बहुत बड़ा नुकसान हो गया!

बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी यानी लोजपा में चाचा-भतीजे का जो झगड़ा चल रहा है, उसके चलते पार्टी को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है. चुनाव आयोग ने पार्टी के चुनाव चिह्न को अगले आदेश तक फ़्रीज़ कर दिया है. यानी पार्टी अब अपने चुनाव चिह्न का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी. लोजपा का चुनाव चिह्न है – बंगला.

चुनाव आयोग का ये फ़ैसला लोजपा के लिए और भी अहम इसलिए है, क्योंकि बिहार में खाली पड़ी 2 विधानसभा सीटों के लिए आने वाली 30 अक्टूबर को उपचुनाव होने हैं. ये दो सीटें हैं – मुंगेर जिले की तारापुर विधानसभा सीट और दरभंगा की कुशेश्वरस्थान सीट. लेकिन चूंकि पशुपति पारस और चिराग पासवान, दोनों ही चुनाव चिह्न पर अपना-अपना दावा ठोंक रहे थे, इसलिए आयोग ने कार्रवाई करने का फ़ैसला किया. आयोग ने आदेश जारी करते हुए कहा कि चिराग और पारस, दोनों में से किसी के भी गुट को लोक जनशक्ति पार्टी के नाम का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

जून से चल रहा विवाद

दरअसल लोजपा के भीतर का ये पूरा विवाद जून में शुरू हुआ था. चिराग पासवान 13 जून की रात तक 6 लोकसभा सांसदों वाली लोक जनशक्ति पार्टी के संसदीय दल के नेता और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी थे. फिर पांच सांसदों ने चाचा पशुपति कुमार पारस के नेतृत्व में उनके ख़िलाफ़ बगावत कर दी. सबसे पहले उन्हें लोजपा संसदीय देल के नेता के पद से हटाया गया, जिसे लोकसभा स्पीकर की मंजूरी भी मिल गई. फिर बागी सांसदों ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की आपातकालीन बैठक बुलाकर पार्टी के संविधान का हवाला दिया और चिराग को राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटा दिया गया. इस पर चिराग पासवान ने कार्रवाई करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के नाते पांचों सांसदों को पार्टी से निष्काषित कर दिया.

यहां से लोजपा में चाचा-भतीजे की जो लड़ाई शुरू हुई, वो अभी तक चल रही है. हालात ये हैं कि राम विलास पासवान की बनाई हुई लोजपा इस समय दो गुटों में बंटी हुई है. एक का नेतृत्व उनके बेटे चिराग कर रहे हैं तो दूसरे गुट का नेतृत्व उनके भाई पशुपति पारस. हालांकि, लोकसभा में पशुपति पारस गुट को ही स्पीकर ओम बिरला ने लोजपा के तौर पर मान्यता दी हुई है और केंद्र में भी लोजपा कोटे से पारस ही मंत्री भी हैं.


LJP में बगावत के पीछे BJP और उसके नेताओं का कितना हाथ है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 साल की लड़की के साथ पहले गैंगरेप फिर महिलाओं ने गंजा कर बाजार में घुमाया

20 साल की लड़की के साथ पहले गैंगरेप फिर महिलाओं ने गंजा कर बाजार में घुमाया

दूरदराज के इलाके में नहीं, यह राजधानी दिल्ली में हुआ है

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

क्या एक ग्रेजुएट और एक 12वीं पास को एक एक जैसा पेपर देना जायज है?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.