Submit your post

Follow Us

मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी बोले-तबलीगी जमात की वजह से लॉकडाउन बढ़ाना पड़ा

“आज हमें होप की ज़रूरत है, हॉरर की ज़रूरत नहीं है. कुछ लोग हॉरर का माहौल पैदा करके बाकियों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं. अभी मैं आज सुबह देख रहा था कि एक पार्टी के बहुत बड़े नेता हैं. आरोग्य सेतु, प्रवासियों से लेकर पीएमओ तक की बात कह डाली. मुझे लगता है कि राहुल बाबा को मम्मी जी का PMO याद आ रहा है, मोदी जी का PMO समझ नहीं आ रहा. मम्मी जी के PMO और मोदी जी के PMO में जमीन-आसमान का फर्क है. बिना तर्कों और तथ्यों के इतनी बड़ी लड़ाई को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करना कतई ठीक नहीं है.”

ये बात केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने कही. नकवी 9 मई को आज तक के ई-एजेंडा कार्यक्रम से जुड़े थे. वीडियो कॉल के माध्यम से.

भारत में कोरोना के इंपैक्ट पर उन्होंने कहा –

“आज हम सबको इस बात का संतोष होना चाहिए कि कोरोना की मारक क्षमता भारत में कमज़ोर हुई है.”

क्या कोरोना के वक्त में भी देश में इस्लामोफोबिया है?

इस सवाल पर नकवी ने कहा –

“आज़ादी के बाद देश में 9% से भी कम अल्पसंख्यक थे. आज 2011 की जनगणना के हिसाब से 20% से भी ज़्यादा हैं. यानी इस देश में अल्पसंख्यक फले भी, फूले भी और बढ़े भी हैं. मोदी जी के शासन में देश में दो करोड़ गरीब लोगों को घर दिए गए. इनमें से 31% अल्पसंख्यक समुदाय, विशेषकर मुस्लिम समुदाय के लोगों को घर मिला. 6 लाख घरों में बिजली पहुंचाई गई. इनमें से 39% गांव अल्पसंख्यक बाहुल्य थे.”

तबलीग़ी ज़मात का भी ज़िक्र हुआ. इस पर नकवी बोले..

“मैं मानता हूं कि तबलीग़ियों का गुनाह हिंदुस्तान के मुसलमानों का का गुनाह नहीं है. वो एक छोटी सी संस्था है, वहां के लोगों ने किया. कानून के तहत उन पर कार्रवाई होनी चाहिए. बेहतर तो होता कि वे ख़ुद सामने आकर बता देते. लेकिन दिक्कत ये है कि जिस तरह से पूरे मामले को जस्टिफाई करने की कोशिश की गई है.

उन्होंने आगे कहा,

राहुल गांधी जी ने सरकार पर सवाल पर सवाल किए. लेकिन उनके मुंह से हमने तबलीग़ी जमात पर एक शब्द नहीं सुना कि उन्होंने इसकी निंदा की हो या कार्रवाई करने की बात की हो. हो सकता है कि हमें लॉकडाउन-3 की ज़रूरत न पड़ती. लॉकडाउन-2 भी जल्दी खत्म हो जाता अगर इस तरह की आपराधिक लापरवाही न होती.”

गुज़रात के भूकंप का ज़िक्र किया

नकवी ने 2001 के गुज़रात के कच्छ में आए भूकंप का भी ज़िक्र किया. कहा कि जब भूकंप आया था, उसके कुछ समय पहले ही नरेंद्र मोदी गुज़रात के मुख्यमंत्री बने थे. लेकिन उस वक्त के सीएम मोदी ने उस डिज़ास्टर के समय ऐसा काम किया, जिसे दुनिया में केस स्टडी के तौर पर लिया जाने लगा.


स्पेशल ट्रेनें चलने के बाद भी मज़दूर घर क्यों नहीं लौट पा रहे!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

औरंगाबाद ट्रेन हादसे में बच गए मज़दूर ने कहा- हमने साथियों को चिल्लाकर जगाने की कोशिश की थी

रेल की पटरी पर सोए मजदूरों को मालगाड़ी ने कुचल दिया था, 16 की मौत हो गई थी.

राहुल ने जताई थी चिंता, रविशंकर प्रसाद ने बताया-आरोग्य सेतु ऐप में इकट्ठा डेटा का क्या होता है

आज तक ई-एजेंडा कार्यक्रम में बताया भारत वॉट्सऐप का देसी वर्जन तैयार करने में लगा है.

स्पेशल ट्रेन चल रही है, फिर भी पैदल ही क्यों घर चले जा रहे हैं लाखों मजदूर?

तमाम मज़दूरों की शिकायत है कि हेल्पलाइन नंबर पर भी मदद नहीं मिल रही.

चीन के वुहान मार्केट से कोरोना वायरस फैलने पर WHO ने बड़ी बात कही है

कोरोना वायरस के मामले दिसंबर 2019 से आने शुरू हो गए थे.

विराट के इस खिलाड़ी ने कहा, धोनी को इंडिया के लिए खेलना चाहिए!

'अगर वो खेलते हैं, फिर ये टीम के लिए बहुत आसान हो जाएगा.'

कोरोना वायरस के चलते इस आदमी का दुनिया में सबसे ज़्यादा नुकसान हुआ है

दुनियाभर की इकॉनमी पर लॉकडाउन.

चैपल बोले- ऐसे ऑस्ट्रेलिया में नहीं जीतेगा भारत, अब शमी ने सवाल सुने बिना ही जवाब दे दिया!

चैपल को क्यों लगता है, ऐसे तो ऑस्ट्रेलिया में इंडिया के चांस ज़ीरो हैं.

कैप्टन धोनी की तारीफ करते-करते रिकी पॉन्टिंग के बारे में ये क्या कह गए माइक हसी!

ऑस्ट्रेलियन फैंस को चुभेगी हसी की ये बात.

मुंबई में मीटिंग चल रही थी और साउथ फिल्म इंडस्ट्री 'ऊपर' से काम चालू करने की परमिशन ले आई

इस पूरे गेम के पीछे इस आदमी का हाथ है.

लॉकडाउन के बीच कैलाश मानसरोवर यात्रा को लेकर अच्छी खबर आई है

कई साल से चल रहा काम पूरा हो गया है.