Submit your post

Follow Us

जामिया में हिंसक प्रोटेस्ट के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में क्या चल रहा है?

सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट (CAA) 2019 के विरोध में देश भर में प्रदर्शन हो रहे हैं. पूर्वोत्तर के राज्यों से लेकर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) तक. जामिया मिल्लिया इस्लामिया (JMI) में पिछले तीन दिनों से प्रोटेस्ट जारी है. 15 दिसंबर को यह प्रदर्शन हिंसक हो गया. अभी बात उत्तर प्रदेश की.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में क्या हुआ?

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र CAA के विरोध में रहे हैं. 11 दिसंबर को जब यह बिल लोकसभा में पास हुआ था उसी दिन AMU के आसपास के क्षेत्र में धारा 144 लगा दी गई थी. इसके बाद भी छात्र विरोध करने आए. इसमें से कई छात्रों के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी.

इसके बाद 12 दिसंबर को AMU के शिक्षक संघ ने भी इसका विरोध करते हुए कहा कि यह आज़ाद भारत के इतिहास के सबसे काले दिनों में से एक है.

मामला बढ़ता गया. छात्र 13 दिसंबर को भी प्रोटेस्ट करने आए और इसको ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने दोपहर में इंटरनेट सस्पेंड कर दिया जो शाम तक सस्पेंड रहा. 14 दिसंबर को प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सिक्योरिटी और टाइट कर दी. 15 दिसंबर की शाम विरोध प्रदर्शन करने के लिए छात्र फिर से जमा हुए. कैंपस गेट पर CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सैकड़ों छात्रों को हटाने के लिए पुलिस ने आंसू-गैस के गोले इस्तेमाल किए. लाठीचार्ज किया.

15 दिसंबर की देर रात अलीगढ़ पुलिस ने जानकारी दी कि असामाजिक तत्वों की पहचान कर कर कार्रवाई की जा रही है. 10-15 असामाजिक तत्वों को हिरासत में लिया गया है.

AMU के रजिस्ट्रार अब्दुल हामिद ने न्यूज़ एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा-

कैंपस की स्थिति तनावपूर्ण है. कुछ लड़कों और असामाजिक तत्वों ने आकर पथराव किए. इसलिए हमने पुलिस से स्थिति को कंट्रोल करने के लिए कार्रवाई करने की अपील की.मौजूदा हालात को देखते हुए हमने यूनिवर्सिटी में आज से ही विंटर वेकेशन की घोषणा कर दी है. यूनिवर्सिटी अब 5 जनवरी को खोला जाएगा. इसके बाद ही परीक्षाएं होंगी.

इस पूरे मामले पर उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा-

जामिया की घटना के बाद AMU के छात्र जमा हुए. पुलिस ने तब उन्हें समझाने की कोशिश की और उन्हें कहा कि वे कैंपस से बाहर न निकलें, जिसके बाद उन्होंने पत्थर फेंके. इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे. इस पूरे मामले में 16-17 पुलिस वालों को चोट पहुंची है. केस रजिस्टर कर लिया गया है और हालत कंट्रोल में है. हम यूनिवर्सिटी खाली करवा रहे हैं और सभी छात्रों को घर भेजा रहा है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने क्या कहा?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी कॉलेज के बाहर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद डीजीपी ओपी सिंह से हालात के बारे में जानकारी ली है.

सीएम योगी ने लोगों से शांति बनाए रखने और CAA के बारे में अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि सरकार हरेक नागरिक की सुरक्षा के लिए है. इसके लिए, यह भी महत्वपूर्ण है कि नागरिक कानूनों का पालन करें.

AMU और JMI का मामला बढ़ता हुआ सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है. वरिष्ठ वकीलों की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने जामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में हुए हंगामे पर सुनवाई करने के लिए 17 दिसंबर की तारीख निर्धारित कर दी है. AMU और JMI को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा है, इसको लेकर विस्तार से आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

नदवा कॉलेज, लखनऊ में क्या हुआ?

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के बाद उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के नदवा कॉलेज में 16 दिसंबर की सुबह छात्रों ने प्रदर्शन किया. इस दौरान छात्रों ने पुलिसकर्मियों पर पत्थरबाजी की, पुलिस लगातार गेट बंद करने की कोशिश करती रही.

लखनऊ एसपी कलानिधि नैथानी ने ANI से बात करते हुए कहा-

करीब 30 सेकंड के लिए पथराव हुआ. करीब 150 लोग विरोध करने और नारे लगाने के लिए सामने आए थे. स्थिति अब सामान्य है. छात्र अपनी कक्षाओं में वापस जा रहे हैं.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हाल?

मेरठ

डीएम अनिल ढिंगरा ने बताया कि कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए 15 दिसंबर की दोपहर 12 बजे से 16 दिसंबर के 12 बजे तक जिले में इंटरनेट सेवाएं सस्पेंड कर दी गई है.

सहारनपुर

13 दिसंबर को देवबंद-मुज़फ्फरनगर हाईवे पर लोग CAA के विरोध में प्रोटेस्ट कर रहे थे. एसएसपी ने बताया था कि इस मामले को लेकर 200-250 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस रजिस्टर किया गया है. इस बाद भी मामला शांत होता नहीं दिखा तो जिला प्रशासन ने 15 दिसंबर को दोपहर 12 बजे से अगले नोटिस तक कानून व्यवस्था बनाए रखने को लेकर इंटरनेट को सस्पेंड कर दिया गया है.

अलीगढ़, मेरठ, सहारनपुर के साथ ही वाराणसी में भी इंटरनेट सस्पेंड कर दिया है. न्यूज़ एजेंसी IANS का ट्वीट देखिए.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कासगंज, बुलंदशहर और बरेली में सुरक्षा कारणों से इंटरनेट सेवा सस्पेंड कर दी गई है. इन क्षेत्रों में धारा 144 लगा दी गई है.


वीडियो- AMU के छात्र प्रोटेस्ट कर रहे थे, पर वहां के SSP ने जो कहा, फिर तारीफ होने लगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

यूपी में पैदल, ट्रक या अवैध वाहन से मज़दूरों की एंट्री पर योगी सरकार ने लगाया बैन

औरैया की घटना के बाद सीएम योगी ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए.

कांग्रेस की कौन सी योजना पीएम मोदी से लागू करने के लिए कह रहे हैं राहुल गांधी

राहुल ने दिल्ली में सड़क पर चलते मजदूरों से मुलाकात की.

निर्मला सीतारमण ने 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की चौथी किश्त में किसे क्या दिया?

वित्त मंत्री ने आठ सेक्टरों से जुड़े ऐलान किए हैं.

वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार राहत पैकेज की बातों के बीच ख़िलजी का ज़िक्र क्यों कर रहे हैं

आज तक ई एजेंडा में संजीव सान्याल ने बताया.

मोदी ने CM रहते जो सिफारिशें कीं, 9 साल बाद सीतारमण ने उन्हें लागू किया

मामला मनमोहन सरकार में बनी एक कमिटी से जुड़ा है.

बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ट्विटर पर फेक न्यूज से नफरत फैला रहे थे, दिल्ली पुलिस ने हड़का दिया

हालांकि पुलिस ने कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की.

कच्चा तेल सस्ता होने से भारत को कितने हजार करोड़ का फायदा हुआ, पेट्रोलियम मंत्री ने बताया

आज तक के ई-एजेंडा कार्यक्रम में बोले धर्मेंद्र प्रधान.

जानिए हवाई यात्रा शुरू होने पर किस तरह की सावधानी बरतनी होगी?

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने जारी की गाइडलाइंस.

म्यांमार ने 22 आतंकी भारत को सौंपे, विशेष विमान से असम लाया गया

ये आतंकी असम और मणिपुर में हिंसा करने वाले संगठनों से हैं.

IPL या वर्ल्डकप? बहुत से लोग कहेंगे ये क्या बोल गए रवि शास्त्री!

रवि शास्त्री ने आईसीसी तक को सलाह दे डाली.