Submit your post

Follow Us

5G टेस्टिंग के लिए एयरटेल, जियो, वोडाफ़ोन-आइडिया को हरी-झंडी मिल गई!

भारत सरकार का एक विभाग है– डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्युनिकेशन उर्फ़ DoT. टेलीफ़ोन और मोबाइल नेटवर्क वग़ैरह से संबंधित सब मामले यही देखता है. इस विभाग ने मंगलवार 4 मई 2021 को देश की टेलीकॉम कंपनियों को 5G टेक्नॉलजी की टेस्टिंग करने की इजाज़त दे दी.

5G टेस्टिंग की एप्लीकेशन करने वाले टेलीकॉम ऑपरेटर्स में भारती एयरटेल, रिलायंस जियो, वोडाफ़ोन आइडिया और MTNL शामिल हैं. इन ऑपरेटर्स ने 5G इक्विप्मेन्ट बनाने वाली कंपनियों जैसे एरिक्सन, नोकिया और सैमसंग वग़ैरह के साथ साझेदारी कर रखी है. इनके अलावा जियो अपनी खुद की बनाई हुई टेक्नोलॉजी से भी 5G टेस्टिंग करेगा.

DoT ने कहा है कि ये ट्रायल इन टेलीकॉम कंपनियों के पहले से मौजूद नेटवर्क पर नहीं होगा, बल्कि इन्हें अलग से किया जाएगा. इसने ये भी कहा कि ये ट्रायल नॉन-कमर्शियल होंगे, मतलब कि इनसे प्रॉफ़िट नहीं बनाया जाएगा. इन ट्रायल में जो भी डेटा जेनरेट होगा, उसे इंडिया में ही स्टोर किया जाएगा. ट्रायल का टाइम 6 महीने है, जिनमें 2 महीने का टाइम 5G इक्विप्मेन्ट को लाने और सेट करने के लिए है.

किन बैंड पर ट्रायल होगा?

5G ट्रायल के लिए DoT टेलीकॉम ऑपरेटर्स को अलग-अलग बैंड में एक्सपेरिमेंटल स्पेक्ट्रम दे रही है. इनमें 3.2 गीगाहर्ट्ज (GHz) से 3.67 गीगाहर्ट्ज का मिड-बैंड, 24.25 गीगाहर्ट्ज (GHz) से 28.5 गीगाहर्ट्ज (GHz) का मिलीमीटर वेव बैंड और 700 गीगाहर्ट्ज (GHz) का सब गीगाहर्ट्ज बैंड शामिल है.

इस एक्सपेरिमेंटल स्पेक्ट्रम के अलावा टेलीकॉम ऑपरेटर चाहें तो अपना खुद का स्पेक्ट्रम भी इस्तेमाल कर सकते हैं. ये स्पेक्ट्रम 800 MHz, 900 MHz, 1800 MHz और 2500 MHz के हैं. इन स्पेक्ट्रम पर फिलहाल 4G सर्विस चलती है. इसी साल जनवरी में एयरटेल ने इन्हीं स्पेक्ट्रम को मिलाकर 5G टेक्नोलॉजी को चला दिया था. इस टेस्ट को एयरटेल ने हैदराबाद के एक कमर्शियल नेटवर्क पर किया था.


वीडियो: कोरोना वैक्सीन लगवानी है तो वॉट्सऐप ढुंढवाने में बड़ी मदद कर सकता है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.