Submit your post

Follow Us

'स्टूडेंट कन्हैया, भाषण देने से पहले फैक्ट्स चैक करते हो?'

कुछ भी कहो. JNU छात्रसंघ प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार भाषणबाजी अच्छी कर लेते हैं. जेल से रिहा होने के बाद वाली स्पीच की हर तरफ तारीफ हुई. लेकिन उसी स्पीच में पीएचडी स्टूडेंट कन्हैया कुमार से एक गलती हो गई. ऐसा हम नहीं, JNU के इंग्लिश प्रोफेसर मकरंद परांजपे का कहना है. परांजपे ने कहा, ‘क्या कन्हैया ने रिहा होने के बाद JNU में स्पीच देने से पहले फैक्टस चैक किए थे.’ लेकिन ये बात कन्हैया और उनके समर्थकों को हजम नहीं हुई.

माननीय प्रधानमंत्री अपने भाषण में स्टालिन की बात कर रहे थे. मेरी इच्छा हुई कि टीवी में घुस जाऊं और उनसे कहूं कि थोड़ी हिटलर की भी बात कर लीजिए. थोड़ी मुसोलिनी की भी बात कर लीजिए, जिसकी काली टोपी लगाते हैं. जिससे आपके गुरु जी गोलवलकर साहेब मिलने गए थे. और भारतीयता की परिभाषा जर्मन से सीखने का उपदेश दिया था.  –कन्हैया कुमार, रिहाई के बाद JNU में

कन्हैया कुमार की इस बात पर प्रोफेसर मकरंद परांजपे ने कहा, ‘ कन्हैया ने अपनी स्पीच में कहा कि गोलवलकर ने मुसोलिनी से मुलाकात की. पर दरअसल गोलवलकर ने नहीं, मुंजे ने मुसोलिनी से मुलाकात की थी.’ परांजपे ने कहा, ‘मैं ये नहीं कर रहा हूं कि वे फासिस्ट से प्रभावित नहीं थे, दरअसल वो थे. लेकिन हमें इस बात पर सहमत होने दीजिए कि कौन से फैक्टस सही थे और कौन से नहीं.’

अफजल गुरु की फांसी को ज्यूडिशियल मर्डर पर भी परांजने ने स्टूडेंट्स के सामने अपनी बात रखी. बोले- मैं ऐसे देश का नागरिक होने पर फख्र महसूस करता हूं, जहां एक सो कॉल्ड ज्यूडिशियल मर्डर ने इतना बड़ा हंगामा खड़ा कर दिया. क्या आपको मालूम है कि स्टालिन के सोवियत संघ में 1920 से 1950 के दौरान कितनी ज्यूडिशियल हत्याएं हुई थीं?

प्रोफेसर मकरंद परांजपे जेएनयू में ‘Uncivil wars: Tagore, Gandhi, JNU and What’s left of the Nation?’टॉपिक पर बात कर रहे थे. परांजपे की स्पीच के दौरान प्रो-लेफ्ट स्टूडेंट्स ने नारेबाजी भी की.


कब, क्यों और कहां बोले?

जेएनयू में आंधी तो शांत है बस थोड़ी सी फुहेरी वाली हवा चल रही है. वक्ताओं की स्पीचें चलती हैं. नेशनलिज्म ज़ेरे बहस है. इस पर बात करने के लिए लोग रोजाना आ रहे हैं. 15 सेशन हो चुके. पहले के सेशन में पुरुषोत्तम अग्रवाल, रोमिला थापर, हरबंश मुखिया, अपूर्वानंद, तीस्ता सीतलवाड़ जैसे बड़े नाम शामिल रहे. 15वां नंबर था प्रोफेसर मकरंद परांजपे का.

कौन हैं प्रोफेसर मकरंद परांजपे

वो कवि हैं, आलोचक हैं. पॉलिटिकल नजर काफी तेज समझी जाती है इनकी. बड़े बड़े अखबारों में इनके कॉलम छपते हैं. जेएनयू के इंग्लिश डिपार्टमेंट में आने से पहले परांजपे इलिनॉयस यूनिवर्सिटी(अमेरिका), हैदराबाद यूनिवर्सिटी और आईआईटी दिल्ली में भी पढ़ा चुके हैं. साथ ही दुनिया के तमाम विश्वविद्यालयों में विज़िटिंग प्रोफेसर रहे हैं.

फिर हो गई गड़बड़

पहले काले बैनर दिखा कर उनका स्वागत किया गया. स्पीच के बाच में भी पर्चे वर्चे बांट कर खलल डाला गया. बोलना शुरू किया तो पांच मिनट बाद सोनी सोरी आ गईं. पुरजोर स्वागत हुआ उनका नारों से. फिर प्रोफेसर साहब ने कन्हैया से बात की और कहा कि प्लीज बोलने दिया जाए. फिर स्पीच शुरू हुई. प्रोफेसर ने गांधी, अंबेडकर, विवेकानंद, टैगोर सबका नाम लेकर बोलते गए. फिर कहीं सुई अटक गई. स्टूडेंट्स भड़क गए. प्रोफेसर साहब बोलते रहे. कन्हैया को पढ़ाई करने की हिदायत दी. और जो बातचीत हुई वो इस वीडियो में है.

दिक्कत क्या है

प्रॉब्लम ये है कि जेएनयू में परंपरा है बातचीत की. डिबेट की. अपनी बात कहने का हक सबको है. अगर कोई खेमा किसी पर भारी पड़ रहा है. और बोलने नहीं दे रहा. तो ये अच्छा शाइन नहीं है. कोई अपना व्यू रखने आया है तो उसके व्यू पर कमेंट करो. उसका टेंटुआ मत दबाओ प्यारे.

फिर सोनी सोरी का भाषण भी हुआ. उसका वीडियो भी देख लो लगे हाथ

इनपुट: अविनाश द्विवेदी, स्टूडेंट IIMC. दिल्ली


 

जेल से रिहाई के बाद कन्हैया की दी पूरी स्पीच..

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पृथ्वी शॉ के डॉक्टर ने पंत से क्या कह दिया?

पृथ्वी शॉ के डॉक्टर ने पंत से क्या कह दिया?

पंत ने दिया शॉ पर अपडेट.

फिर से धोनी का काम बिगाड़ेगा मुंबई का सोया शेर!

फिर से धोनी का काम बिगाड़ेगा मुंबई का सोया शेर!

इस सीजन खराब खेल रहे दिग्गज से उम्मीद.

तेलंगाना: युवक ने पुलिस को कॉल कर जान का खतरा बताया, फिर बोला- बीयर भी लेते आना

तेलंगाना: युवक ने पुलिस को कॉल कर जान का खतरा बताया, फिर बोला- बीयर भी लेते आना

पुलिस ने इस डिमांड की वजह पूछी तो युवक ने अजब देकर हैरान कर दिया.

ममता को साहित्य का अवार्ड मिला तो असली लेखक ने कहा - 'रख ले भाई अपना अवार्ड'

ममता को साहित्य का अवार्ड मिला तो असली लेखक ने कहा - 'रख ले भाई अपना अवार्ड'

लेखिका ने कहा कि वो ममता की किताब को साहित्य का हिस्सा नहीं मानती हैं.

रविंद्र जडेजा और पृथ्वी शॉ पर क्या अपडेट है?

रविंद्र जडेजा और पृथ्वी शॉ पर क्या अपडेट है?

IPL से बाहर हो गए जड्डू और शॉ?

कर्नाटक के IPS पी रविंद्रनाथ ने करियर में चौथी बार पद से इस्तीफा दिया

कर्नाटक के IPS पी रविंद्रनाथ ने करियर में चौथी बार पद से इस्तीफा दिया

हाल ही में कर्नाटक पुलिस की ट्रेनिंग विंग में ट्रांसफर किया गया था.

लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र एक दलित प्रोफेसर को हटाने पर अड़े हैं, वजह काशी विश्वनाथ मंदिर है

लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र एक दलित प्रोफेसर को हटाने पर अड़े हैं, वजह काशी विश्वनाथ मंदिर है

प्रोफेसर रविकांत ने काशी विश्वनाथ मंदिर पर टिप्पणी की थी.

विराट कोहली को बड़ा झटका देने के चक्कर में है BCCI

विराट कोहली को बड़ा झटका देने के चक्कर में है BCCI

टीम इंडिया से बाहर होंगे विराट?

योगी सरकार ने मुकुल गोयल को डीजीपी पद से हटाया, वजह भी सामने आई

योगी सरकार ने मुकुल गोयल को डीजीपी पद से हटाया, वजह भी सामने आई

गोयल ने पिछले साल जून में ही डीजीपी का कार्यभार संभाला था.

जब मुश्किल में फंसा पाकिस्तानी तो काम आया हिंदुस्तानी!

जब मुश्किल में फंसा पाकिस्तानी तो काम आया हिंदुस्तानी!

काउंटी क्रिकेट में चेतेश्वर पुजारा ने पाकिस्तान के रिजवान की मदद की.