Submit your post

Follow Us

डेटॉल और डाबर साबुन की टिकिया पर क्यों लड़ बैठे?

डेटॉल साबुन. टीवी ऐड में इसे कीटाणुओं से ‘लड़ते’ हुए और उनका ‘सफाया’ करते हुए दिखाया जाता है. फिलहाल डेटॉल बनाने वाली कंपनी कीटाणुओं से नहीं मशहूर कंपनी ‘डाबर’ से लड़ रही है. कोर्ट में.

डेटॉल साबुन बनाने वाली कंपनी का नाम रेकिट बेनकाइजर (Reckitt Benckiser) है. इसने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका डाली. आरोप लगाया कि डाबर ने अपने ‘सैनिटाइज़’ नाम के साबुन में डेटॉल की डिज़ाइन चोरी की है. ‘सैनिटाइज़’ साबुन के शेप, हरे रंग की पैकेजिंग और टैगलाइन ‘be 100 percent sure’ के इस्तेमाल पर आपत्ति जताई गई और इस पर रोक लगाने की मांग हुई.

इस पर दिल्ली हाईकोर्ट ने डेटॉल को झटका देते हुए कहा कि ‘सैनिटाइज़’ और ‘डेटॉल’ साबुन में कन्फ्यूज़न नहीं हो सकता. हालांकि कोर्ट ने डाबर को ‘सैनिटाइज़’ साबुन की बिक्री का लेखा-जोखा रखने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने दोनों साबुन के बीच का अंतर भी बताया. जस्टिस राजीव शकधर की सिंगल जज बेंच ने ये अंतरिम फैसला दिया है.

डेटॉल साबुन.
डेटॉल साबुन.

डेटॉल और डाबर की दलील 

डेटॉल बनाने वाली रेकिट बेनकाइजर ने कहा कि डाबर ने द डिज़ाइन ऐक्ट, 2000 की धारा 22 का उल्लंघन किया है. डाबर ने इसका खंडन करते हुए दलील दी कि साबुन का शेप और उसकी बाकी बनावट सार्वजनिक डिज़ाइन पर आधारित है. डाबर ने कहा कि बिजनेस में सामान्य साबुन के रंग और जनरिक टैगलाइन को याचिकाकर्ता का सांपत्तिक अधिकार (Proprietary Rights) नहीं बनाया जा सकता.

कोर्ट ने क्या कहा?

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि गोलाकार कॉर्नर और दोनों तरफ से दबे साबुन की डिज़ाइन यूनिलिवर ने 1989 और 1995 में पब्लिश की थी. यही डिज़ाइन डेटॉल साबुन की है. इस आधार पर डाबर का दावा मजबूत हुआ कि डेटॉल का ‘डिज़ाइन रजिस्ट्रेशन’ सही नहीं है.

डाबर सैनिटाइज़ साबुन.
डाबर सैनिटाइज़ साबुन.

‘टैगलाइन रजिस्टर्ड नहीं’

टैगलाइन विवाद पर कोर्ट ने कहा कि ये बिजनेस की ‘वर्तमान भाषा’ की लाइन पर पारंपरिक लगती है. साथ ही कोर्ट ने जोड़ा कि डेटॉल की न तो टैगलाइन और न ही दूसरे फीचर्स ट्रेडमार्क अथॉरिटी में रजिस्टर किए गए. कोर्ट ने कहा कि डेटॉल ने कोई ऐसा सर्वे भी सामने नहीं रखा है, जिससे कम से कम प्रथमदृष्टया लगे कि उनकी टैगलाइन और फीचर अलग हैं.

कोर्ट ने दोनों साबुनों में अंतर बताते हुए कहा,

डाबर के प्रोडक्ट में मोटे अक्षरों में ‘Dabur’ लिखा हुआ है. बैकग्राउंड कलर गाढ़े हरे रंग का है, जबकि डेटॉल की पैकेजिंग में सफेद और हल्के हरे रंग का मिश्रण है. डाबर की पैकेजिंग में क्रॉस और शील्ड बना हुआ है जबकि डेटॉल साबुन पर ‘प्लस’ का साइन है. ग्राहक निश्चित तौर पर ‘डाबर’ शब्द को ‘डेटॉल’ से कन्फ्यूज नहीं कर सकता.

कोर्ट ने ये भी कहा कि बाज़ार में कई साबुन हैं, जिनके रंग, शेप और गंध मिलते-जुलते हैं.


डेटॉल हैंडवॉश के ऐड पर लाइफबॉय ने दायर की हाईकोर्ट में याचिका

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.