Submit your post

Follow Us

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल अचानक ट्विटर के ऑफिस क्यों पहुंच गई?

दिल्ली पुलिस सोमवार (24 मई) को अचानक ट्विटर के ऑफिस पहुंच गई. बताया गया है कि ‘टूलकिट’ मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ट्विटर के दो ऑफिस पहुंची. ट्विटर के ये दफ्तर दिल्ली के लाडो सराय और गुरुग्राम में हैं. इससे पहले दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग विवाद को लेकर ट्विटर को नोटिस जारी किया था और मामले को लेकर उससे प्रतिक्रिया मांगी थी. समाचार एजेंसी ANI ने उस समय की तस्वीर शेयर की है, जब पुलिस की टीम चर्चित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के दफ्तर पहुंची.

क्या है टूलकिट मामला?

ये तथाकथित टूलकिट पहली बार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखपत्र ऑर्गेनाइज़र में नज़र आई थी. बीजेपी के कई नेताओं ने 18 मई को इसे लेकर ट्वीट किया, जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल रहा. वायरल टूलकिट के आधार पर आरोप लगाए गए कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा गया है कि वो सोशल मीडिया पर कोरोना के ‘इंडियन स्ट्रेन’ के लिए ‘मोदी स्ट्रेन’ और ‘सुपर स्प्रेडर कुम्भ’ जैसे शब्दों और वाक्यों का इस्तेमाल करें. वायरल टूलकिट की तस्वीर में ऊपर दाईं तरफ कोने में कांग्रेस पार्टी का लोगो लगा हुआ था.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा का ट्वीट देखिए.

इस टूलकिट में कथित तौर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से लाशों और अंतिम संस्कार की नाटकीय तस्वीरों का इस्तेमाल करने को भी कहा गया. ये भी लिखा था,

“लोगों को ‘सुपर स्प्रेडर कुंभ’ याद दिलाते रहना है. ये सब ज़रूरी है क्योंकि ये बीजेपी की हिंदू राजनीति है, जो इतना संकट पैदा कर रही है.”

इस टूलकिट को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला. बीजेपी के प्रवक्ताओं के साथ सरकार के कई मंत्रियों ने भी ट्वीट किए और बयान दिए. उधर, कांग्रेस ने इस टूलकिट को ही फर्जी करार दे दिया. उसने बीजेपी नेताओं पर FIR कराने की भी बात कही.

बहरहाल, सरकार के सूत्रों ने पुलिस की इस गतिविधि को रूटीन प्रोसेस बताया है. इंडिया टुडे/आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक, उनका कहना है कि पुलिस की टीम नोटिस देने के लिए ट्विटर के ऑफिस गई थी. सूत्रों ने कहा कि दिल्ली पुलिस ये सुनिश्चित करना चाहती थी कि उसका नोटिस सही व्यक्ति को मिले, क्योंकि भारत में ट्विटर के मैनेजिंग डायरेक्टर के जवाब काफी अस्पष्ट रहे हैं.

आजतक की एक रिपोर्ट मुताबिक़ 21 मई को दिल्ली पुलिस ने ट्विट्टर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर मनीष माहेश्वरी को एक ईमेल भेजा था. इस मेल में कहा गया था कि कथित तौर पर कांग्रेस द्वारा रिलीज किए गए टूलकिट मामले की शुरुआती जांच शुरू हो गई है. जांच के दौरान हमें पता चला कि आप इस केस से जुड़े चीजों से परिचित हैं. इस मामले में आपके पास अहम सूचना है. ऐसे में आपसे गुजारिश है कि आप 22 मई को सभी जरूरी डॉक्यूमेंट्स के साथ ऑफिस में उपस्थित रहें. आजतक ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि मनीष माहेश्वरी ने मेल को लेकर कहा है कि यह मेल उन्हें गलती से ट्विटर कम्यूनिकेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर समझ कर भेजा गया है.

मामले को लेकर विपक्षी दलों ने घेरा

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने टूलकिट मामले को लेकर लिखा है कि, सत्य डरता नहीं.

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा कि ट्विटर के दिल्ली और गुरुग्राम के ऑफिस पर छापा मरवाना भाजपा सरकार की गिरती हुई वैश्विक छवि को और नीचे गिराएगा. ये एक अलोकतांत्रिक और घोर निंदनीय कृत्य है.

उन्होंने आगे लिखा कि भाजपाई अपने ही बिछाये झूठ के जाल में फंस गये हैं. ये भूल गए, हर कोई दाना नहीं चुगता.इस बार बहेलिए को चिड़िया ले उड़ी.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने मामले को लेकर कहा कि जान लें, ट्विटर के दिल्ली-गुरुग्राम दफ़्तर पर रेड डालने वाली डरपोक भाजपा सरकार “रेड राज” से फ़र्ज़ी टूलकिट का सच नही छिपा सकती.

जिस मैनिपुलेटेड मीडिया को लेकर बवाल जारी है, उसे भी जानते जाइए?

ट्विटर ने बीजेपी नेताओं के ट्वीट को ‘मैनिपुलेटfड मीडिया’ या भ्रामक करार दिया. ट्विटर ऐसा तब करता है, जब वो शेयर किए गए किसी फोटो, वीडियो या ऑडियो में भ्रम पैदा करने वाले बदलाव पाता है. जिस इमेज या वीडियो को मैनिपुलेटेड मीडिया करार दिया जाता है, उसके नीचे एक लेबल लगा दिया जाता है. यदि आप उस पर क्‍लिक करेंगे तो इस बारे में विस्‍तार से जानकारी मिल जाएगी. ये लेबल चर्चा में तब आया था, जब अमेरिका में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के इलेक्शन में झूठे दावों वाले कई ट्वीट्स को ट्विटर ने भ्रामक बताकर ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ का लेबल लगा दिया था.


विडियो- ‘टूलकिट’ मामले में ट्विटर ने संबित पात्रा समेत BJP के दो नेताओं को तगड़ा झटका दे दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रामदेव ने वापस लिया एलोपैथी के विरोध वाला बयान, कहा- वॉट्सऐप मैसेज पढ़कर बोल दिया था

रामदेव ने वापस लिया एलोपैथी के विरोध वाला बयान, कहा- वॉट्सऐप मैसेज पढ़कर बोल दिया था

रामदेव ने बयान पर खेद जताया लेकिन एलोपैथी डॉक्टरों को एक नसीहत भी दे डाली.

यूपी: EWS कोटे से बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी के भाई बने असिस्टेंट प्रोफेसर

यूपी: EWS कोटे से बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी के भाई बने असिस्टेंट प्रोफेसर

विपक्षी पार्टियों ने उठाए सवाल.

छत्तीसगढ़ में वैक्सीन सर्टिफिकेट से हटाई गई पीएम मोदी की तस्वीर

छत्तीसगढ़ में वैक्सीन सर्टिफिकेट से हटाई गई पीएम मोदी की तस्वीर

BJP ने कांग्रेस सरकार पर लगाया ये आरोप.

बाबा रामदेव ने ऐलोपैथी पर क्या कह दिया कि IMA ने केस दर्ज करने की मांग की है

बाबा रामदेव ने ऐलोपैथी पर क्या कह दिया कि IMA ने केस दर्ज करने की मांग की है

पूछा है कि हेल्थ मिनिस्ट्री की साख पर सवाल उठाना क्या एंटीनेशनल नहीं है?

संबित सहित तमाम BJP नेताओं के ट्वीट को भ्रामक बताने पर केंद्र ने ट्विटर को तगड़ी डोज़ दे दी

संबित सहित तमाम BJP नेताओं के ट्वीट को भ्रामक बताने पर केंद्र ने ट्विटर को तगड़ी डोज़ दे दी

क्या होता है मैनिपुलेटेड मीडिया टैग?

बंगाल: नंदीग्राम से चुनाव हार चुकीं ममता बनर्जी अब इस सीट से लड़ेंगी!

बंगाल: नंदीग्राम से चुनाव हार चुकीं ममता बनर्जी अब इस सीट से लड़ेंगी!

सोवनदेब चट्टोपाध्याय ने अपनी सीट छोड़ी.

चिपको आंदोलन के मशहूर पर्यावरणविद् सुंदरलाल बहुगुणा का कोरोना से निधन

चिपको आंदोलन के मशहूर पर्यावरणविद् सुंदरलाल बहुगुणा का कोरोना से निधन

94 वर्षीय सुंदरलाल बहुगुणा कोरोना संक्रमण के कारण 8 मई से एम्स ऋषिकेश में भर्ती थे.

विदेश जाने वाले भारतीय लोग क्यों Covishield की वैक्सीन लगवाना चाहते हैं?

विदेश जाने वाले भारतीय लोग क्यों Covishield की वैक्सीन लगवाना चाहते हैं?

विदेशों में काम करने और पढ़ने के लिए जाने वालों की टेंशन समझिए?

अजय, सलमान, अमिताभ बच्चन जैसे सितारों के घर, दफ्तर, सेट आए ताउ’ते की चपेट में

अजय, सलमान, अमिताभ बच्चन जैसे सितारों के घर, दफ्तर, सेट आए ताउ’ते की चपेट में

अजय देवगन के 'मैदान' का सेट एकदम तहस-नहस हो गया.

यूपीः पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षकों की मौत- हकीकत और सरकारी दावे की पड़ताल

यूपीः पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षकों की मौत- हकीकत और सरकारी दावे की पड़ताल

शिक्षकों की मौत के आंकड़े क्या बता रहे हैं?