Submit your post

Follow Us

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार 15 जून को दिल्ली दंगों (Delhi Riots) मामले में अन्लॉफ़ुल ऐक्टिविटीज़ प्रिवेन्शन ऐक्ट (UAPA) के तहत गिरफ़्तार JNU की दो छात्राओं देवांगना कलिता (Devangana Kalita) और  नताशा नरवाल (Natasha Narwal), और जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्र आसिफ इक़बाल तन्हा (Asif Iqbal Tanha) को ज़मानत दे दी है.

दिल्ली हाई कोर्ट के जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस अनूप जयराम भंभानी की डिविज़न बेंच ने फ़ैसला सुनाया.

मामले में सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने कहा था कि इस मामले में कुल 740 अभियोजन पक्ष के गवाह हैं जिनकी अभी जांच होनी है. इस आधार पर दिल्ली पुलिस ने इनकी बेल का विरोध किया था. लेकिन कोर्ट ने इस पर पुलिस को फटकार लगते हुए कहा,

“कोर्ट कब तक इंतज़ार करे? आरोपी को संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत त्वरित ट्रायल का अधिकार है.”

कब का है मामला?

पिछले साल की बात है. फरवरी का महीना चल रहा था. देश के कई हिस्सों में खासतौर पर राजधानी दिल्ली में प्रदर्शन हो रहे थे. CAA-NRC के विरोध और समर्थन, दोनों में. CAA यानी नागरिकता संशोधन एक्ट और NRC माने नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिज़न्स. फरवरी के आखिरी हफ्ते के बात है. दोनों तरफ के प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसा हुई, जिसमें 50 से ज्यादा लोग मारे गए और कई लोग घायल हुए.

इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की. मार्च में कोरोना की वजह से देशभर में लॉकडाउन लग गया और तभी पुलिस ने नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हिंसा भड़काने के आरोप में कई लोगों को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया. इसी क्रम में मई में पुलिस पहुंची नताशा नरवाल के पास. 23 मई को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. नताशा JNU की स्टूडेंट हैं और ‘पिंजरा तोड़’ ग्रुप की मेंबर हैं. ये महिलाओं का वो ग्रुप है, जो दिल्ली के हॉस्टल और पीजी में लड़कियों के ऊपर लगने वाले प्रतिबंध को कम करने की दिशा में काम करता है. साल 2015 में ये ग्रुप बना था.

‘इंडिया टुडे’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिंजरा तोड़ ग्रुप पर आरोप लगा कि उन्होंने 22-23 फरवरी के बीच नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के ज़ाफराबाद मेट्रो स्टेशन में करीब 500 प्रदर्शनकारियों को इकट्ठा किया था, जिनमें से ज्यादातर औरतें थीं. धरना दिया गया था, CAA-NRC के खिलाफ. और अगले दिन यानी 24 फरवरी को इस इलाके में हिंसा हो गई.

इसी मामले में पुलिस ने आसिफ़ को भी अरेस्ट किया था. 24 वर्षीय इस छात्र को उमर ख़ालिद, शरजील इमाम, सफूरा ज़रगर और मीरान हैदर का साथी बताया गया था. शाहीन बाग़ के रहने वाले आसिफ पर पिछले साल 15 दिसंबर में जामिया में हिंसा भड़काने का भी आरोप है. पिछले साल 15 दिसंबर को प्रदर्शनकारियों ने 4 पब्लिक बसों और 2 पुलिस की गाड़ियों में आग लगा दी थी. इसके बाद 16 दिसंबर, 2019 को आसिफ इक़बाल के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने केस रजिस्टर किया था.

इस हिंसा की कथित साजिश रचने के आरोप में ही नताशा को गिरफ्तार किया गया. उनके साथ पिंजरा तोड़ की एक और सदस्य देवांगना कलिता को भी गिरफ्तार किया गया था. पहले IPC की धारा 186 और 353 के तहत गिरफ्तारी हुई थी, जिसमें इन्हें बेल भी मिल गई थी, लेकिन नताशा बेल पर रिहा होकर घर लौट पातीं, उसके पहले UAPA के तहत उनके खिलाफ केस दर्ज हो गया. और 30 मई को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.


वीडियो – दंगों की जांच कर रही दिल्ली पुलिस पर क्यों उठ रहे हैं सवाल?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

CBSE ने इस बार 10वीं और 12वीं के एग्जाम का नया सिस्टम बनाया है, जान लीजिए

CBSE ने इस बार 10वीं और 12वीं के एग्जाम का नया सिस्टम बनाया है, जान लीजिए

साल में एक नहीं, दो बार बोर्ड एग्जाम होंगे.

सुप्रीम कोर्ट का टूलकिट मामले से जुड़ी याचिका पर सुनवाई से इन्कार, कहा- पसंद नहीं तो इग्नोर करें

सुप्रीम कोर्ट का टूलकिट मामले से जुड़ी याचिका पर सुनवाई से इन्कार, कहा- पसंद नहीं तो इग्नोर करें

इस टूलकिट में कोरोना वायरस के 'इंडियन वेरिएंट' को 'मोदी स्ट्रेन' कहने का निर्देश दिया गया था.

सुप्रीम कोर्ट IT Act की धारा 66A के इस्तेमाल से इतना नाराज कि कह दिया- ये बेहद शर्मनाक

सुप्रीम कोर्ट IT Act की धारा 66A के इस्तेमाल से इतना नाराज कि कह दिया- ये बेहद शर्मनाक

आखिर सुप्रीम कोर्ट की इस नाराजगी की वजह क्या है?

IPL का नया ब्लूप्रिंट तैयार, कौन खरीदेगा नई टीम?

IPL का नया ब्लूप्रिंट तैयार, कौन खरीदेगा नई टीम?

कितने प्लेयर टीम के पास रहेंगे और कितने नए खरीदने होंगे.

उत्तर प्रदेश: पुलिस ने पांच जिला पंचायत सदस्यों को चुनाव के तुरंत बाद क्यों गिरफ्तार कर लिया?

उत्तर प्रदेश: पुलिस ने पांच जिला पंचायत सदस्यों को चुनाव के तुरंत बाद क्यों गिरफ्तार कर लिया?

पांचों का संबंध समाजवादी पार्टी से बताया गया है.

लक्ष्मण बोले, कप्तानी के साथ शिखर धवन का फोकस इस चीज़ पर होगा!

लक्ष्मण बोले, कप्तानी के साथ शिखर धवन का फोकस इस चीज़ पर होगा!

बताइये 'कप्तान' की जगह ही फिक्स नहीं है!

श्रीलंका सीरीज़ में किस चीज़ पर है द्रविड़-धवन का फोकस?

श्रीलंका सीरीज़ में किस चीज़ पर है द्रविड़-धवन का फोकस?

पूर्व भारतीय क्रिकेटर बोले, सीरीज़ के बाद अपने बयान से पलटेंगे राणातुंगा!

महाराष्ट्र में BJP के 12 विधायक सस्पेंड, स्पीकर से गाली-गलौज और मारपीट का आरोप

महाराष्ट्र में BJP के 12 विधायक सस्पेंड, स्पीकर से गाली-गलौज और मारपीट का आरोप

महाराष्ट्र विधानसभा के नए सत्र के पहले दिन गर्माया ओबीसी आरक्षण का मुद्दा.

कपिल देव चाहते हैं शुभमन गिल की जगह इस खिलाड़ी को मिलना चाहिए मौका!

कपिल देव चाहते हैं शुभमन गिल की जगह इस खिलाड़ी को मिलना चाहिए मौका!

किसी नए खिलाड़ी को इंग्लैंड भेजने की मांग करने वाले ज़रूर ध्यान दें.

भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी स्टेन स्वामी का निधन

भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी स्टेन स्वामी का निधन

स्टेन स्वामी के वकील ने कहा- NIA ने एक दिन भी पूछताछ नहीं की तो गिरफ्तार क्यों किया?