Submit your post

Follow Us

दिल्ली के इस सरकारी अस्पताल में भर्ती कोरोना के मरीज देखभाल के लिए अपने परिवार के भरोसे!

कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज को लेकर दिल्ली सरकार सवालों के घेरे में है. 12 जून को सुप्रीम कोर्ट ने भी इस मामले में कड़ी फटकार लगाई थी. कहा था कि दिल्ली और इसके अस्पतालों में बहुत ही बुरा हाल है. लोगों के साथ जानवरों से भी बुरा बर्ताव किया जा रहा है. मीडिया में भी दिल्ली के अस्पतालों में बदहाली की खबरें लगातार आ रही है.

GTB अस्पताल से शिकायत

ऐसी ही खबर दिल्ली के गुरु तेगबहादुर अस्पताल यानी GTB अस्पताल से है. यह अस्पताल दिल्ली सरकार के नियंत्रण में है. कोरोना मरीजों के इलाज के लिए जिन सरकारी अस्पतालों को चुना गया है, उनमें से एक है. दिल्ली सरकार की वेबसाइट के अनुसार, 12 जून की शाम तक यहां 228 मरीज भर्ती थे. लेकिन कई मरीज अपने परिवार वालों के ही भरोसे हैं. वे ही उन्हें खाना-पीना दे रहे हैं.

क्या कहते हैं मरीजों के रिश्तेदार

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, कई लोग कोरोना मरीजों के वार्ड में घुस जाते हैं. गेट पर गार्ड हैं, लेकिन वे किसी को रोकते दिखाई नहीं देते. एक मरीज के रिश्तेदार ने एक्सप्रेस से कहा कि उसके बहनोई भर्ती हैं. उन्हें सात दिन पहले भर्ती किया गया था. लेकिन समय पर खाना और पानी नहीं दिया जाता. टॉयलेट जाने में भी उनकी मदद नहीं की जाती. ऐसे में उन्हें और उनकी बहन को मदद के लिए जाना पड़ता है.

एक और मरीज के साथ व्यक्ति ने बताया कि उनकी मां भर्ती हैं. वह आईसीयू में हैं. इससे पहले वह वार्ड में थी तो कोई ध्यान नहीं देता था. उन्हें ही देखभाल के लिए जाना पड़ता था. उनका कहना है कि सुरक्षा के नाम पर उनके पास केवल मास्क होता था.

सुधीर कुमार नाम के व्यक्ति ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि उनके पिता 7 जून को भर्ती हुए थे. लेकिन अस्पताल ने उनकी सेहत के बारे में जानकारी ही नहीं दी. वे 12 जून को दोपहर में गुजर गए.

अस्पताल का दावा- सुरक्षा एकदम पुख्ता

हालांकि अस्पताल का कहना है कि मरीज के पास बाहर से किसी को आने के परमिशन नहीं है. इस पर पूरा ध्यान भी दिया जा रहा है. जीटीबी के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. सुनील कुमार ने कहा कि मरीजों के परिवारवाले अंदर नहीं जा सकते. अस्पताल की सुरक्षा पुख्ता है. मरीजों के अलावा अंदर कोई नही जा सकता.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video:दिल्ली में कोरोना से हो रही मौतों और टेस्टिंग पर सुप्रीम कोर्ट को दखल क्यों देना पड़ा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना टेस्टिंग पर यूपी सरकार को घेरने वाले पूर्व IAS की पूरी कहानी जानिए!

सूर्यप्रताप सिंह, जिन पर FIR दर्ज हुई.

ज्योतिरादित्य सिंधिया की दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट में क्या निकला?

पिछले दिनों सिंधिया और उनकी मां को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.

WHO ने कोरोना पर राहत देने वाली बात की तो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कहा, “अरी मोरी मईया!”

पलटकर WHO से ही सबूत मांग रहे हैं लोग.

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना इंफेक्शन, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती

बीते कुछ दिनों से दोनों की तबीयत खराब थी.

बिहार: अमित शाह ने वर्चुअल रैली में तेजस्वी को घेरा, कहा-लालटेन राज से एलईडी युग में आ गए

तेजस्वी यादव ने रैली पर 144 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया.

गर्भवती ने 13 घंटे तक आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, किसी ने भर्ती नहीं किया, मौत हो गई

महिला की मौत के बाद अब जिला प्रशासन जांच की बात कर रहा है.

दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा

दिल्ली के बॉर्डर खोले जाने पर भी हुआ फैसला.

लद्दाख में तनाव: भारत-चीन सेना के कमांडरों की मीटिंग में क्या हुआ, विदेश मंत्रालय ने बताया

6 जून को दोनों देशों के सेना के कमांडरों की मीटिंग करीब 3 घंटे तक चली थी.

पहले से फंसी 69000 शिक्षक भर्ती में अब पता चला, रुमाल से हो रही थी नकल!

शुरू से विवादों में रही 69 हजार शिक्षक भर्ती में जुड़ा एक और विवाद

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.