Submit your post

Follow Us

ग़लती तो उस मूक-बधिर लड़की की है, जिसका बार-बार रेप होता रहा पर उसने कुछ नहीं कहा


हम कब जागेंगे हम नहीं जानते. लेकिन अलार्म बजता रहेगा. आप उसे स्नूज़ कर दें, फिर भी वो बजेगा. आप घड़ी उठाकर जमीन में पटक दें, फिर भी वो बजेगा.

जब सब कुछ समाप्त हो जाएगा तो भी बैकग्राउंड में अलार्म बजता रहेगा, जिसे सुनने वाला कोई नहीं होगा.

एक शांत हो चुकी दुनिया में, एक मर चुके लोगों की भीड़ के बीच न उस अलार्म को बंद करने वाला कोई होगा, न उसे सुनने वाला होगा.


ऐसा ही अलार्म पहले बिहार में बजा, फिर उत्तर-प्रदेश में. अब ये डरावनी आवाज़ मध्यप्रदेश से आ रही है.

मध्यप्रदेश की राजधानी के एक हॉस्टल संचालक पर रेप का आरोप लगा है. लड़की पिछले 3 साल से भोपाल के अवधपुरी इलाके के एक हॉस्टल में रहकर पढ़ाई कर रही थी इसी बीच हॉस्टल संचालक अश्वनी शर्मा ने लड़की के साथ में कई बार रेप की वारदात को अंजाम दिया.

जैसे मणिकर्णिक घाट में चिताएं सैकड़ों सालों से जलती रही हैं वैसे ही नाबालिग बच्चियों के साथ होने वाले शारीरिक उत्पीड़न की आग भी बुझती और ठंडी होती नहीं लग रही है.

सांकेतिक इमेज
सांकेतिक इमेज

इतने बारे इस लड़की के साथ रेप होता रहा लेकिन उसने एक बार भी किसी को इन्फॉर्म नहीं किया. अगर वो आवाज़ उठाती तो लोग, एनजीओ और पुलिस उसका साथ अवश्य देते.

लेकिन वो आवाज़ उठाए भी तो कैसे? वो आवाज़ कैसे उठाए जो बोल नहीं सकती, जो सुन नहीं सकती?

बेशक ये लड़की की जिजीविषा कही जाएगी कि मूक-बधिर होते हुए भी वो घर से दूर रहकर, अपनी पढ़ाई ज़ारी रख रही थी. उसने सामान्य लोगों के साथ कंधे से कंधा मिलकर चलने की सोची थी. सपना था कि अपनी सारी शॉर्टकमिंग्स को धता बतलाकर अपना कैरियर बनाएगी. उसे किसी की सांत्वना की ज़रूरत नहीं थी.

जहां शोर नहीं सुना जाता, वहां मौन के सुने जाने की उम्मीद?
जहां शोर नहीं सुना जाता, वहां मौन के सुने जाने की उम्मीद?

मगर लड़की को नहीं पता था कि हम उस समाज में रहते हैं जहां अव्वल तो हमसे अलग लोगों का मज़ाक उड़ाया जाता है और तिस पर उन्हें छोटी मोटी सुविधाएं, जिनके वो हकदार हैं, देना तो दूर उनकी शॉर्टकमिंग्स का फायदा उठाया जाता है. उन्हें बार बार बताया जाता है कि तुम्हारी हिम्मत कैसी हुई हम सो-कॉल्ड समाज से साथ-साथ उसी रफ़्तार से चलने की?

जब बलात्कारी को ‘चिल्लाओ! तुम्हारी आवाज़ सुनने वाला यहां कोई नहीं.’ कहने की ज़रूरत न पड़े तो उसका टारगेट एक ‘सॉफ्ट टारगेट’ कहलाता है.

एक होती है चिढ़. दूसरी नफ़रत. तीसरी घृणा. लेकिन उसके पार क्या होता है, मैं नहीं जानता. मैं नहीं जानना चाहता. लेकिन उसका रंग काला, बहुत काला होता है. और उसी काले रंग वाली फीलिंग मुझे अभी, ठीक इस वक्त हो रही है.

फ़िल्म मुक्काबाज़ की नायिका साइन लैंग्वेज़ से अपने को अभिव्यक्त करती थी.
फ़िल्म मुक्काबाज़ की नायिका साइन लैंग्वेज़ से अपने को अभिव्यक्त करती थी.

अगर आप उस लड़की का दर्द समझ पा रहे होंगे तो आपको भी आ रही होगी. पुलिस के मुताबिक मूकबधिर होने के कारण छात्रा किसी को अपनी पीड़ा नहीं समझा पा रही थीं जिसके बाद साइन लैंग्वेज के एक्सपर्ट को बुलाया गया जिससे पूरा मामले का खुलासा हुआ.

भोपाल एसपी साउथ राहुल कुमार लोढ़ा के मुताबिक परिजनों और पीड़िता की शिकायत पर भोपाल पुलिस ने आरोपी अश्विनी शर्मा को धारा 154/18, 376, 376 एन, 354, 344, 506 और एससी/एसटी एक्ट की धाराओं में प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ जारी है.

इसके अलावा एसपी का कहना है कि मामले में हॉस्टल में रह चुकी और भी लड़कियों से पुलिस बातचीत कर ये पता लगाने की कोशिश करेगी कि क्या आरोपी ने किसी और छात्रा के साथ भी इस तरह की घटना को अंजाम दिया है या नही.

पुलिस के मुताबिक हॉस्टल में 20 के करीब लड़कियां रहती थीं लेकिन वो लंबे अरसे पहले होस्टल खाली कर के जा चुकी थीं. फिलहाल सिर्फ 1 ही लड़की ने रेप का आरोप लगाया है. एसपी राहुल कुमार लोढ़ा के मुताबिक पुलिस उन सभी लड़कियों से पूछताछ करेगी जो यहां रहती थीं.


अलार्म लगातार बज रहा है, लाशें उसे सुन नहीं सकतीं.

अलार्म को लोगों के मर चुकने का नहीं पता, मरे हुए लोगों को अलार्म के बजने का नहीं पता.


ये भी पढ़ें:

मुजफ्फरपुर रेप केस में जिन मंत्री के पति का नाम आया है, वो हर घाट का पानी पिए हैं

मुजफ्फरपुर जैसा देवरिया का केस, कार आती थी, 15 साल से बड़ी लड़कियों को कहीं ले जाती थी

मुजफ्फरपुर बालिका गृह : जहां बच्चियों से रेप के लिए इस्तेमाल की जाती थीं 67 किस्म की नशीली दवाएं

मुजफ्फरपुर : कौन हैं वो 10 लोग जिनकी वजह से हुआ था 34 बच्चियों से रेप

कौन है ब्रजेश ठाकुर, जिसके बालिका गृह में 34 बच्चियों से रेप हुआ है?

मुजफ्फरपुर ही नहीं, बिहार की इन 14 जगहों पर भी बच्चे-बच्चियों से हुआ है रेप!

34 बच्चियों से बार-बार रेप और एक बच्ची की हत्या, फिर भी ये मामला दबा हुआ क्यों है?


वीडियो देखें:

TISS के ऑडिट ने बताया था, मुजफ्फरपुर की बालिका गृह में बच्चियों का रेप होता था-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'डॉक्टरों ने कहा हम मुस्लिम हैं, इसलिए यहां इलाज नहीं होगा. मेरे बच्चे की मौत हो गई'

कैबिनेट मंत्री ने एक डॉक्टर को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया.

कोरोना से लड़ रहीं कनिका कपूर के लिए अब जाकर अच्छी खबर आई है

सबकुछ ठीक रहा तो जल्दी ही घर जा सकती हैं.

कोरोना वायरस की चिंताओं के बीच AIIMS से आई ये खबर राहत देने वाली है

डॉक्टर कपल कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.

रेलवे ने लॉकडाउन खत्म होने के अगले दिन से कर्मचारियों को काम पर बुलाया, ट्रेनें चलाने की तैयारी!

पर एयर इंडिया ने 30 अप्रैल तक टिकटों की बुकिंग रोकी.

टाटा ने कोरोना के इलाज में जुटे डॉक्टरों-नर्सों के लिए ताज होटल्स खोल दिए

पहले 1500 करोड़ रुपए भी डोनेट किए थे.

वेंटिलेटर का डिज़ाइन चोरी करने के आरोप पर महिंद्रा वाले क्या सफ़ाई दे रहे हैं?

चंडीगढ़ के डॉक्टर राजीव चौहान ने लगाया था आरोप.

रीवा एसपी आबिद खान और पुजारी की पिटाई के नाम पर बहुत बड़ा झूठ बोला जा रहा है

कहा जा रहा है आबिद खान ने पूजा स्थल को पैरों से कुचला, लेकिन ये सच नहीं है.

क्या अमेरिकी मेडिकल साइंटिस्टों ने कोरोना का वैक्सीन बना लिया है?

इन्सानों पर कब से टेस्टिंग शुरू की जा सकती है?

कोरोना के आइसोलेशन वॉर्ड में सोशल डिस्टेंसिंग का अब्बा-डब्बा-जब्बा कर दिया

साथ मिलकर नमाज़ पढ़ते दिखे कोरोना के संदिग्ध मरीज़.

डॉक्टरों ने कहा- क्वारंटीन करना पड़ेगा, तो पूरे मोहल्ले ने पत्थर मारते हुए दौड़ा लिया

ये हाल उस शहर का है, जहां से एक दिन में 13 केस आए हैं.