Submit your post

Follow Us

लॉकडाउन खत्म होने के बाद जब बसें चलेंगी तो किस तरह की सावधानी बरतनी होगी, एक्सपर्ट्स ने बताया

लॉकडाउन खत्म होने के बाद देश के कई शहरों में बसों का संचालन एक बहुत बड़ी चुनौती होगी. लॉकडाउन के दौरान फ्रंट लाइन वर्कस जैसे डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ, सरकारी कर्मचारी और जरूरी सेवा के लिए ही बसें चल रही हैं. हालांकि तीसरा लॉकडाउन शुरू होते ही सरकार ने ग्रीन जोन में कुछ शर्तों के साथ बसों के संचालन की अनुमति दी थी. दिल्ली में हर दिन लगभग 32 लाख लोग बसों से यात्रा करते हैं. चीन, जहां कोरोना के मामले सबसे पहले आए, वहां बसों का ऑपरेशन शुरू होने के 12 हफ्ते के बाद ही लगभग 80 प्रतिशत बस यात्री वापस लौट आए. लॉकडाउन खत्म होने के बाद यह भारत में भी हो सकता है.

लेकिन भारत में अगर बसों का संचालन नहीं होता है तो प्राइवेट गाड़िया सड़को पर बढ़ेंगी. इससे प्रदूषण बढ़ेगा. पीएम लेवल बढ़ने से कोरोना का खतरा और बढ़ जाएगा. ऐसे में जरूरी है कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट शुरू हो. 2008 की मंदी के बाद पब्लिक ट्रांसपोर्ट में निवेश से साउथ कोरिया और अमेरिका जैसे देशों में जॉब के नए मौके बने. यह भारत में भी हो सकता है.

मजदूरों और इमरजेंसी सेवाओं के लिए बसें लॉकडाउन में भी चल रही हैं. फोटो- पीटीआई
मजदूरों और इमरजेंसी सेवाओं के लिए बसें लॉकडाउन में भी चल रही हैं. फोटो- पीटीआई

लेकिन लॉकडाउन खत्म होने के बाद बसों के संचालन में क्या सावधानी बरती जानी चाहिए जिससे कोरोना को फैलने से रोका जाए. ITDP यानी इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसपोर्ट एंड डेवलपमेंट पॉलिसी. एक ग्लोबल नॉन प्रॉफिट एजेंसी है. जो सस्टेनेबल ट्रांसपोर्टेशन की फील्ड में काम करती है. सरकारी एजेंसियों को सपोर्ट करती है. पिछले 20-25 सालों से इस फिल्ड में काम करने वाले एक्सपर्ट्स ने दुनिया के कई देशों के पब्लिक ट्रांसपोर्ट के अध्ययन के बाद गाइडलाइंस तैयार की है. इसे देश में लागू कराने के लिए कई राज्य सरकारों और केंद्र से बात हो रही है.

क्या है गाइडलाइन में?

स्टाफ मैनेजमेंट
#स्टाफ डेवलमेंट शेड्यूल बनाएं, सभी स्टाफ को इस बारे में बताएं.
#जो कर्मचारी फील्ड में काम नहीं करते हैं, उन्हें घर से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए, जितना ज्यादा संभव हो.
#सभी कर्मचारियों का टेंपरेचर चेक हो, कोविड-19 सिम्टम्स वाले लोगों को काम पर न आने दिया जाए.
# सभी कर्मचारियों को हेल्थ केयर और इंश्योरेंस दिया जाए.
# ड्राइवर और कंडक्टर को एन-95 मास्क, ग्लव्स और हैंड सैनिटाइजर दिया जाए. इसके इस्तेमाल के लिए उन्हें ट्रेन किया जाए.
# कैंटीन में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन हो.

बसों को समय-समय पर सेनिटाइज करने की सलाह दी गई है. (फोटो-पीटीआई)
बसों को समय-समय पर सेनिटाइज करने की सलाह दी गई है. (फोटो-पीटीआई)

बस फ्लीट और टर्मिनल के लिए
# बस यात्रा शुरू करने से पहले ड्राइवर और कंडक्टर के हाथ को डिसिन्फेक्ट किया जाए. वो मास्क और ग्लव्स पहनें.
# हर ट्रिप से पहले कंडक्टर ये सुनिश्चित करे कि बस साफ हो और डिसइन्फेक्ट की गई हो.
# हर दो तीन घंटे में टर्मिनल के पब्लिक एरिया को डिसइन्फेक्ट किया जाए. अन्य एरिया को दिन में एक बार डिसिन्फेक्ट किया जाए.
# लोगों का भरोसा जीतने के लिए बस और टर्मिनल पर डिसइन्फेक्शन की जानकारी दी जाए.
# एसी बसों में वेंटिलेशन की व्यवस्था जो जिससे ताजी हवा आ सके. नॉन एल्कोहल वाली चीजों से एसी हर दिन डिसइन्फेक्ट हो.

बस स्टैंड पर बसों की रनिंग टाइमिंग की जानरी यात्रियों के देने की सलाह दी गई है. (प्रतीकात्मक फोटो)
बस स्टैंड पर बसों की रनिंग टाइमिंग की जानरी यात्रियों के देने की सलाह दी गई है. (प्रतीकात्मक फोटो)

पैसेंजर के लिए
# न्यूज पेपर, सोशल मीडिया, पोस्टर और अन्य माध्यम से बस शेड्यूल की जानकारी दी जाए.
# बसों के अंदर, सब स्टॉप पर और टर्मिनल में सुरक्षा से जुड़े गाइडलाइंस डिस्प्ले किए जाएं.
# बस स्टॉप पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बसों की शेड्यूल और रनिंग स्टेटस की जानकारी दी जाए.
# यात्रियों के सवालों के जवाब देने के लिए हेल्प लाइन बनाई जाए, वॉट्सऐप, एसएमएस के जरिए जानकारी दी जाए.

बस में यात्रा करने वाले यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग को अनिवार्य करने की सलाह दी गई है. (फाइल फोटो)
बस में यात्रा करने वाले यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग को अनिवार्य करने की सलाह दी गई है. (फाइल फोटो)

टिकट के लेन-देन के लिए
#टिकट के पैसे लेने के लिए ऐसी व्यवस्था बनाई जाए जिससे यात्री और बस कंडक्टर के बीच कॉन्टैक्ट न हो.
# बार-बार टिकट देने से बचने के लिए पास बने, एक दिन, एक हफ्ते या फिर एक महीने के लिए.
# आसपास के रिटेल स्टोर बस पास, सेल्स काउंटर, कस्टमर्स इंफोर्मेशन सेंटर के रूप में इस्तेमाल हों.
# ऑनलाइट प्लेटफॉर्म के जरिए बस के पास ऑनलाइन बेचे जाएं.
# कॉमन मोबिलिटी कार्ड की व्यवस्था हो.

यात्रियों की सुविधा के लिए
#हाई रिस्क वाले यात्रियों जैसे हेल्थ केयर वर्कर्स, सैनिटाइजेशन वर्कर्स के लिए अलग बस की व्यवस्था हो.
#यात्री को मास्क पहनने और समय-समय पर हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल के लिए कहा जाए.
#बस टर्मिनल पर मास्क और हैंड सैनिटाइजर बेचे जाएं.
# केवल मास्क पहने यात्रियों को बस में चढ़ने दिया जाए.
# यात्रियों के बस में चढ़ते समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, यात्री लाइन में आएं.
# बस में चढ़ने उतरने के लिए अलग-अलग डोर का इस्तेमाल हो.
# बस में आवश्यकता से ज्यादा लोगों को न चढ़ने दिया जाए.
# बुजुर्ग, बच्चों और गर्भवति महिलाओं को प्राथमिकता दी जाए.
# बस में चढ़ने से पहले यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग हो.

फाइनेंस के लिए
# प्रस्तावित रोड और फ्लाइओवर प्रोजेक्ट के फंड को पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बेहतर करने में इस्तेमाल हो.
# बसों की कमी को पूरा करने के लिए प्राइवेट बसों को हायर किया जाए.


PM मोदी ने देश को संबोधित करते हुए Y2K क्राइसिस के बारे में क्यों बात की?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!