Submit your post

Follow Us

दुनिया भर के दुश्मनों से लोहा ले चुका जेम्स बॉन्ड, एक वायरस से अपनी फिल्म न बचा सका?

कोरोना वायरस. कुछ दिनों से दुनियाभर में हाहाकार मचा रखा है इस नामुराद ने. चीन के वुहान से निकलकर अब ये वर्ल्ड टूर पर चला है. और जहां जा रहा है, पीछे पीड़ाएं और मौतें छोड़ के जा रहा है. छोड़ के भी कहां जा रहा, केदारनाथ सिंह की कविता दोहरा रहा-

जाऊंगा कहां
रहूंगा यहीं
किसी किवाड़ पर
हाथ के निशान की तरह
पड़ा रहूंगा…

अब अगर ये ह्यूमर ‘टू डार्क’ हो गया तो आपको बच्चों के जिंगल, ‘रिंगा-रिंगा रोज़ेज़’ का इतिहास पढ़ना चाहिए. खैर, गूगल मैप्स पर ‘मूल मुद्दे’ की लोकेशन डालते हैं और भटकने से बचते हैं.

कोरोना वायरस. जिसका देश, काल और परिस्थितयों को लेकर ही नहीं, सेक्टर्स और स्पिसीज़ तक को लेकर जावेद अख्तरीय एटीट्यूड चल रहा है. गोया, कोई सरहद न इसे रोके.

स्पिसीज़ में यूं कि इंसानों के बाद अब एक कुकुर भी ‘कोरोना वायरस पॉजिटिव’ पाया गया है. और सेक्टर्स में यूं कि, हेल्थ के बाद पहले इसने स्टॉक और फाइनेंस को ‘ग्रेट डिप्रेशन’ दिया. फिर एजुकेशन को ‘बुरा सबक’ सिखाया, फिर पॉलिटिक्स में ‘नेता’ बनने लगा और अब…

# कोरोना एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का ‘विलेन’ बन रहा है-

जिस तरह दिया बुझने से पहले सबसे तेज़ जगमगाता है, उसी तरह ये वायरस, एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के लिए घुप्प अंधेरा लाने से पहले, एक अच्छी खबर लेकर आया था. जब जनवरी एंड में इस कोरोना के चलते अचानक नौ साल पुरानी मूवी ‘कंटेजन’, ऑनलाइन मूवी रेंटल स्टोर, ‘आई ट्यून मूवी रेंटल’ पर ट्रेंड करने लगी थी.

कंटेजन, एक फिक्शनल मूवी. जो दिखाती है कि चीन से यूएस तक आया एक वायरस कैसे सिर्फ महीने भर से कम समय में ही पच्चीस लाख ज़िंदगियां ले लेता है.

इतना पढ़कर ही समझ गए होंगे आप कि क्यूं इसकी कमाई में नौ साल बाद उछाल आया. ब्लेसिंग इन डिसगाइस?

फिर पहले सीन में सज्जन-सौम्य दिख रहा कोरोना वायरस नाम का ये विलेन, धीरे-धीरे अपने रंग दिखाने लगा. पहले एक खबर के तौर पर. जब कहा गया कि चीन के सुपरस्टार जैकी चैन कोरोना वायरस की चपेट में हैं. हालांकि ये खबर फेक निकली और जैकी चैन ने इंस्टाग्राम पर अपनी कुशलता की जानकारी खुद दी.


Instagram पर यह पोस्ट देखें

Thanks for everybody’s concern! I’m safe and sound, and very healthy. Please don’t worry, I’m not in quarantine. I hope everyone stays safe and healthy too!

को Jackie Chan 成龍 (@jackiechan) द्वारा साझा की गई पोस्ट

और अब जो खबर आ रही है, वो सच्ची है.

# 007 की मूवी 007 महीने पोस्टपॉन हो गई-

‘नो टाइम टू डाय’. हॉलीवुड की एक ऐसी मूवी जिसका बेसब्री से इतंज़ार किया जा रहा था. पहले ये नवंबर, 2019 में रिलीज़ होने वाली थी. फिर पोस्टपोन होकर फरवरी, 2020 हुई. फिर पता चला कि इसका वर्ल्ड प्रीमियर 31 मार्च को लंडन के रॉयल अल्बर्ट हॉल में होगा. लेकिन अब खबर आई है कि ये यूके में 12 नवंबर को और यूएस में 25 नवंबर को रिलीज़ होगी.

अप्रैल के शुरुआती दिनों में इस मूवी की पूरी टीम चीन जाने वाली थी. मूवी के प्रीमियर के लिए. वो भी टल गया. कारण? कोरोना वायरस.

हमरी न मानो, जेम्स बॉन्डवा से पूछो. जिसने ये ट्वीट कीन्हा-

एमजीएम, यूनिवर्सल और बॉन्ड निर्माता, माइकल जी. विल्सन और बारबरा ब्रोकोली ने आज घोषणा की कि ‘सावधानीपूर्वक विचार करने और वैश्विक सिनेमाई बाजार के गहन मूल्यांकन के बाद, नो टाइम टू डाय’ की रिलीज नवंबर 2020 तक स्थगित की जाती है.

और अब एक और इन्फॉर्मेशन आई है. और ये देसी है. इंडिया की.

दुखद खबर ये कि अबकी इंदौर में होने वाला इंटरनैशनल इंडियन फिल्म एकेडमी अवॉर्ड (IIFA) भी पोस्टपोन कर दिया गया है. वजह? अगेन कोरोना वायरस. इसे लेकर आईफा की तरफ से ऑफिशियल स्टेमेंट भी जारी किया गया है. आईफा ने लिखा कि मध्य प्रदेश के लिए वह नई तैयारी के साथ आएगा. साथ ही लोगों को जरूरी सावधानी बरतने और सुरक्षित रहने की अपील की.

IIFA ने लिखा,

COVID-19 के फैलने से जुड़ी चिंताओं और IIFA के फैन्स और आम लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, मध्य प्रदेश सरकार और इंडस्ट्री के स्टेक होल्डर्स से चर्चा करने के बाद IIFA मैनेजमेंट ने IIFA अवॉर्ड की तारीख आगे बढ़ाने का फैसला किया है.

लौटते हैं जेम्स बॉन्ड पर.

# जेम्स बॉन्ड के बारे में कुछ और इन्फॉर्मेशन-

‘नो टाइम टू डाय’. जेम्स बॉन्ड फ्रेंचाइज़ की पच्चीसवीं मूवी. जी हां, ठीक पढ़ा आपने पच्चीसवीं. 1962 में पहली आई थी. ‘डॉक्टर नो’. अब ये इतनी पुरानी फ्रेंचाइज़ है तो, जेम्स बॉन्ड भी बदलते रहते हैं. सीन कोनेरी पहले जेम्स बॉन्ड बने थे. तब से लेकर आज तक जेम्स बॉन्ड का किरदार करने वाले एक्टर्स 5 बार बदल चुके हैं. डेनियल क्रेग छठे ऐसे एक्टर हैं जो इस फ्रेंचाइज़ में जेम्स बॉन्ड बन रहे हैं. ‘नो टाइम टू डाय’ को मिलाकर कुल पांच मूवीज़ में वो जेम्स बॉन्ड का किरदार निभा चुके हैं. 2006 में आई ‘केसिनो रोयाल’ डेनियल क्रेग की पहली जेम्स बॉन्ड मूवी थी. ऐसे ही इस फ्रेंचाइज़ की मूवीज़ के डायरेक्टर भी आज तक 11 बार बदल चुके हैं. कैरी जोजो फुकांगा बारहवें डायरेक्टर हैं. और डायरेक्टर के तौर पर उनकी जेम्स बॉन्ड फ्रेंचाइज़ की पहली मूवी ‘नो टाइम टू डाय’ ही है.

इयान फ्लेमिंग. इंग्लैंड के लेखक. जेम्स बॉन्ड उनके ही दिमाग की उपज थी.

जेम्स बॉन्ड के बारे में इतना समझ लीजिए कि ये एक जासूस है, जो केवल लॉजिक्स लगाकर ही केस सॉल्व नहीं करता, बल्कि ज़रूरत पड़ने पर हाथ-पांव भी चला लेता है. इसे दुनिया का सबसे स्टाइलिश जासूस कहा जाता है. इसके पास जो गैजेट्स होते हैं वो भी दूसरी दुनिया के या भविष्य के लगते हैं. फिर चाहे वो घड़ी हो चश्मा हो या कार.

जेम्स बॉन्ड की फिल्मों की एक कॉमन थीम (ज़्यादातर में) ये रहती है कि जेम्स बॉन्ड को मूवी के बीच में मर गया बताया जाता है, लेकिन फिर अंत में दिखाया जाता है कि वो वापस आ गया. हर मूवी में जेम्स का ‘कोड एम’ (उसकी बॉस) के साथ झगड़ा ज़रूर होगा. हर मूवी में जेम्स बॉन्ड की एंट्री ऐसे होगी जैसे रोहित शेट्टी की मूवी में रणवीर सिंह, अजय देवगन या अक्षय कुमार की होती है. ऑलमोस्ट हर मूवी में एक लड़की की एंट्री होगी. बिकनी में.

जेम्स बॉन्ड को 007 भी कहा जाता है. और इसमें दो मतलब छुपे हैं. पहला डबल ओ (OO) जिसे 00 भी लिख लिया जाता है. इसका मतलब है- लाइसेंस टू किल. मतलब वो बंदा जो किसी को भी मार सकता है और उसका कानून कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा. 7 नबंर के बारे में हालांकि कई थ्योरीज़ हैं. जैसे एक ये कि वर्तमान जेम्स बांड सातवां ‘डबल ओ’ एजेंट है.

थ्योरीज़ तो देखिए ‘इन्सेप्शन’ के क्लाइमेक्स में घूमते लट्टू को लेकर भी है और ‘अराइवल’ के एलियंस को लेकर भी. लेकिन सच तो ये है कि मूवीज़ कल्पनाएं हैं. और कल्पना में आप किसी को कुछ भी समझ लीजिए. कुछ भी मान लीजिए. ‘मैट्रिक्स’ की तरह नज़रों से चम्मच टेढ़ी कर दीजिए.

अगर सच होता तो लाइसेंस टू किल का ख़िताब जेम्स बॉन्ड को नहीं…

…छोड़िए, डार्क ह्यूमर है!


# वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?