Submit your post

Follow Us

आपके शरीर में ये लक्षण पाए गए तो भी कोरोना हो सकता है!

कोरोना के लक्षणों में बढ़ोतरी हुई है. नये पाए गए लक्षणों में ठंड लगना, कंपकपी चढ़ना, माँसपेशियों में दर्द होना, माथा दर्द होना, गले में दर्द होना, और स्वाद और महक का ना होना शामिल हैं. किसने ये लक्षण गिनाए हैं? अमेरिका के Centre for Disease Control and Prevention (CDC) ने अपनी वेबसाइट पर नए लक्षणों को सूची में जोड़ा है. 

इसके पहले CDC की लक्षणों वाली लिस्ट में बस खाँसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ़ ही थे. Indian Express में छपी ख़बर बताती हैं कि ये नए लक्षण कोरोना से बचाव में लगी हुई डॉक्टरों और वैज्ञानिकों के संगठन के कहने के बाद जोड़े गए हैं. संगठन का नाम : Council of States and Territorial Epidemiologists (CSTE). CSTE ने कहा है कि कोरोनावायरस को राष्ट्रीय स्तर पर मिलने वाली बीमारी घोषित कर देना चाहिए. CSTE ने दिशानिर्देश भी दिए हैं कि कोरोनावायरस के केसों की व्याख्या और उनकी पहचान कैसे की जाए. 

संगठन ने कहा है कि कोरोनावायरस के केस रिपोर्ट तब करने चाहिए, जब लैब से जांच की पुष्टि हो जाए. लेकिन ये भी कहा है कि अगर रोग के ये लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो भी कोरोनावायरस के केस रिपोर्ट किए जा सकते हैं. लक्षणों को भी दो कैटेगरी में बांटा गया है. पहली कैटेगरी में खाँसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ़ हैं. तो दूसरी कैटेगरी में ठंड लगना, कंपकपी चढ़ना, माँसपेशियों में दर्द होना, माथा दर्द होना, गले में दर्द होना, और स्वाद और महक का ना होना शामिल हैं. CSTE ने कहा है कि जिन लोगों में इन दोनों ही कैटेगरी के लक्षण दिखाई दें, उन्हें सम्भावित कोरोना मरीज़ों की सूची में रखना चाहिए.

हालांकि CDC द्वारा जारी की गयी लिस्ट WHO द्वारा गिनाए गए लक्षणों से अलग है. CDC बहुत सारे लक्षणों की गिनती कर रही है. जबकि WHO ने कहा है कि सबसे कॉमन लक्षण हैं सूखी खाँसी, बुखार और कमज़ोरी. 

तो क्या लक्षण से ही कोरोना मरीज़ डिसाइड होंगे?

शायद नहीं. इस सबके अलावा रिसर्च के हवाले से बात करें तो कोरोना के अधिकतम केस उन लोगों के हैं, जिनमें कोरोना से संक्रमण के कोई भी लक्षण नहीं दिखाई दिए. और कुछ केसों में अगर बुखार, सर्दी या खाँसी जैसे लक्षण आए भी, तो जल्दी ही ग़ायब भी हो गए. सांस लेने में दिक़्क़त होने के लक्षण भी एक हफ़्ते या दस दिनों बाद कोरोना के मरीज़ों में देखने को मिले. साथ ही कोरोना के मरीज़ों में स्वाद और महक का सेंस ख़त्म होने के लक्षण भी सांस से जुड़ी दूसरी बीमारियों में भी मिलते हैं. 


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पालघर: जिस इलाके में मॉब लिंचिग हुई, वहां के पुलिसवालों पर बड़ा एक्शन लिया गया है

दो साधुओं और उनके ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या हुई थी.

खेल दिखाकर 'मदारी' चला गया, क्या बोले दुनियावाले

54 साल की उम्र में इरफान खान का निधन हो गया.

दुनिया के 20 बड़े फिल्म फेस्टिवल ला रहे हैं ऐसा फिल्म महोत्सव जिसे आप घर बैठे देख पाएंगे

वेनिस, कान, बर्लिन, लोकार्नो, टोरंटो, मामी - सब टॉप फेस्ट इसमें जुटे हैं. सिनेमा इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.

क्या सरकार ने कंपनियों के लिए वर्क फ्रॉम होम को जुलाई तक बढ़ा दिया है?

रवि शंकर प्रसाद ने घर से काम के कल्चर को बढ़ावा देने की बात कही थी.

क्या MP में बाहर से आने वाले मजदूरों और छात्रों के बीच भेदभाव किया गया?

सिर्फ आगर मालवा जिले में अब तक नौ हज़ार से ज्यादा मजदूर लौटे हैं.

लॉकडाउन में इस एक्टर ने मंदिर में शादी की और खर्च बचाकर कोरोना राहत के लिए डोनेट कर दिया

रजनीकांत के साथ 'पेट्टा' और ममूटी के साथ 'ममंगम' में नज़र आ चुके हैं मलयालम एक्टर मणि.

ब्रेट ली ने बताया, सचिन और वॉर्न की टक्कर में किसने मारी बाज़ी

ब्रेट ली ने बताया कि वॉर्न वापस ड्रेसिंग रूम में आकर क्या बोलते थे.

IPS अमिताभ का क्या हुआ, जिन्होंने DHFL वाले वधावन को लॉकडाउन में निकलने की परमिशन दी थी?

यस बैंक घोटाले में आरोपी भी हैं वधावन ब्रदर्स. अब CBI कस्टडी में.

लॉकडाउन को थैंक यू कहिए टीवी का सबसे झामफाड़ हॉरर शो वापस आ गया

जिन्होंने रामसे ब्रदर्स की फिल्में नहीं देखीं, उनके लिए ये शानदार मौका है.

जम्मू-कश्मीर में हाई स्पीड इंटरनेट पर रोक लगाने की ये बड़ी वजह बताई गई है

11 मई तक प्रदेश में 2जी इंटरनेट स्पीड ही मिलेगी.