Submit your post

Follow Us

सरकार ने दिया कोरोना पर राहत पैकेज, 80 करोड़ को मुफ्त अनाज और बहुत कुछ

देश लॉकडाउन में है. लोग घर से काम कर रहे हैं. लेकिन एक बड़ी आबादी ऐसी है जिनका घर बैठना उनके परिवार को भूखा मार सकता है. ऐसे ही लोगों के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राहत पैकेज का ऐलान किया है. उन्होंने 26 मार्च को एक लाख 70 हजार करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत. उन्होंने कहा कि ये सरकार की पहली प्राथमकिता है कि कोई भी व्यक्ति भूखा न सोए. वित्त मंत्री ने महिलाओं, किसानों और मजदूरों के लिए ढेर सारी घोषणाएं की.

किसके लिए क्या?

– उज्ज्वला योजना के तहत आठ करोड़ महिला लाभार्थियों को तीन महीने तक मुफ्त सिलिंडर दिए जाएंगे
– 20 करोड़ जनधन खाताधारक महिलाओं को 500 रुपये प्रति महीने अगले तीन महीने तक दिये जाएंगे.
– कोरोना के खिलाफ फ्रंटलाइन पर लड़ रहे मेडिकल स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ, टेक्नीशियन, आशा वर्कर और सफाई कर्मियों को 50 लाख का लाइफ इंश्योरेंस दिया जाएगा.
– महिला स्वयं सहायता समूहों में काम करने वाली महिलाओं को 20 लाख तक का लोन बिना जमानत के दिया जाएगा. ये लोन दीन दयाल राष्ट्रीय ग्रामीण जीविका योजना के तहत दिया जाएगा. पहले इसके अंतर्गत 10 लाख तक का लोन मिलता था. इससे 63 लाख लोगों को फायदा होगा.
– बुजुर्गों, दिव्यांगों और विधवाओं को तीन महीने तक 1 हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता दी जाएगी. 3 करोड़ लोगों को दो किस्तों में ये सहायता दी जाएगी.
– मनरेगा के में काम करने वाले मजदूरों की दिहाड़ी 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये की गई. इससे 5 करोड़ परिवारों को लाभ मिलेगा.
– PM किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत आठ करोड़ 70 लाख किसानों को 2 हजार रुपए की किस्त अप्रैल के पहले हफ्ते में ट्रांसफर कर दी जाएगी.
– यह सुनिश्चित किया जाएगा कि एक भी व्यक्ति बिना भोजन के न रहे. 80 करोड़ लोगों को 5 किलो चावल और गेहूं तीन महीने तक मुफ्त दिया जाएगा. ये पहले की योजनाओं के अतिरिक्त होगा. साथ में एक किलो दाल का भी प्रावधान है.

– वित्त मंत्री ने राज्य सरकारों से अनुरोध किया है कि वे जिला मिनरल फंड का इस्तेमाल मेडिकल स्क्रीनिंग, टेस्टिंग गतिविधि, कोरोना के बारे में जागरूकता जैसे कामों में करें.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

BJP सांसद बोले- कोरोना फैलाने वाले जमात के लोगों से आतंकियों की तरह निपटना चाहिए

मुज़फ्फरपुर सांसद अजय निषाद ने भारत सरकार से कारवाई की मांग की है.

'क्राइम पेट्रोल' के एक्टर और 'बाग़बान' के स्क्रीनराइटर की कैंसर से मौत हो गई

इलाज के लिए पैसे भी मुश्किल से जुटाने पड़े.

गुजरातः वोटों की गिनती में घपले के चलते जीते थे BJP के मंत्री, हाई कोर्ट ने चुनाव ही रद्द कर दिया

भूपेंद्र सिंह चुड़ास्मा की गुजरात के बड़े नेताओं में गिनती होती है.

कोरोना के कारण पड़ोसी परेशान करते थे, डॉक्टर ने कहा- कुत्ते के साथ होटल में रह लूंगा

डॉक्टर को देखकर रास्ता बदलने लगे थे पड़ोसी.

लॉकडाउन के बीच सनी लियोन के भारत से अमेरिका जाने की वजह भावुक कर देगी!

अब तक भारत में परिवार समेत रह रही थीं सनी लियोन

PM मोदी और मुख्यमंत्रियों की मीटिंग में लॉकडाउन को लेकर क्या फ़ैसला हुआ?

क्या लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा?

ट्रेन चलने पर भी घर न जा सका, तो कारखाने में ही फांसी लगा ली

बड़े भाई ने वीडियो बनाकर बाकी लोगों को घर भेजे जाने की अपील की.

विरेंदर सहवाग का सबसे फेमस किस्सा सरासर झूठ है: शोएब अख्तर

'भरोसा न हो, तो गौतम गंभीर से पूछ लो'.

सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए अपने खर्चे पर चलवाईं 10 बसें

जो काम सरकारों को करना चाहिए था, उसकी परमिशन सोनू खुद सरकारों से लेकर आए.

मध्य प्रदेश में सरकार ने कोरोना मरीजों के डेटा के साथ ये गड़बड़ी कर दी!

'सार्थक' नाम से ऐप बनाया, पर नाम जैसा काम नहीं कर पाए.