Submit your post

Follow Us

कौन है कोरोना की कॉलर ट्यून वाली लड़की, जिनकी आवाज़ करोड़ों लोग सुन रहे हैं?

कोरोना वाला मामला भारत में आए हो चुके हैं लगभग तीन महीने. और तीन महीनों में भारतीय लोगों के मोबाइल फ़ोन में एक और महत्त्वपूर्ण चीज़ ने जगह ले ली है. वो कोरोना वाली कॉलर ट्यून है. कोरोना से बचाव की हिदायत देते इस कॉलर ट्यून में जो आवाज़ है, तो जसलीन भल्ला की है. 

जसलीन भल्ला दिल्ली की वॉयस ओवर आर्टिस्ट हैं. आजतक के साथ बातचीत में बताती हैं कि साल 2010 से वॉयस ओवर की दुनिया में काम कर रही हैं. पहले भी सरकारी और ग़ैरसरकारी प्रोजेक्ट के लिए काम किया है. आंगनवाड़ी के लिए, रेलवे के लिए, एयरलाइंस के लिए. लेकिन कोरोना की कॉलर ट्यून के बारे में बताती हैं,

“जब एक प्रोडक्शन हाउस की तरफ़ से हेल्थ मिनिस्ट्री का एक प्रोजेक्ट मेरे पास आया, तो मुझे पता नहीं था कि ये एक सोशल मैसेज है. मुझे अंदाज़ नहीं था की 30 सेकेंड के इस ऑडियो को इतना सुना जायेगा और हर किसी के फ़ोन पर होगा.”

अब कोरोना की कॉलर ट्यून तो बन गयी. लोगों के फ़ोन पर बजने लगी. फ़ोन पर बजने के बाद प्रतिक्रियाएं आनी थीं. तो क्या प्रतिक्रियाएं आयीं? जसलीन बताती हैं,

“कई लोग मुझे मैसेज करते हैं. कोई बहन कहता है तो कोई बेटी कहता है. कुछ लोग मेरी आवाज सुनकर मुझे भी सेफ रहने की हिदायत देते हैं.”

लेकिन एकदम ऐसा नहीं है. कुछ लोग परेशान भी हैं. बक़ौल जसलीन,

“बहुत सारा पॉज़िटिव रेस्पॉन्स भी मिला. कुछ लोग ये भी कहते हैं कि बार-बार तुम्हारी आवाज सुनकर इरिटेट हो गए हैं. रही बात मेरी तो मुझे अपनी आवाज में खुद को सलाह देते हुए सुनना कई बार अजीब भी लगता है.”

कोरोना के बारे में बात करते हुए जसलीन ने कहा,

“ये बहुत जरूरी है कि किसी न किसी माध्यम से आपको इस बीमारी की गंभीरता से अवगत कराते रहा जाए. नहीं तो हम इसको सीरियसली नहीं लेंगे. और जब इस बीमारी का दूसरा चरण आएगा तो हमें बहुत नुकसान हो सकता है.”

कोरोना के प्रोजेक्ट के बारे में और बात करते हुए जसलीन ने कहा,

“हमने लगभग डेढ़ महीने काम किया. बहुत सारे ऑडियो रिकॉर्ड किये. हमने कोरोना वारियर्स के लिए भी काम किया. उस ऑडियो में हमने ये मैसेज देने की कोशिश की कि सामाजिक दूरी बनाएं, भावनात्मक दूरी नहीं. कोरोना वारियर्स का ख़याल रखें. उनके काम को इज्जत दें. क्योंकि वो आपके लिए वो जंग लड़ रहे हैं. वो ऑडियो भी फ़ोन पर खूब चला. हम इसके माध्यम से एक दूसरे से जुड़ पाते हैं. क्योंकि हम सबकी समस्या एक ही है.”

आख़िर में जसलीन बताती हैं कि अब तक किए गए काम से उन्हें अधिकारियों या कम्पनी के मैनेजरों का फ़ीडबैक मिलता था. लेकिन अब कुछ बदल गया है,

“अब आम जनता बात कर रही है. लोग बता रहे हैं कि मैंने कैसा काम किया? या मेरे काम ने क्या बदला? क्या नहीं बदला?”

कहती हैं कि अपने काम के ज़रिए इस संकट के समय में अपने देश के लिए कुछ कर पाई. इस बात की मुझे बहुत खुशी है.


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.