Submit your post

Follow Us

सांड के अंतिम संस्कार में हज़ारों लोग पहुंचे, सोशल डिस्टेंसिंग की टांई टुइंय्या फुस्स

देश में लॉकडाउन चल रहा है. कोरोना के संक्रमण को लेकर सरकार लोगों से घर में रहने की अपील कर रही है. सिर्फ मेडिकल इमरजेंसी में घर से बाहर निकलने की छूट दी गई है. लेकिन तमिलनाडु के मुदुवरपट्टी गांव में हज़ारों लोग जमा हुए. क्यों? जल्लीकट्टू सांड के अंतिम संस्कार के लिए.

इंडिया टुडे से जुड़े पत्रकार शिव अरूर का यह विडियो ट्वीट देखिए.

घटना को लेकर जिला प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं. 15 अप्रैल को डीएम टीजी विनय ने बताया कि सांड के अंतिम संस्कार में शामिल हुए लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. 3000 केस दर्ज किए गए हैं. फोटो और विडियो के आधार पर लोगों को पकड़ा जाएगा.

तमिलनाडु और कोरोना वायरस

तमिलनाडु भारत के सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित राज्यों में से है. राज्य में कोरोना के 1242 केस देखे गए हैं. 118 लोग चंगे हो गए हैं. 14 लोगों की मौत हो गई है. भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 12 हज़ार के पार पहुंच चुकी है.

जाते जाते जल्लीकट्टू समझ लीजिए

जल्लीकट्टू बहुत पुराना खेल है. इसमें सांड से कुश्ती की जाती है. उसे काबू करने वाला विजेता माना जाता है. जीतने वाले के लिए ये उसकी ताकत का सर्टिफिकेट होता है. देखने वालों को इसमें मनोरंजन मिलता है. खेल को और उत्तेजक मनाने के लिए सांड को नशा दिया जाता है. शराब, ड्रग्स, सब. उससे भी नहीं संतुष्ट होते हैं, तो सांड को चोट पहुंचाते हैं. ताकि वो और भड़के. इतने भड़के हुए और मजबूत सांड पर काबू पाने वाला ‘असली मर्द’ माना जाता है. जानवरों की परवाह करने वाले कुछ संगठन इस खेल पर बैन लगाने की मांग करने सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे. कोर्ट ने बैन लगा भी दिया था. तमिलनाडु के लोग नहीं माने मगर. सड़कों पर उतर आए. हिंसा होने लगी. जल्लीकट्टू मरने-मारने का सवाल बन गया. ये संस्कृति और आस्था का सवाल बन गया. कमल हसन और रजनीकांत जैसे तमिल सुपरस्टार्स ने भी जल्लीकट्टू का समर्थन किया था. स्थितियां इतनी बिगड़ गईं कि जल्लीकट्टू को फिर हरी झंडी मिल गई.

जल्लीकट्टू तमिलनाडु का पारंपरिक खेल है. सांड के ब्रीड में से जो सबसे अच्छा होता है, उसे जल्लीकट्टू खेल के लिए तैयार किया जाता है. जल्लीकट्टू में भाग लेने वाले सांड के प्रति लोगों की आस्था होती है.


विडियो- विडियो- कोरोना वायरस महामारी के दौरान पलायन करते मजदूरों की ताकतवर तस्वीरें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.