Submit your post

Follow Us

कोरोना: एक बड्डे पार्टी और एक अंतिम संस्कार ने शिकागो का बेड़ा गर्क कर दिया

इस साल फ़रवरी के अंत में अमेरिका को लगा कि उसने कोरोना वायरस को अपने देश में फैलने से रोक दिया है. इसी दौरान शिकागो में एक आदमी, जिसे सांस लेने में थोड़ी-सी दिक्कत हो रही थी, वह एक रिश्तेदार के यहां अंतिम संस्कार के कार्यक्रम में पहुंचा. इसके तीन दिन बाद एक बड्डे पार्टी में भी पहुंचा. इस वजह से बड़ी गड़बड़ हो गई.

कोरोना से संक्रमण की जानकारी नहीं थी

न्यूज़ एजेंसी AFP की रिपोर्ट मुताबिक़, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने 8 अप्रैल को कहा कि उस शख्स को पता नहीं था कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित है. ऐसे में वह संक्रमित रहने के दौरान कई लोगों से मिला. उसके जरिए 15 और लोग संक्रमित हो गए और इनमें से तीन लोगों की मौत हो गई है.

शिकागो, इलिनोइस प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है. यहां 21 मार्च तक लॉकडाउन के आदेश नहीं दिए गए थे. यह एक उदाहरण है कि अभी के वक्त में सोशल डिस्टेंसिंग कितनी ज़रूरी है. CDC से इस पूरे वाकए को ‘सुपर स्प्रेडिंग इवेंट’ का नाम दिया है. मतलब वो इवेंट, जहां से कोरोना वायरस बहुत ज्यादा फ़ैल गया.

लोगों के साथ खाया, गले भी लगा

अंतिम संस्कार से पहले वाली रात उस शख्स ने दो लोगों के साथ शेयर्ड प्लेट में खाना खाया था. इस पूरे कार्यक्रम में वह तीन लोगों से गले भी मिला. इनमें से तीन लोगों में 2-6 दिन के भीतर कोरोना वायरस होने के लक्षण दिखाई देने लगे. इस तीन में एक आदमी को हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था, लेकिन एक महीने बाद उसकी मौत हो गई. दो लोग ठीक हो गए.

जिस आदमी की मौत हो गई, उसे इंटेंसिव केयर में रखा गया था. ये उस कोरोना संक्रमित इंसान से अंतिम संस्कार वाली जगह मिले थे.

संक्रमित मरीज़, जिसे पता नहीं था कि वह संक्रमित है, अंतिम संस्कार के तीन बाद एक बड्डे पार्टी में गया. वहां करीब तीन घंटे तक रहा. इस पार्टी में परिवार के नौ लोग थे. इस पार्टी के सात दिन बाद सात लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखे. इसमें से दो लोगों को भर्ती किया गया. उन्हें सांस की दिक्कत बढ़ी, तो वेंटिलेटर पर रखा गया. लेकिन इन दोनों को बचाया नहीं जा सका.

मरने वाले दो लोगों में एक इंसान के देखभाल में दो लोग लगे हुए थे. ये दोनों कोरोना संक्रमण संभावित हैं. परिवार के सदस्यों ने उन लोगों तक कोरोना वायरस फैला दिया, जो पार्टी में गए भी नहीं थे. जन्मदिन की पार्टी में पहुंचे तीन लोग कोरोना वायरस से संक्रमित होने के संभावित थे. ये लोग बर्थडे पार्टी के छह दिन बाद चर्च पहुंचे. यहां वह हेल्थकेयर से जुड़े लोगों से मिले. करीब डेढ़ घंटे तक आस-पास ही बैठे थे.

अमेरिका में कोरोना

अमेरिका के इलिनोइस प्रदेश में कोरोना के मामले 15 हज़ार के पार पहुंच चुके हैं. 460 लोगों से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. पूरे अमेरिका में चार लाख से ज्यादा कोरोना के एक्टिव केस हैं. 15 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

CDC से कहा है कि अंतिम संस्कार, बड्डे और चर्च के इवेंट सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को फॉलो करने से पहले हुए. CDC ने न्यूज़ एजेंसी AFP को बताया है कि मरीजों की उम्र पांच से 86 साल के बीच है. ऐसे में CDC ने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को कड़ाई से फॉलो करने को कहा है.


कोरोना ट्रैकर


विडियो- मोदी सरकार ने दिए लॉकडाउन न खोलने के संकेत, क्या है आगे की प्लानिंग?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.