Submit your post

Follow Us

सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर एक गुड न्यूज़ दी है

कोरोना के बढ़ते प्रभाव के बीच एक खबर थोड़ी राहत वाली सामने आई है. खबर है कि देश के 25 जिलों में पिछले 14 दिनों में कोरोना का एक भी नया केस सामने नहीं आया है. लॉकडाउन के बीसवें दिन इसका सकारात्मक असर भी देखने को मिल रहा है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने रोजाना के प्रेस कॉन्फ्रेंस में इन जिलों की जानकारी दी. मंत्रालय ने कहा है कि देश के 15 राज्यों के 25 ऐसे जिले हैं जहां पहले तो कोरोना वायरस के संक्रमित रोगी मिले थे, लेकिन बीते 14 दिन में यहां कोई नए मामले नहीं सामने आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने इन 25 जिलों की जानकारी दी. ये जिले हैं-

1- गोंदिया- महाराष्ट्र

2- राजनांदगांव, दुर्ग और बिलासपुर- छत्तीसगढ़

3- दावनगिरी, कोडागू, तुमकुर और उडूपी- कर्नाटक

4- दक्षिण गोवा-गोवा

5- वायनाड और कोट्टायम- केरल

6- पश्चिम इंफाल-मणिपुर

7- राजौरी- जम्मू-कश्मीर

8- आइजोल पश्चिम- मिजोरम

9- माहे-पुडुचेरी

10- एसबीएस नगर- पंजाब

11- पटना, नालंदा, मुंगेर- बिहार

12- प्रतापगढ़-राजस्थान

13- पानीपत, रोहतक और सिरसा- हरियाणा

14- पौढ़ी गढ़वाल-उत्तराखंड

15- भद्रदारी कोठगुदेम- तेलंगाना

इन जिलों में 14 दिन पहले कोरोना के मरीज मिले थे. उनका इलाज कराया गया और लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया गया. इसका नतीजा ये हुआ कि यहां पर दो सप्ताह बाद कोरोना वायरस का कोई नया मामला सामने नहीं आया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे बेहद सकारात्मक रिपोर्ट करार दिया है.


वहीं, उत्तराखंड स्वास्थ्य मंत्रालय ने एएनआई के हवाले से एक जानकारी और दी है. मंत्रालय कहना है कि पिछले चार दिनों में पूरे प्रदेश में एक भी नया केस सामने नहीं आया है. फिलहाल उत्तराखंड में कोरोना के कुल 35 एक्टिव केस हैं.



वीडियो देखें: रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी का ‘रामायण’ देखते हुए वीडियो वायरल

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिल्ली में एक ही बिल्डिंग में मिले कोरोना के 58 पॉजिटिव मरीज

जिन्हें संक्रमण हुआ है वो लोग एक ही टॉयलेट इस्तेमाल करते थे.

कुलभूषण जाधव मामले में वकील हरीश साल्वे ने खोले पाकिस्तान के कई बड़े राज

भारतीय अधिवक्ता परिषद के ऑनलाइन लेक्चर में कई बातें बताईं.

लोकपाल मेंबर कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे, अब हार्ट अटैक से मौत हो गई

अप्रैल से एम्स में थे अजय कुमार त्रिपाठी.

लॉकडाउन: मां चूल्हे पर बर्तन में पत्थर पकाती जिससे बच्चों को लगे कि खाना बन रहा है

भूखे बच्चे इंतजार करते-करते सो जाते.

पालघर: लिंचिंग स्पॉट पर जा रही पुलिस की बस को 200 लोगों ने रोका था, मारे थे पत्थर

लिंचिंग वाली जगह से करीब 13 किमी दूर तीन घंटे तक रोक कर रखा था.

यूजीसी ने बताया, इन तारीखों को और इस तरह होंगे यूनिवर्सिटी के एग्जाम

जिन बच्चों के पेपर अटके हुए हैं, उनका साल बर्बाद न हो, इसकी पूरी व्यवस्था है.

आतंकियों को हथियार पहुंचाने में BJP का पूर्व नेता पकड़ाया, पार्टी ने कहा 'बैकग्राउंड पता नहीं था'

ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा #BJPwithTerrorists.

मज़दूरों को अपने राज्य ले जाने वाली पहली ट्रेन चल पड़ी है

केंद्र ने तो बस की बात की थी, फिर ये कैसे मुमकिन हुआ?

ऋषि कपूर नहीं रहे, अमिताभ बच्चन ने ट्विटर पर बताया

29 अप्रैल की देर रात अस्पताल में हुए थे भर्ती.

ऋषि कपूर अस्पताल में भर्ती, भाई रणधीर ने बताया- उनकी सेहत ठीक नहीं है

कुछ ही महीनों पहले कैंसर से ठीक होकर न्यू यॉर्क से लौटे हैं.