Submit your post

Follow Us

कोरोना वायरस की वजह से कई जगहों पर लॉकडाउन, पर ये है क्या और इस दौरान क्या करना चाहिए?

पीएम नरेंद्र मोदी ने 19 मार्च को कोरोना वायरस को लेकर देश को संबोधित किया. उनके संबोधन से पहले सोशल मीडिया पर भारत में लॉकडाउन लगाने की अटकलें लगाई जा रही थी. हालांकि पीएम ने ऐसा कुछ नहीं किया. इसके बजाए उन्होंने जनता कर्फ्यू की बात की. उन्होंने इसके लिए 22 मार्च का दिन तय किया. लेकिन लॉकडाउन शब्द फिर भी काफी चर्चा में है. दुनिया के कई देशों में कोरोना को काबू करने के लिए लॉकडाउन किया गया.

लॉकडाउन का मतलब होता तालाबंदी. यानी किसी व्यक्ति या जगह को बंद कर दिया जाता है. विशेष हालातों में लॉकडाउन लगाया जाता है. इसमे लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है. यह कुछ-कुछ कर्फ्यू जैसे ही होता है. बस फर्क यह है कि लॉकडाउन किसी आपदा या महामारी के वक्त लागू किया जाता है. एक तरह का सुरक्षात्मक उपाय है. कर्फ्यू की तरह ही लॉकडाउन में भी लोगों को घर से निकलने की अनुमति नहीं होती है. बहुत जरूरी काम जैसे दवा, खाने-पीने का सामान के लिए ही घर से बाहर जा सकते हैं.

चीन को लॉकडाउन से मिली कामयाबी

अमेरिका ने 2001 के आंतकी हमले के बाद पूरे देश में तीन दिन का लॉकडाउन कर दिया था. पिछले साल जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद सिक्योरिटी लॉकडाउन लगाया गया था. कोरोना वायरस के मामले तेजी से सामने आने के बाद चीन ने अपने कई शहरों को लॉकडाउन कर दिया था. वुहान जहां से वायरस फैला. वहां सबसे पहले लॉकडाउन किया गया जिससे कि वायरस को काबू किया जा सके. इससे उसे फायदा भी मिला. इसके बाद इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे देशों ने भी कोरोना को रोकने के लिए लॉकडाउन किया है.

Itary Corona Virus
इटली की एक चौथाई आबादी को घरों से बाहर निकलने से रोक दिया गया है. (Photo: PTI)

भारत में अभी तक सरकार का कहना है कि लॉकडाउन नहीं होगा. और अगर हो तो क्या करें- 

– घर के अंदर ही रहें. सरकार की ओर से जारी आदेशों का पालन करें.
– जरूरत के हिसाब से खरीदारी करें. Panic buying यानी डर के चलते ज्यादा खरीदारी न करें.
– अफवाहों पर भरोसा न करें. सरकारी आदेशों या खबरों के नाम पर आने वाले वॉट्सऐप मैसेज को आंख मूंदकर सच न मान लें. इस तरह की चीजों विश्वस्त न्यूज चैनलों या साइटों के जरिए कंफर्म करें. जहां भी किसी मैसेज या बात पर संदेह हो, उसे वहीं रोक दें.
– भीड़ का हिस्सा बनने से बचें.
– साधारण सर्दी जुकाम होने पर अस्पताल जाने से बचें. कोशिश करें कि डॉक्टर से फोन पर ही सलाह-मशविरा लें.
– हाइजीन का ध्यान रखें.
– आटा, दाल, चावल, दूध, सब्जियां एक बार में ले आएं, ताकि बार-बार बाहर न जाना पड़े. यह सामान जरूरत के अनुसार ही रखें. बेमतलब स्टॉक न करें.
– व्यापारी राशन के सामान को लेकर डर न फैलाएं.

लॉकडाउन में सरकार की जिम्मेदारी

सरकार का काम होता है कि वह ध्यान रखें कि डर न फैलें. खाने-पीने के जरूरी सामान की कमी न हो. इस बारे में मुरादाबाद के एसडीएम (सदर) हिंमाशु वर्मा ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान सरकार एसेंशिएल कमोडिटीज एक्ट 1955 को सख्ती से लागू कर सकती है. साथ ही इसमें खाने-पीने के जरूरी सामान को जोड़ सकती है. जरूरत पड़ने पर सरकार खाने-पीने के सामान के दाम तय कर सकती है.  जैसे 20 मार्च को उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने सैनेटाइज़र और मास्क की कीमतें तय कर दीं. ये दोनों सामान अब तय कीमत से ज्यादा पर नहीं बेचे जा सकते. अगर कोई ऐसा नहीं करता है तो उससे 7 साल तक की सजा हो सकती है.

वर्मा ने बताया कि जरूरत के अनुसार सरकार कदम उठाती है. खाने-पीने का जरूरी सामान जैसे आटा, दाल, चावल का सरकार के पास काफी स्टॉक है. जरूरत के अनुसार सरकार इनकी राशनिंग कर सकती है. मेडिकल, किराने, डेयरी जैसी दुकानें खुली रखी जाती है ताकि लोगों को परेशानी न हो.

राजस्थान के भीलवाड़ा में कोरोना के 6 मामले सामने आए हैं. इसके बाद वहां पर लॉकडाउन किया गया है. प्रशासन वहां पर मोबाइल वैन की जरिए खाने-पीने का सामान मुहैया करा रहा है.

19 मार्च की रात 8 बजे नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया और कहा कि अगले दो हफ्ते काफ़ी महत्वपूर्ण होने वाले हैं.
19 मार्च की रात 8 बजे नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया और कहा कि अगले दो हफ्ते काफ़ी महत्वपूर्ण होने वाले हैं.

क्या कह रही हैं सरकारें-

पीएम मोदी-
देश में दूध, खाने-पीने का सामान, दवाइयां, जीवन के लिए जरूरी ऐसी आवश्यक चीजों की कमी ना हो, इसके लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं. ये सप्लाई कभी रोकी नहीं जाएगी. पैनिक न करें. जरूरत का सामान इकट्ठा करने की होड़ मत लगाइए.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ-
घबराएं नहीं. व्यापारी जमाख़ोरी न करें. पर्याप्त खाद्यान्न हैं. भीड़ भाड़ न करें. संक्रमण न होने दें. दुकानों में लाइन न लगाएं. जो जरूरी हो वहीं लेने बाहर जाएं. किसी चीज़ की क़िल्लत नहीं होने देंगे. बिना जरूरत का सामान जमा न करें.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे-
मुंबई, नागपुर, पुणे और पिंपरी को लॉकडाउन करने का फैसला किया है. लेकिन राशन-सब्जी की दुकानें और दवाई की दुकानें यानी मेडिकल शॉप खुले रहेंगे. इसके अलावा जरूरी सेवाएं भी जारी रहेंगी. पैनिक बाईंग न करें.

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत-
लोगों को सामान की कमी नहीं आने दी जाएगी. इसके लिए पुलिस घर-घर जाकर राशन मुहैया कराएगी. प्रत्येक मोहल्ले में एक दुकान की पहचान होगी. उससे आवश्यक चीजों को होम डिलिवरी कराया जाएगा. ऐसी दुकानों का नम्बर और सम्बंधित थाने चौकियों के पुलिसकर्मियों का नम्बर भी भी लोगों को दिया जाएगा.


Video: कोरोना: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई-पुणे समेत चार शहरों में लॉकडाउन की घोषणा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राजस्थान रॉयल्स के डेविड मिलर ने क्यों कहा- मैं धोनी की तरह बैटिंग नहीं करना चाहता

राजस्थान रॉयल्स के डेविड मिलर ने क्यों कहा- मैं धोनी की तरह बैटिंग नहीं करना चाहता

मिलर ने और भी कई बातें कही हैं.

NLAT 2020: दोबारा हुए एग्जाम में भी लीक हो गया क्वेश्चन पेपर!

NLAT 2020: दोबारा हुए एग्जाम में भी लीक हो गया क्वेश्चन पेपर!

छात्रों की शिकायत के बाद दोबारा आयोजित हो रही थी NLAT की परीक्षा.

ऐसा क्या हुआ कि ट्विटर पर #बेरोजगार_सप्ताह ट्रेंड करने लगा

ऐसा क्या हुआ कि ट्विटर पर #बेरोजगार_सप्ताह ट्रेंड करने लगा

बीजेपी ने सेवा सप्ताह मनाने की बात की तो 'बेरोजगार' भन्ना गए

IPL 2020 से पहले गंभीर ने कोहली की कप्तानी की बखिया उधेड़ दी

IPL 2020 से पहले गंभीर ने कोहली की कप्तानी की बखिया उधेड़ दी

फिर बेहतर प्रदर्शन को लेकर सलाह भी दी.

डोमिनिक थीम बने यूएस ओपन 2020 विजेता, दोहराया 71 साल पुराना कारनामा

डोमिनिक थीम बने यूएस ओपन 2020 विजेता, दोहराया 71 साल पुराना कारनामा

इस बार न फेडरर थे और न नडाल.

अनुराग कश्यप को KRK ने दी श्रद्धांजलि, डायरेक्टर बोले- यमराज वापस घर छोड़ गए

अनुराग कश्यप को KRK ने दी श्रद्धांजलि, डायरेक्टर बोले- यमराज वापस घर छोड़ गए

लोग अनुराग कश्यप की आत्मा की शांति की प्रार्थना करने लगे थे.

UGC NET 2020: एग्जाम से दो दिन पहले NTA ने जारी की नई तारीख

UGC NET 2020: एग्जाम से दो दिन पहले NTA ने जारी की नई तारीख

दो दिन पहले तक एडमिट कार्ड न जारी होने की वजह से भ्रम में थे, UGC NET के अभ्यर्थी

कोरोना काल में ऐसे बदली-बदली दिखी संसद, प्‍लास्टिक की 'दीवार' के पीछे बैठे सांसद

कोरोना काल में ऐसे बदली-बदली दिखी संसद, प्‍लास्टिक की 'दीवार' के पीछे बैठे सांसद

मॉनसून सत्र में कई चीजें ऐसीं, जो इतिहास में पहले कभी नहीं हुईं

NEET छात्रों के लिए ट्वीट कर खुद मुसीबत में फंस गए एक्टर सूर्या!

NEET छात्रों के लिए ट्वीट कर खुद मुसीबत में फंस गए एक्टर सूर्या!

देश में 13 सितंबर को NEET का आयोजन किया गया.

क्या कोरोना वायरस वुहान की सरकारी लैब में बना?  चीन की डॉक्टर ने सुबूत होने का दावा किया

क्या कोरोना वायरस वुहान की सरकारी लैब में बना? चीन की डॉक्टर ने सुबूत होने का दावा किया

डॉक्टर ने कहा कि वो जल्द ही अपनी रिपोर्ट पब्लिश करने वाली हैं.