Submit your post

Follow Us

दोगुनी कीमत पर क्यों मिल रही है भारत बायोटेक की मेड इन इंडिया वैक्सीन?

केंद्र और राज्य सरकार के लिए कोरोना (Corona) वैक्सीन की अलग-अलग कीमतों का मुद्दा दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी के साथ मीटिंग में उठाया था.  कई और राज्यों के मुख्यमंत्री लेटर लिखकर इस मुद्दे को उठा रहे हैं. इस बीच सीरम इंस्टिट्यूट की कोविशील्ड (Covishield) के बाद अब भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) के दाम भी तय कर दिए गए हैं. इसमें भी राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों के लिए अलग-अलग कीमतें रखी गई हैं. इस ‘मेड इन इंडिया’ वैक्सीन की कीमत सीरम इंस्टिट्यूट की बनाई एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन से भी ज्यादा रखी गई है.

‘मेड इन इंडिया’ सबसे महंगी

23 अप्रैल यानी शनिवार को भारत बायोटेक (Bharat BioTech) ने अपनी वैक्सीन कोवैक्सीन के दाम तय कर दिए. इसके मुताबिक राज्य सरकारों को यह वैक्सीन 600 रुपये, केंद्र सरकार को 150 रुपये और प्राइवेट अस्पतालों को 1200 रुपये में दी जाएगी. निर्यात करने की कीमत 15-20 (1124 रुपए से 1498 रुपए तक) डॉलर रखी गई है.

इससे पहले सीरम इंस्टिट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड के दाम तय किये गए थे. कोविशील्ड और कोवैक्सीन की तुलना करें तो भारत बायोटेक की ‘मेड इन इंडिया’ की वैक्सीन ज्यादा महंगी है. राज्यों के लिए कोविशील्ड की कीमत 400 रुपये और प्राइवेट अस्पतालों के लिए 600 रुपये रखी गई है. जबकि कोवैक्सीन प्राइवेट अस्पतालों को 1200 रुपये में और राज्यों को 600 रुपये में मिलेगी.
मतलब राज्यों को मेड इन इंडिया वैक्सीन के लिए कोविशील्ड की कीमत से  200 रुपए ज्यादा और प्राइवेट अस्पतालों को दोगुने यानी 1200 रुपए भरने होंगे.

 

भारत बायोटेक का कहना है कि

सरकार के निर्देशों के अनुसार हमने COVAXIN डोज़ की कीमतों की घोषणा की है. राज्य सरकार के लिए प्रति डोज़ 600 रुपये और निजी अस्पतालों के लिए 1,200 रुपये प्रति डोज़ दिया जाएगा.

भारत बायोटेक ने द इकॉनमिक टाइम्स अखबार को बताया कि वैक्सीन की कीमत ज्यादा इसलिए है क्योंकि इसमें एक खास सेफ्टी फीचर है. कंपनी ने कहा,

कोवैक्सीन बहुत हद तक प्यूरीफाइड तरीके से बनाई गई है. वैक्सीन को सेफ्टी प्रोफाइल के हिसाब से बेचा जा रहा है. यह भारत बायोटेक का यूनीक सेलिंग प्वाइंट है.

इतनी महंगी क्यों?

इससे पहले वैक्सीन के बढ़े दाम का बचाव करते हुए सीरम इंस्टिट्यूट ने कहा था कि पहले की कीमत एडवांस फंडिंग पर आधारित थी. अब इसे अधिक शॉट्स बनाने के लिए स्केलिंग और वैक्सीन बनाने की क्षमता बढ़ाने में निवेश करना होगा. कंपनी ने कहा कि वैक्सीन का एक लिमिटेड हिस्सा ही निजी अस्पतालों में 600 रुपये प्रति खुराक पर बेचा जाएगा.

सरकार 1 मई से वैक्सीनेशन के नए चरण की शुरुआत कर रही है. इसमें 18 साल से अधिक उम्र वाले सभी लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. 45 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को जिस तरह से वैक्सीन लगाई जा रही है वो जारी रहेगी. यानी सरकारी सेंटर्स में उनके लिए वैक्सीन मुफ्त उपलब्ध रहेगी.


वीडियो – कोरोना की दूसरी लहर को रोकने में कितनी कारगर है वैक्सीन, जानिए एक्सपर्ट की राय

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

कानपुर की घटना, पुलिस ने शुरुआती FIR में बीजेपी नेताओं का नाम ही नहीं लिखा.

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

अशोक गहलोत सरकार का इनकार, लेकिन आंकड़े कुछ और ही बता रहे.

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

लोग जस्टिस अरुण मिश्रा को इस पद के लिए चुने जाने का बस एक ही कारण गिना रहे हैं.

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

अलग-अलग आंकड़े क्या कहानी बताते हैं?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैज़ल ख़ुद मिलने गए थे अमित शाह से

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

ममता बनर्जी ने केंद्र के आदेश की क्या काट ढूंढ निकाली है?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

विवाद बढ़ता देख अब जांच के आदेश दिए गए.

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

कुछ सरकारी कर्मचारियों ने इस फैसले पर नाराजगी जताई.

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि ऐप के साथ छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब किए जा रहे हैं.