Submit your post

Follow Us

फिल्म क्रिटिक राजीव मसंद की तबीयत बहुत खराब है, कुछ दिन पहले हुए थे कोविड पॉज़िटिव

राजीव मसंद. फ़िल्म क्रिटिक और पत्रकार. इस वक़्त मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में एडमिट हैं. राजीव कुछ दिनों पहले कोविड पॉजिटिव आए थे. वो होम आइसोलेशन में थे. पर उनका ऑक्सीजन लेवल लगातार गिर रहा था. तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल ले जाया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजीव ICU में हैं.

पत्रकार भारती एस प्रधान ने सबसे पहले राजीव की हालत की जानकारी ट्विटर पर साझा की. जिसके बाद से सुनील शेट्टी बिपाशा बासु समेत कई फ़िल्म जगत की हस्तियां राजीव की सलामती की दुआएं कर रहीं हैं.

 

जल्दी से ठीक हो जाओ राजीव. तुम्हारी सेहत जल्दी ठीक हो इसकी प्रार्थना कर रहा हूं.

16 की उम्र में टाइम्स ऑफ़ इंडिया से अपने करियर की शुरुआत करने वाले राजीव दो दशकों तक फ़िल्म पत्रकारिता में एक बड़ा नाम रहे हैं. उनके ‘राउंड टेबल’ जैसे शोज़ दर्शकों के बीच ज़बरदस्त लोकप्रियता रखते हैं. हालांकि बीती जनवरी राजीव ने फ़िल्म पत्रकारिता छोड़ अपने पुराने दोस्त करण जौहर की टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी ‘धर्मा कार्नर स्टोन एजेंसी’ जॉइन की थी. बतौर COO . पिछले साल सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद राजीव मसंद का विवादों में भी नाम आया था. उन पर किसी के कहने पर सुशांत के खिलाफ़ आर्टिकल लिखने के आरोप लगे थे. जिसके चलते राजीव से करीबन आठ घंटे मुंबई पुलिस ने पूछताछ भी की थी.


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


वीडियो: मैटिनी शो: क्या हुआ जब ‘सुहाग’ और ‘अंदाज अपना-अपना’ एक ही दिन रिलीज हुई थी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

बुधवार रात 8 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने केंद्र को जमकर खरी-खोटी सुनाई.