Submit your post

Follow Us

हापुड़ः अस्पताल ने कहा- पहले 54 हजार का बिल भरो, तब देंगे कोरोना मरीज की डेडबॉडी

कोरोना संकट (corona crisis) के बीच लोगों के एकदूसरे की मदद करने की खबरें इंसानियत पर भरोसा मजबूत करती हैं. लेकिन ऐसे मामले भी सामने आ रहे हैं, जहां आपदा में लोगों से पैसे ऐंठने का मौका खोजा जा रहा है. यूपी के हापुड़ में एक ऐसा ही शर्मनाक मामला सामने आया है. 23 साल के कोरोना मरीज नितिन की इलाज के दौरान मौत हो गई. अस्पताल ने नितिन के शव को ही बंधक बना लिया. परिजनों से कहा कि 54 हज़ार रुपये जमा करने के बाद ही शव मिलेगा. बाद में, एसडीएम के दखल के बाद परिजनों को शव मिल सका.

SDM की बात भी नहीं मानी

आजतक संवाददाता के मुताबिक, पिलखुवा के गालंद निवासी नितिन गोयल को कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण के चलते रामा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. 4 मई की देर रात नितिन की मौत हो गई. परिजनों का आरोप है कि अगले ही दिन अस्पताल मैनेजमेंट ने नितिन के पिता मनोज गोयल को 54 हज़ार रुपये का बिल थमा दिया. मनोज ने इतने पैसे न होने की बात कही. लेकिन अस्पताल मैनेजमेंट ने साफ कह दिया कि जब तक रुपये जमा नहीं होंगे, शव नहीं दिया जाएगा.

हैरान-परेशान परिजन जिला प्रशासन की शरण में पहुंचे. इसके बाद धौलाना के एसडीएम अरविंद द्विवेदी ने अस्पताल मैनेजमेंट से बात की. कहा कि नितिन के इलाज में जो भी खर्चा हुआ है, वह चुका देंगे. परिवार को शव दे दिया जाए. आरोप है कि इतने पर भी अस्पताल के अधिकारी नहीं पसीजे. अस्पताल ने मृतक के परिजनों से 35 हज़ार रुपये वसूल लिए. उसके बाद ही शव सौंपा.

अस्पतालों में तैनात किए गए मजिस्ट्रेट

रामा मेडिकल कॉलेज में मरीज के परिजनों के साथ हुए दुर्व्यवहार की जांच का आदेश डीएम अनुज सिंह ने जारी कर दिया है. डीएम ने रामा मेडिकल कॉलेज के अलावा जीएस मेडिकल कॉलेज और सरस्वती मेडिकल कॉलेज में मजिस्ट्रेट तैनात कर दिए हैं. ये मजिस्ट्रेट अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन की सप्लाई, वेंटिलेटर की समस्या देखेंगे. मरीजों को एडमिट और डिस्चार्ज करने के काम पर नजर रखेंगे. ये भी सुनिश्चित करेंगे कि परिजनों को शव सौंपने में कोई जोर-जबरदस्ती या वसूली न की जाए.

UP में कोरोना से कुछ राहत

कोरोना वायरस यूपी में भी कहर बरपा रहा है. हालांकि कुछ धीमा पड़ता दिख रहा है. यूपी में नए केसेज की तुलना में ठीक होने वालों की संख्या बढ़ी है. यूपी में पिछले 24 घंटों के दौरान Covid-19 संक्रमित 28,902 मरीज ठीक हुए हैं. वहीं संक्रमण के 26,780 नए मामले सामने आए हैं. राजधानी लखनऊ में ही 1865 नए केस मिले हैं, जबकि 3755 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं.


वीडियो – अलीगढ़: मोर्चरी में 10 दिन से रखा था पिता का शव, लेने के लिए बेटा आया तो मना कर दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.