Submit your post

Follow Us

बस विवाद: कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने पार्टी और प्रियंका गांधी पर ये क्या बोल दिया?

अदिति सिंह. रायबरेली की सदर सीट से विधायक हैं.  ट्विटर पर उनके नाम में INC लिखा है. यानी इंडियन नेशनल कांग्रेस. ये अलग बात है कि कांग्रेस अपने विधायक की विधायकी रद्द करवाने के लिए बहुत समय पहले नोटिस दे चुकी है. 20 मई को अदिति सिंह अचानक एक बार फिर खबरों में आ गईं. वजह, उनके दो ट्वीट. क्या हैं वो दो ट्वीट?

उन्होंने इसी से संबंधित एक और ट्वीट किया-

मजदूरों के लिए बसों के इंतजाम को लेकर कांग्रेस और बीजेपी में लेटर पर लेटर और मुकदमे पर मुकदमे हो रहे हैं. प्रियंका गांधी ने मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए योगी आदित्यनाथ से 1000 बसों की परमिशन मांगी थी. इसके बाद से ही बवाल जारी है.

अदिति के ट्वीट के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने अदिति पर अफवाह फैलाने का आरोप लगाया है. दिल्ली कांग्रेस की नेता अलका लांबा ने अदिति को ‘गोडसे’ तक बता दिया. उन्होंने ट्वीट किया,

कांग्रेेस के नेता सरल पटेल ने ट्वीट किया,

यूपी सरकार ने खुद कहा है कि 1000 बसों में से 879 बसें सही हैं. आप जो क्लेम कर रही हैं, उस हिसाब से 1000 में 463 घटा दीजिए. फिर भी 537 बसें हैं. अपने योगी आदित्यनाथ और यूपी सरकार से कहिए कि इन 537 बसों को प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने की अनुमति दें.

भले ही अदिति सिंह ने अपने ट्विटर बायो से कांग्रेस का नाम नहीं हटाया हो, लेकिन वो बहुत समय पहले ही कांग्रेस से बगावत कर चुकी हैं. कांग्रेस ने उनकी विधायकी रद्द करने के लिए उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित को नोटिस दिया था. दरअसल इस बगावत की शुरुआत अक्टूबर, 2019 में हुई थी.

2 अक्टूबर, 2019. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती. इस मौके पर योगी सरकार की ओर से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया. यह 36 घंटे चला था. विपक्ष ने इस सत्र का बहिष्कार किया था. लेकिन अदिति सिंह पार्टी ह्विप को नजरअंदाज करते हुए विधानसभा के विशेष सत्र में पहुंच गईं. सदन की चर्चा में हिस्सा भी लिया.

इसके बाद खबर आई कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने अदिति सिंह को Y+ सुरक्षा दे दी. अदिति सिंह ने रायबरेली में उन पर हुए हमले के बाद सुरक्षा मांगी थी. लंबे समय से उनके बीजेपी में जाने की भी चर्चा है.

कौन हैं अदिति सिंह?

अदिति सिंह 2016 में कांग्रेस में शामिल हुई थीं. उत्तर प्रदेश के 2017 के विधानसभा चुनाव में अदिति सिंह ने सदर से चुनाव लड़ा और जीत  दर्ज की. अदिति का शुरू से रायबरेली से कोई जुड़ाव नहीं रहा है. बोर्डिंग स्कूल में पढ़ी हैं. बारहवीं की पढ़ाई दिल्ली से की है. इसके बाद अमेरिका निकल गईं. उन्हें प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है. कहा जाता है कि प्रियंका ही उन्हें कांग्रेस में लेकर आई थीं. अब उसी प्रियंका गांधी के खिलाफ अदिति ने खुलकर हमला बोला है.


प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने को लेकर प्रियंका गांधी और योगी सरकार में खींचतान

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!