Submit your post

Follow Us

आइस बकेट चैलेंज को शुरू करने वाले पैट क्विन ने ली अंतिम सांस

आइस बकेट चैलेंज. जिसने कुछ वक़्त पहले सोशल मीडिया में ऐसी खलबली मचाई थी कि बॉलीवुड के बड़े-बड़े सिलेब्रिटीज़ भी आइस बकेट चैलेंज के वीडियो शेयर करते दिखे थे. इस चैलेंज को शुरू करने वालों में से एक पैट क्विन की 37 साल के उम्र में ALS नाम की बीमारी से मौत हो गयी है.

ALS और आइस बकेट चैलेंज

ALS यानी एमियोट्रोफिक लेटरल सेल स्क्लेरोसिस नर्वस सिस्टम की एक बीमारी है. इसमें मांसपेशियां कमज़ोर हो जाती हैं. फिजिकल मूवमेंट में दिक्कत आने लगती है. ये काफ़ी दुर्लभ बीमारी है, जिसका अभी तक कोई इलाज नहीं है. हां, थेरेपी और दवाइयों से तकलीफ कुछ हद तक कम ज़रूर हो जाती है.

Pat Quinn
आइस बकेट चैलेंज की सहायता से ALS एसोसिएशन ने करीब 115 मिलियन डॉलर फंड इकठ्ठा किया था. (फोटो – एएलएस एसोसिएशन ट्विटर)

2013 के मार्च में पैट क्विन को पता चला था कि उन्हें ALS है. चूंकि इस बीमारी के बारे में ज़्यादा लोगों को पता नहीं था, तो इसके प्रति जागरूक करने और इससे पीड़ित मरीज़ों के इलाज का फंड जुटाने के लिए पैट ने आइस बकेट चैलेंज का सहारा लिया था. इसमें लोगों को एक बाल्टी में बर्फ भरकर अपने सिर पर डालना होता था, कड़ाके की ठंड में. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करना होता था. इसी के साथ किसी और को नॉमिनेट भी करना होता था. जो नॉमिनेट किया जाता था, वो भी 24 घंटे के अंदर सिर पर बाल्टी भर कर बर्फ डालकर वीडियो डालता था. अगर वो ऐसा नहीं करना चाहता तो पेनल्टी के तौर पर कुछ रकम ALS के लिए डोनेट करनी होती थी.

दोस्त के साथ शुरू किया आइस बकेट चैलेंज

पैट ने अपने दोस्त पीट फ्रेट्स की तरह इस चैलेंज के लिए टीम बनाने की सोची. पीट भी ALS से ही पीड़ित था. पैट क्विन ने एक टीम बनायी, जिसका नाम था क्विन फ़ॉर विन. इसके पहले से पीट फ्रेट्स की टीम फ्रेट ट्रेन सपोर्टर्स मौजूद थी. इनके अलावा ALS से ही पीड़ित एक और लड़के एंथोनी के दोस्त और परिवारवाले ये चैलेंज सोशल मीडिया पर चला रहे थे. इन तीनों की मुहीम रंग लाई. जल्दी ही आइस बकेट चैलेंज सोशल मीडिया के इतिहास में सबसे बड़े चैलेंज के रूप में नामजद हो गया. आइस बकेट चैलेंज की सहायता से ALS एसोसिएशन ने करीब 11.5 करोड़ डॉलर (850 करोड़ रूपये) फंड इकठ्ठा किया. यही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में ALS पीड़ित लोगों के इलाज और इससे जुड़ी रिसर्च के लिए आइस बकेट चैलेंज की मदद से करीब 22 करोड़ डॉलर से अधिक राशि लोगों ने डोनेट की.

एक-एक कर सब साथी जाते रहे

2015 में ALS एसोसिएशन ने पैट पीट और एंथोनी को ‘ALS हीरोज’ की उपाधि से सम्मानित किया. इसके बाद 2017 में एंथोनी इसी बीमारी से जंग हार गए. उनकी मौत हो गयी. इसके दो साल बाद 2019 में पीट ने भी बीमारी के आगे घुटने टेक दिए. अपने दो साथियों को खोने के बाद भी पैट ने हार नहीं मानी. हरसंभव प्रयास किया इस बीमारी से जुड़ी चीज़ों को मुख्यधारा में लाने का. उन्होंने आइस बकेट चैलेंज जारी रखा. वो कहते रहे कि जब तक इस बीमारी का इलाज नहीं मिल जाता, तब तक हर साल अगस्त के महीने में न्यूयॉर्क के योंकर्स (जहां से पैट सम्बंधित थे) में आइस बकेट चैलेंज जारी रहेगा.

मगर इस रविवार एएसएल ने ट्वीट कर सूचना दी कि पैट क्विन की एएसएल के कारण मृत्यु हो गयी. इसके बाद से सोशल मीडिया पर उनके चाहने वालों ने अपनी संवेदनाएं ज़ाहिर कीं.

आइस बकेट चैलेंज की पांचवी सालगिरह पर पैट ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा था,

जब आइस बकेट चैलेंज शुरू हुआ था, तो मैं खा सकता था, चल सकता था, बोल सकता था और खुद से सांस ले सकता था. मगर अब तक इस बीमारी ने मुझसे बहुत कुछ छीन लिया है. लेकिन पता है क्या? मैं इस बीमारी से हार नहीं रहा. मैं इस दुनिया को मुस्कुराने के लिए इंस्पायर करना चाहता हूं. सिर्फ़ ज़िन्दगी को जीते रहना ही हमें ज़िंदा नहीं बनाता बल्कि हम इसे कैसे जीते हैं, ये मायने रखता है.


वीडियो – आयुर्वेद डॉक्टरों के सर्जरी करने की ख़बर पर क्यों बवाल मचा हुआ है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बिहार : पुलिस अधिकारी ने कहा कि शराब की अवैध बिक्री हो रही, फिर अधिकारी के साथ ही खेल हो गया

बिहार : पुलिस अधिकारी ने कहा कि शराब की अवैध बिक्री हो रही, फिर अधिकारी के साथ ही खेल हो गया

लेटर गया ठंडे बस्ते में, फिर आया 'आलोचना रोकने' वाला फ़रमान

भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन क्या वापस आ गए हैं?

भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन क्या वापस आ गए हैं?

सेंसेक्स का पहली बार 50 हज़ार का आंकड़ा पार करना क्या बताता है?

जो कंपनी कोरोना की वैक्सीन बना रही, उसकी बिल्डिंग में आग लगी; 5 की मौत

जो कंपनी कोरोना की वैक्सीन बना रही, उसकी बिल्डिंग में आग लगी; 5 की मौत

आग बुझाने में फायर ब्रिगेड की 15 गाड़ियां लगीं. 4 लोग बचाए भी गए.

पहली बार सेंसेक्स हुआ 50 हजारी, जानिए इस बम-बम की वजह क्या है?

पहली बार सेंसेक्स हुआ 50 हजारी, जानिए इस बम-बम की वजह क्या है?

क्या अमेरिकी में बाइडेन का गद्दी संभालना भारत के लिए शुभ संकेत बन गया?

इलाहाबाद हाईकोर्ट का बड़ा फैसला- शादीशुदा होकर लिव-इन में रहना अपराध

इलाहाबाद हाईकोर्ट का बड़ा फैसला- शादीशुदा होकर लिव-इन में रहना अपराध

जानिए कोर्ट ने अपने फैसले में क्या कहा है.

टीम बाइडेन में 20 भारतवंशियों को मिलेगी जगह, शपथ ग्रहण के लिए वॉशिंगटन किले में तब्दील

टीम बाइडेन में 20 भारतवंशियों को मिलेगी जगह, शपथ ग्रहण के लिए वॉशिंगटन किले में तब्दील

जानिए किन 20 लोगों को मिल रहा है मौका.

सुशांत सिंह राजपूत केस में मीडिया कवरेज को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीखी बात कही है

सुशांत सिंह राजपूत केस में मीडिया कवरेज को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीखी बात कही है

दो चैनलों की कवरेज पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है.

सरकार के साथ बातचीत में शामिल इस यूनियन के नेता को NIA ने समन क्यों भेजा?

सरकार के साथ बातचीत में शामिल इस यूनियन के नेता को NIA ने समन क्यों भेजा?

NIA का समन मिलने के बाद क्या बोले बलदेव सिंह सिरसा.

कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करते हुए PM मोदी ने कही ये ज़रूरी बातें

कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करते हुए PM मोदी ने कही ये ज़रूरी बातें

आज से देशभर में वैक्सीनेशन शुरू.

BJP का तमिलनाडु प्लान क्या है?

BJP का तमिलनाडु प्लान क्या है?

क्यों BJP को अबकी तमिलनाडु में अपनी जगह बनती दिख रही है?