Submit your post

Follow Us

गलवान घाटी में अपने सैनिकों के मारे जाने पर चीन ने क्या कहा?

15 जून की रात लद्दाख में भारतीय सेना और चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के बीच लड़ाई हुई. ये हिंसक झड़प लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल में भारत की तरफ पड़ने वाली गलवान घाटी के इलाके में हुई. इसमें एक कर्नल समेत 20 भारतीय जवान शहीद हुए. 70 से ज्यादा घायल हुए. वहीं PLA के कितने जवान मारे गए, इसे लेकर कोई आधिकारिक आंकड़ा चीन की तरफ से सामने नहीं आया है. लेकिन केंद्रीय मंत्री जनरल (रिटायर्ड) वी.के. सिंह ने 20 जून को कहा था कि चीन के 40 से ज्यादा जवान मारे गए हैं. अब इस पर चीन की तरफ से बयान आ गया है. उन्होंने इस दावे को खारिज किया है.

‘ग्लोबल टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा है कि PLA के 40 जवानों के मारे जाने की खबर गलत है. उन्होंने कहा,

‘भारतीय मीडिया ने रिपोर्ट किया था कि भारतीय अधिकारी ये कह रहे हैं की चीन के कम से कम 40 जवान मारे गए, तो मैं ज़िम्मेदारी के साथ ये कह सकता हूं कि ये जानकारी गलत है.’

23 जून को एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान झाओ लिजियान ने कहा,

’22 जून को भारत और चीन के बीच सीमा के मुद्दे को लेकर दूसरे राउंड की कमांडर लेवल बातचीत हुई. गलवान घाटी में हुई घटना के बाद इस तरह की ये पहली मीटिंग थी.’

इसके आगे ये कहा कि भारत और चीन बातचीत के माध्यम से तनाव को कम करने की तरफ ध्यान दे रहे हैं. इसी ब्रीफिंग के दौरान ही PLA के जवानों के मारे जाने वाली खबर का खंडन झाओ ने किया.

जनरल वीके सिंह ने क्या कहा था?

उन्होंने कहा था,

‘अगर हमने 20 जवान खोए हैं, तो उनकी तरफ के डबल जवान मारे गए हैं. चीन आंकड़े छिपाता है. 1962 के वॉर में भी, उन्होंने आंकड़े नहीं बताए थे.’

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद एक बार भी चीन की तरफ से ये नहीं बताया गया कि उनके कितने जवान मारे गए और कितने घायल हुए.

इधर भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरावने 23 जून को लेह गए. वहां उन्होंने गलवान घाटी में हुई लड़ाई में घायल हुए सैनिकों से मुलाकात की. उनका हालचाल लिया. भारतीय सेना ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी. साथ ही फोटो भी पोस्ट की. इसके अलावा 22 जून को सेना प्रमुख जनरल एमएम नरावने ने चीन से लगती सीमा पर लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में तैयारियों की जानकारी ली. सेना के आला अधिकारी भी दिल्ली में सेना की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं.

इधर बातचीत भी चल रही है

झाओ लिजियान ने अपनी ब्रीफिंग में जिस बातचीत का ज़िक्र किया था, वो पूर्वी लद्दाख के चुशुल सेक्टर में मोल्डो नाम की जगह पर हुई थी. यह जगह चीनी इलाके में पड़ती है. करीब 11 घंटे तक बातचीत चली. सुबह साढ़े 11 बजे दोनों तरफ के कोर कमांडर मिले और रात को साढ़े 11 बजे उनकी बैठक खत्म हुई.


वीडियो देखें: भारत-चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद पता चला कि गलवान घाटी में कई सालों से क्या हो रहा था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पैंगोंग और गलवान के बाद लद्दाख के इन इलाकों में चीन नई मुसीबत खड़ी कर रहा है

भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है.

राजस्थान में महाराणा प्रताप को लेकर फिर से हंगामा क्यों हो रहा है?

फिर से राजस्थान बोर्ड का सिलेबस चर्चा में है.

पतंजलि ने खांसी-सर्दी की दवा के लाइसेंस पर 'कोरोना की दवा' बना दी!

जारी हो गया है नोटिस

जिस वीडियो में भारत-चीन के सैनिक एक-दूसरे पर मुक्के बरसा रहे हैं, उसका सच क्या है?

वीडियो कब का है, कहां का है?

इंग्लैंड टूर से पहले पाकिस्तान के तीन क्रिकेटर कोविड पॉज़िटिव

अहम टूर से पहले पाकिस्तान को लगा झटका.

पटना के बैंक में दिन-दहाड़े 52 लाख रुपए की डकैती

अपराधियों ने बैंक में लगे CCTV की हार्ड डिस्क तोड़ दी.

अब लद्दाख की पैंगोंग झील के पास चीन की हरकत, भारतीय क्षेत्र में बना रहा है बंकर

सैटेलाइट इमेज एक्सपर्ट की बातें यही इशारा कर रही हैं.

भारतीय सेना के पूर्व अधिकारियों ने किस बात पर आपस में भयानक झगड़ा फ़ान लिया?

गौरव आर्या ने भीड़ से पिट जाने की बात कह डाली.

रेलवे की नौकरी के भरोसे न बैठें, रेलवे की जेबें खाली हैं!

कोरोना लॉकडाउन ने रेलवे का हाल खस्ता कर दिया है.

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.