Submit your post

Follow Us

चीन ने पैंगोंग झील के पास सैनिकों के भारी जमावड़े का जुगाड़ कर लिया है!

पैंगोंग झील के पास चीन की हरकतें रुक नहीं रही हैं. यहां वो नावें इकट्ठा कर रहा है, टेंट लगा रहा है. पहली नज़र में इन दोनों हरकतों का एक ही इशारा ज़ाहिर होता है. कि चीन यहां सैनिकों की संख्या बढ़ाने की ओर देख रहा है.

‘इंडिया टुडे’ के रिपोर्टर अभिषेक भल्ला की रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ हालिया सैटेलाइट इमेज में फिंगर-5 के पास चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की तीन नावें और फिंगर-6 के पास 10 नावें दिखी हैं. हर नाव पर औसतन 10 सैनिकों की जगह रहती है. यानी करीब-करीब 130 सैनिक फिंगर-5 और फिंगर-6 के आस-पास आए हैं. इनकी ये पोजिशन इसलिए काफी अहम है, क्योंकि यहीं पास में है फिंगर-4, जो कि भारत के कंट्रोल में है. और पैंगोंग के आस-पास भारत-चीन की विवाद की वजह हर बार एक ही रही है- फिंगर-4 के पास चीन की हरकतें.

Finger 5
ये फिंगर-5 के पास की 29 जुलाई की सैटेलाइट इमेज है. इसमें चीन के टेंट और तीन नाव की पोजिशन दिख रही है. (फोटो- India Today)
Finger 6
ये फिंगर-6 के पास की 29 जुलाई की सैटेलाइट इमेज है. इसमें चीन के कुछ नए टेंट, कुछ पुरानी पोस्ट और 10 नाव की पोजिशन दिख रही है. (फोटो- India Today)

15 जून के बाद भी चीन ने सैनिक बढ़ाए हैं!

15 जून को भारत-चीन के बीच गलवान घाटी में संघर्ष हुआ था. तब तक यहां पैंगोंग में फिंगर-6 के पास चीन की 8 नावें थीं. यानी 15 जून के बाद भी चीन ने यहां गतिविधियां बढ़ाना लगातार जारी रखा है.

पूर्व नॉदर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा कहते हैं कि-

“पहले चीनी सेना फिंगर-8 तक ही रहती थी. लेकिन अब फिंगर-5 और 6 के पास उनकी गतिविधि बढ़ी है. ये दिखाता है कि वो फिंगर-4 के पास कंट्रोल लेना चाहते हैं.”

ठंड तक की योजना लेकर आया है चीन!

# इसके अलावा चीन ने 40 बुनी हुई झोपड़ियां और 15 टेंट भी यहां जमा लिए हैं. 29 जुलाई तक इनकी पोजिशनिंग फिंगर-5 के आस-पास की थी.

# इसके अलावा अलग से चार टेंट दिख रहे हैं, जो मुमकिन है कि बोट-क्रू के लिए हों.

# बुनी हुई झोपड़ियां ख़ासतौर पर जाड़े को ध्यान में रखकर बनाई जाती हैं, क्योंकि ये कुछ गर्म रहती हैं. चीन का इस तरह की झोपड़ियां बनाना दिखाता है कि वो यहां लंबी प्लानिंग से आए हैं.

# एक झोपड़ी में 12 सैनिक तक रह सकते हैं. 40 झोपड़ी का मतलब हुआ- 480 सैनिकों के रहने की जगह.

इससे पहले 15 जुलाई को दोनों देशों के बीच कमांडर लेवल की बातचीत हुई थी. इसके बाद चीन ने भारत के कंट्रोल वाले फिंगर-4 से तो अपनी सेना पीछे कर ली. लेकिन फिंगर-5 और फिंगर-8 के बीच गतिविधियां और बढ़ा दी. अब चूंकि फिंगर-8 को भारत लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) बताता आया है. इस लिहाज़ से यहां चीन की गतिविधियां भी कम चिंताजनक नहीं हैं.


राफेल की पहली खेप और अमेरिका से ‘हाथ मिलाने’ पर चीन को परेशानी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.