Submit your post

Follow Us

छत्तीसगढ़ः महिला सदस्य को कोरोना हुआ तो नक्सलियों ने घर भेज दिया

छत्तीसगढ़ का नक्सल प्रभावित बस्तर इलाका. यहां कोरोना वायरस के डर से माओवादी संगठन ‘छंटनी’ कर रहे हैं. एक महिला नक्सली में कोरोना के लक्षण दिखे तो उसके लीडरों ने उसे घर भेज दिया. ये महिला बीजापुर ज़िले में गिरफ्तार कर ली गई. उसने पुलिस को बताया कि नक्सलियों ने उसे बस्तर से वापस बीजापुर भेजा था.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बस्तर के आईजी पी सुंदरराज ने कहा कि सुमित्रा चेपा (32 साल) को मोदकपाल थाना क्षेत्र के उसके गांव में क्वारंटीन में रखा जाएगा. क्वारंटीन पीरियड पूरा होने के बाद उसे हिरासत में लिया जाएगा. उन्होंने बताया कि उसे खांसी और बुखार है. उसके सैंपल लिए गए हैं और उसके इलाज की ज़रूरतों का ध्यान रखा जा रहा है.

‘कई सदस्यों को भी वापस भेजा जा रहा’

बीजापुर पुलिस का कहना है कि उन्हें जानकारी मिली थी कि सुमित्रा अपने रिश्तेदारों के यहां जा रही थी. पेद्दाकवाली गांव के जंगल में उसे पकड़ा गया. शुरुआती पूछताछ में पता चला कि वो दस साल से पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी की बटालियन 1 की सदस्य है. पुलिस का कहना है कि सुमित्रा से पूछताछ में पता चला है कि कई और नक्सली बीमार हैं. और उनके नेता उन्हें वापस उनके गांव भेजने की कोशिश रहे हैं.

हालांकि छत्तीसगढ़ के डीजीपी दुर्गेश अवस्थी ने कहा कि सुमित्रा चेपा का लौटना सिर्फ कोरोना की वजह से नहीं है. वो कहते हैं,

पहले भी हमने ऐसे केस देखे हैं जब नक्सलियों ने अपने सदस्यों को बीमार पड़ने पर घर भेजा है. चूंकि ये एक गुरिल्ला आर्मी है तो बीमार और अस्वस्थ लोग उन पर बोझ बन जाते हैं.

पुलिस ने इलाके के लोगों को अलर्ट किया

बीजापुर के एक पुलिस अफसर सुंदरराज ने कहा,

वो (सुमित्रा चेपा) कमांडर हिड़मा की बटालियन में थी. कई गंभीर मामलों में उसके शामिल होने का शक है. हम उसके क्वारंटीन पीरियड का इंतज़ार कर रहे हैं, जिसके बाद मामले में आगे की जांच होगी.

पुलिस ने नक्सल प्रभावित इलाकों में गश्त बढ़ा दी है. सुंदरराज का कहना है कि हमने गांववालों को अलर्ट किया है कि वो अगर संगठनों से जुड़े लोग वापस लौटें तो हमें तुरंत सूचना दी जाए. ताकि हम कोरोना संक्रमण की जांच कर सकें क्योंकि वो सभी संक्रमित हो सकते हैं. हमने लोगों तक अपनी पहुंच बढ़ा दी है.


छत्तीसगढ़ के क्वारंटीन सेंटर में बच्चियों की मौत क्यों हो रही है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

नतीजे आने शुरू हो गए हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.