Submit your post

Follow Us

बिजली कटौती को लेकर छत्तीसगढ़ CM पर वीडियो पोस्ट किया, राजद्रोह का केस लग गया

अगर ये सच है तो भई कमाल ही हो गया छत्तीसगढ़ में. यहां बिजली की कमी पर शिकायत करने वाले एक आदमी को पुलिस ने हथकड़ी लगा दी. उसके नाम राजद्रोह का केस लिख दिया.

इंडिया टुडे की एक खबर के मुताबिक, ये हुआ है छत्तीसगढ़ के राजनंदगांव में. 53 साल के मंगेलाल अग्रवाल देवगढ़ पुलिस थाने के मुसरा गांव के रहने वाले हैं. उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट से अपनी एक वीडियो पोस्ट की. इसमें वो कह रहे हैं-

इनवर्टर कंपनी वाले ने मुझसे कहा कि आपको जो करना है, कर लो. भोंपू सरकार से तो हमारा अग्रीमेंट हो गया है. कि लाइट कटौती होगी, तो हमारा इनवर्टर ज्यादा बिकेगा. बोला, आप भी नया खरीद लो. मैंने कहा, लेना होगा तो तुमसे क्यों लूंगा. दूसरी कंपनी वालों से लूंगा. इसपर वो बोला कि चाहे जिससे भी ले लो, सारी कंपनियों से सेटिंग हो गई है भोंपू सरकार की. बोले, मध्य प्रदेश सरकार में भी हो गई सेटिंग. इनवर्टर कंपनी वालों ने भोपू सरकार को पैसा दिया. कि आप लाइट कटौती करते रहो. ताकि हमारा इनवर्टर बिकना चालू रहे. दोस्तो, ये खबर बिल्कुल सच्ची है. क्योंकि दिल्ली में इनवर्टर कंपनियों की बैठक हुई है और इन्होंने भोपू सरकार को काफी लंबा-चौड़ा पैसा मुहैया कराया है.

ये वीडियो चल निकला. खबर छत्तीसगढ़ बिजली विभाग को भी हुई. 12 जून को वो शहर के कोतवाली थाने पहुंचे. वहां उन्होंने वायरल वीडियो की शिकायत दर्ज़ करवाई. इल्ज़ाम लगाया कि मंगेलाल अग्रवाल अफवाहें फैला रहे हैं. वो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं. पुलिस ने न केवल FIR दर्ज़ की, बल्कि मंगेलाल को अरेस्ट करके लॉकअप में डाल दिया. उन्हें राजद्रोह (sedition) का नोटिस भी दिया गया है.

मान लीजिए मंगेलाल अग्रवाल झूठ बोल रहे हैं. मान लीजिए वो जानबूझकर अफवाह ही फैला रहे हैं. मान लीजिए कि वो किसी और पार्टी के समर्थक हैं और झूठे आरोप लगाकर कांग्रेस सरकार की छवि खराब करना चाहते हैं. तो? बिजली कटौती से जुड़ा आरोप राजद्रोह कैसे हो जाता है? रत्तीभर भी गंभीरता नहीं रह गई है आरोप तय करने में?


सीएम योगी पर ट्वीट कर फंसे प्रशांत कनौजिया को सुप्रीम कोर्ट से बेल कैसे मिली?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.