Submit your post

Follow Us

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट के सामने बताया है कि 12वीं के एग्जाम में मार्किंग कैसे की जाएगी. 17 जून गुरुवार को इस बारे में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया गया. इसमें 30:30:40 के फॉर्मूले के बारे में जानकारी दी गई. बोर्ड ने तफ्सील से बताया कि 10वीं, 11वीं और 12वीं के मार्क्स को किस तरह कैलकुलेट करके 12वीं के फाइनल नंबर दिए जाएंगे.

बता दें कि कोरोना संकट के चलते सरकार ने 10वीं की परीक्षा पहले ही रद्द कर दी थी. इसके बाद सरकार ने 12वीं की परीक्षा रद्द करने का भी फैसला लिया. सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं में मार्किंग के तरीके के बारे में बताने को कहा था. उसी के बाद CBSE ने ये हलफनामा दाखिल किया है. उसके मुताबिक, नंबरों का फॉर्मूला कुछ इस तरह रहेगा-

# 10वीं, 11वीं और 12वीं के प्री बोर्ड के रिजल्ट के आधार पर 12 वीं का फाइनल रिजल्ट बनेगा.

# 10वीं और 11वीं के मार्क्स के 30-30 फीसदी और 12 वीं के मार्क्स के 40 फीसदी नंबर जोड़े जाएंगे.

# इसमें 10वीं के 30 फीसदी मार्क्स में 5 सब्जेक्ट्स में से 3 सब्जेक्ट के सबसे अच्छे मार्क्स को लिया जाएगा.

# 11 वीं के सभी सब्जेक्ट्स के थ्योरी में आए 30 फीसदी मार्क्स को लिया जाएगा.

# 12 वीं के यूनिट टेस्ट/मिड टर्म/प्री बोर्ड एग्जाम के 40 फीसदी नंबर लिए जाएंगे.

Cbse 12 Exam Result Marks System New
सीबीएसई बोर्ड 30:30:40 के फॉर्मूले पर स्टूडेंट्स का रिजल्ट बनाएगी. मतलब 30 फीसदी 10वीं के मार्क्स, 30 फीसदी 11वीं के और 40 फीसदी 12वीं के.

हर स्कूल में बनेगी रिजल्ट कमेटी

# प्रैक्टिकल और इंटरनल असेसमेंट के मार्क्स हर स्कूल को 28 जून तक CBSE के पोर्टल पर डालने होंगे.

# हर स्कूल 5 सदस्यों की एक रिजल्ट कमेटी बनाएगा. अगर किसी बच्चे ने बीच में कोई टेस्ट या एग्जाम नहीं दिया है या स्कूल का सिस्टम कुछ अलग है तो यह कमेटी फैसला लेगी कि असेसमेंट कैसे किया जाए.

# कोई स्कूल अपने स्टूडेंट्स के मार्क्स गलत तरीके से बढ़ा तो नहीं रहा, इसे देखने के लिए स्कूल और नजदीकी स्कूल के 2 सीनियर टीचर्स को मिलाकर एक मॉडरेशन कमेटी बनाई जाएगी. ये स्टूडेंट्स के पिछले तीन साल के रिकॉर्ड से फाइनल रिजल्ट को मैच करेगी. 5 फीसदी से ज्यादा बढ़त या कमी पर मॉडरेशन कमेटी नजर रखेगी.

# हर स्कूल की पुरानी परफॉर्मेंस को ध्यान में रखा जाएगा. स्कूल के पिछले तीन सालों के 12वीं के एग्जाम के परफॉर्मेंस पर गौर किया जाएगा. पिछले तीन सालों में स्कूल की जिस साल बेहतरीन परफॉर्मेंस रही होगी, उसे बेस ईयर माना जाएगा.

# अगर कोई स्टूडेंट इस प्रोसेस से संतुष्ट नहीं है तो उसे बाद में एग्जाम देने का मौका मिलेगा. तब तक इस प्रक्रिया से मिले मार्क्स ही फाइनल माने जाएंगे. अगर बाद में दिए गए एग्जाम में ज्यादा नंबर आते हैं तो वो नंबर मान्य होंगे.

#अगर कोई बच्चा फेल हो जाता है या उसका कंपार्टमेंट आता है तो उसे बाद में एग्जाम देने का मौका फिर से दिया जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल के. वेणुगोपाल ने बताया कि CBSE 12वीं का रिजल्ट 31 जुलाई 2021 तक आ जाएगा. सीबीएसई की ही तरह आईसीएसई ने भी 12वीं के रिजल्ट को जारी करने की नीति सुप्रीम कोर्ट को बताई है. 10वीं के नंबर (प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल को लेकर) और फिर 11वीं और 12वीं के प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल में मिले नंबर को आधार बनाकर 12वीं की मार्कशीट बनाई जाएगी. पिछले साल भी ICSE ने इसी नीति से 12वीं के नतीजे घोषित किए थे. सुप्रीम कोर्ट में ICSE ने कहा कि पिछले साल के नतीजे पर सिर्फ 10 छात्रों ने आपत्ति जताई थी, जिन्होंने बाद में इम्प्रूवमेंट पेपर दिया था. आईसीएसई ने कहा कि हम 30 जुलाई तक 12वीं के नतीजे घोषित कर देंगे. सुप्रीम कोर्ट ने CBSE और ICSE की मार्क्स की पॉलिसी को स्वीकार कर लिया है. अब दोनों बोर्ड अपनी-अपनी नीति पर काम कर सकते हैं.

चार राज्यों ने अभी तक नहीं लिया है फैसला

सुप्रीम कोर्ट अब राज्य बोर्ड परीक्षाओं के मुद्दे पर विचार कर रहा है. याचिकाकर्ता का कहना है कि 28 में से 24 राज्यों ने पहले ही बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी है, कुछ राज्यों द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया गया, केरल पहले ही कक्षा 12 की परीक्षा आयोजित कर चुका है. चार राज्यों- असम, पंजाब, त्रिपुरा और आंध्र प्रदेश ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है. सोमवार को कोर्ट फिर सुनवाई करेगा.

इस सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दो बिंदुओं पर ध्यान देने की बात कही. पहली बात यह कि अगर किसी स्टूडेंट को अपने मार्क्स में कोई शिकायत होती है तो उसका समाधान किया जाए. दूसरा सरकार यह फिक्स करे कि रिजल्ट किस दिन आएगा और वैकल्पिक एग्जाम की तारीख क्या होगी.


वीडियो – CBSE 12 की परीक्षाओं के रद्द होने के बाद किस तरह होगा यूनिवर्सिटी में एडमिशन?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

WTC Final में मैदान पर उपद्रव करने वाले दो फैंस को ICC ने किया बाहर

WTC Final में मैदान पर उपद्रव करने वाले दो फैंस को ICC ने किया बाहर

रोस टेलर के साथ भी हुई बदतमीजी.

80 ओवर वाले गणित से टीम इंडिया को चैम्पियन बना रहे हैं हर्षा भोगले!

80 ओवर वाले गणित से टीम इंडिया को चैम्पियन बना रहे हैं हर्षा भोगले!

क्या इस रास्ते से न्यूज़ीलैंड ट्रॉफी चूक जाएगा.

WTC Final के पांचवें दिन टीम इंडिया ने क्या कमाल कर दिया?

WTC Final के पांचवें दिन टीम इंडिया ने क्या कमाल कर दिया?

बुधवार को मैच होगा या नहीं...ये भी जान लो.

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाएगी टीम इंडिया?

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाएगी टीम इंडिया?

पूर्व इंग्लैंड कप्तान ने किया दावा.

बीच मैदान उड़े शुभमन गिल और सोशल मीडिया पर मच गया हंगामा

बीच मैदान उड़े शुभमन गिल और सोशल मीडिया पर मच गया हंगामा

कमाल के शुभमन गिल.

शमी ने कर दिया वो कारनामा, जिसका इंतजार 1983 से कर रहे थे भारतीय फ़ैन्स

शमी ने कर दिया वो कारनामा, जिसका इंतजार 1983 से कर रहे थे भारतीय फ़ैन्स

ये तो कोई नहीं कर पाया था.

केन विलियमसन कभी नहीं भूलेंगे भारतीय गेंदबाजों का ये दबदबा

केन विलियमसन कभी नहीं भूलेंगे भारतीय गेंदबाजों का ये दबदबा

विलियमसन के साथ पहली बार हुआ ऐसा.

राजस्थान रॉयल्स की नींद उड़ा देगा जोस बटलर का ये बयान

राजस्थान रॉयल्स की नींद उड़ा देगा जोस बटलर का ये बयान

IPL2021 में वापसी पर बोले बटलर.

कैसे विराट कोहली की चाल में फंस गया न्यूज़ीलैंड?

कैसे विराट कोहली की चाल में फंस गया न्यूज़ीलैंड?

विराट की हो रही है तारीफ.

40 लाख के इनामी नक्सली हरिभूषण की मौत, वजह- कोरोना या फूड पॉइजनिंग?

40 लाख के इनामी नक्सली हरिभूषण की मौत, वजह- कोरोना या फूड पॉइजनिंग?

पुलिस का दावा, कई और नक्सली बीमार है.