Submit your post

Follow Us

बाराबंकी के विवादित स्थल को गिराने के मामले में कोर्ट ने क्या फैसला सुनाया है?

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने बाराबंकी के विवादित स्थल को ढहाने के मामले में तत्कालीन SDM दिव्यांशु पटेल को राहत देते हुए कहा कि उनके खिलाफ प्रथम दृष्टया अवमानना का कोई मामला नहीं बनता है. हालांकि अदालत ने इसी मामले में राम सनेही घाट थाने के प्रभारी निरीक्षक सच्चिदानंद राय को अवमानना का दोषी मानते हुए नोटिस जारी किया है.

क्या है मामला?

17 मई 2021 को बाराबंकी प्रशासन ने एक विवादित स्थल को अवैध निर्माण मानते हुए ढहा दिया था. उस वक्त डीएम बाराबंकी आदर्श सिंह ने कहा था कि मस्जिद का एक स्वरूप होता है. उसमें गुंबद आदि होता है. ये एक आवासीय परिसर सा था, जिसमें कुछ लोग अवैध रूप से धार्मिक गतिविधियां संचालित करते थे. यहीं रहते भी थे. तो ये साफ तौर पर सरकारी संपत्ति पर अवैध निर्माण था. जिस पर नियमों के तहत कार्रवाई की गई.

कोर्ट में क्या हुआ?

SDM पर अवमाननना का कोई मामला नहीं बनेगा, यह आदेश जस्टिस रवि नाथ तिलहरी की एकल पीठ ने 30 जून को दिया. इस आदेश की प्रति शुक्रवार 2 जुलाई को कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड हुई. ये सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई थी. इस केस में याचिकाकर्ताओं की ओर से सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने पक्ष रखा.

Lucknow High Court
इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने दिया था अवैध धार्मिक स्थलों पर कार्रवाई के आदेश.

सिब्बल ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका पर 24 अप्रैल 2021 को एक निर्देश जारी किया था जिसमें कहा गया था कि सभी अदालतों ने किसी निर्माण को गिराने को जो आदेश जारी किए हैं उन पर 31 मई 2021 तक अमल नहीं किया जाए. इसके बाद भी बाराबंकी मामले में SDM और SHO ने आदेश की अवहेलना की और 17 मई को बाराबंकी के ‘विवादित स्थल’ को ढहा दिया गया.

उन्होंने कहा कि ये अदालत के आदेश का उल्लंघन है लिहाजा इस मामले में दोनों को तलब कर दंडित किया जाना चाहिए. इस तर्क पर लखनऊ बेंच ने पाया कि SDM दिव्यांशु पटेल ने 3 अप्रैल को ही इस विवादित स्थल के खिलाफ आदेश जारी किया था जबकि सिब्बल 24 अप्रैल के आदेश की अवहेलना की बात कर रहे हैं. कोर्ट ने कहा कि SDM के खिलाफ प्रथमदृष्टया कोई मामला नहीं बनता है लिहाजा उन्हें नोटिस जारी करने की कोई जरूरत नहीं है.

कोर्ट ने कहा कि 3 अप्रैल 2021 के SDM के दिए आदेश की तामील 17 मई को करने की बात सामने आ रही है लिहाजा प्रथमदृष्टया राम सनेही घाट SHO सच्चिदानंद राय के खिलाफ अवमानना का मामला बनता है. कोर्ट ने राय के खिलाफ नोटिस जारी किया है और उन्हें अधिवक्ता के जरिए अपना जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है. मामले की अगली सुनवाई 22 जुलाई को होगी.

कोर्ट का पूरा फैसला पढ़ें- बाराबंकी मामले में हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच का फैसला

क्यों हटाया गया विवादित स्थल

3 जून 2016 को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के जस्टिस सुधीर अग्रवाल और जस्टिस राकेश श्रीवास्तव ने एक आदेश जारी किया जिसमें कहा गया था कि ‘जनवरी, 2011 के बाद सार्वजनिक मार्गों पर बने सभी धार्मिक ढांचों को हटाया जाएगा और संबंधित जिला मैजिस्ट्रेट की ओर से दो महीने के भीतर राज्य सरकार को रिपोर्ट सौंपनी होगी. जो धार्मिक ढांचे इससे पहले बनाए गए हैं, उनको किसी निजी भूखंड पर स्थानांतरित किया जाएगा या फिर छह महीने के भीतर हटाया जाएगा.’

25 फरवरी 2021 को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अपने इसी पुराने आदेश पर योगी आदित्यनाथ सरकार से जवाब मांगा कि इस आदेश पर क्या कार्रवाई हुई. कोर्ट ने जवाब के लिए सरकार को 17 मार्च 2021 तक का समय दिया. यूपी सरकार ने 11 मार्च को एक आदेश जारी किया. सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि धार्मिक स्थलों के नाम पर किए गए अतिक्रमण हटाए जाएं. 14 मार्च तक जवाब देकर बताएं कि कितनों पर कार्रवाई हुई.

15 मार्च को रामसनेहीघाट के तहसीलदार दया शंकर त्रिपाठी ने जॉइंट मैजिस्ट्रेट दिव्यांशु पटेल के निर्देश पर नोटिस जारी कर विवादित स्थल में रह रहे जिम्मेदार लोगों से जवाब मांगा. जवाब देने के लिए तीन दिन का वक्त दिया गया. 16 मार्च को पुलिस मौके पर जांच पड़ताल के लिए पहुंची. पुलिस ने यहां रह रहे लोगों से उनकी आईडी मांगी जो वो दे ना पाए. अगले दिन ये लोग भाग निकले. जॉइंट मैजिस्ट्रेट ने इसकी जानकारी मिलने पर उन लोगों को ढूंढने और मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए. इसके साथ ही विवादित स्थल को सील कर दिया.

19 मार्च को एक और घटना हुई. शुक्रवार शाम को यहां विवादित स्थल पर भारी भीड़ जुटी और तहसील परिसर पर पथराव कर दिया. 31 मार्च तक प्रशासन के पास एक भी कागज नहीं पहुंचा.

SDM दिव्यांशु पटेल ने 3 अप्रैल को फैसला सुनाया, जिसमें इस स्थल को तहसील की जमीन पर अवैध कब्जा ठहराया गया. साथ ही विवादित स्थल के पक्षकारों को 35 दिनों का वक्त दिया. इस फैसले को चैलेंज करने के लिए. ऊपरी अदालतों में. नियम के मुताबिक आप एक महीने के अंदर ऊपरी अदालत में अपील कर सकते हैं. मगर ऐसा नहीं किया गया. प्रशासन ने इसे देखते हुए 17 मई को इस विवादित स्थल को गिराकर इसे अपने कब्जे में ले लिया.


वीडियो- बाराबंकी: विवादित स्थल गिराने पर योगी सरकार घिरी, पर सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड ने क्या गलती की?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

UP: योगी कैबिनेट में नए-नए मंत्री बने इन 7 चेहरों के बारे में जानिए

UP: योगी कैबिनेट में नए-नए मंत्री बने इन 7 चेहरों के बारे में जानिए

चुनाव से पहले योगी का कैबिनेट विस्तार.

सिनेमा प्रेमियों के लिए पिछले डेढ़ साल की सबसे बड़ी अनाउंसमेंट हो गई है!

सिनेमा प्रेमियों के लिए पिछले डेढ़ साल की सबसे बड़ी अनाउंसमेंट हो गई है!

अक्षय कुमार ने ट्वीट करके ख़बर दी.

कोर्ट के अंदर गैंगवॉर, ताबड़तोड़ फ़ायरिंग में अपराधी जितेंद्र गोगी की मौत

कोर्ट के अंदर गैंगवॉर, ताबड़तोड़ फ़ायरिंग में अपराधी जितेंद्र गोगी की मौत

दोनों हमलावरों को भी मौके पर ही मार गिराया गया.

असम में बॉडी के ऊपर कूदता रहा 'कैमरामैन', पुलिस के अतिक्रमण हटवाने में 2 की मौत

असम में बॉडी के ऊपर कूदता रहा 'कैमरामैन', पुलिस के अतिक्रमण हटवाने में 2 की मौत

असम के दरांग में हुई इस हिंसा के दृश्य विचलित करने वाले हैं.

पाकिस्तान ने तालिबान के लिए कुर्सी मांगकर झगड़ा करा दिया, SAARC बैठक रद्द

पाकिस्तान ने तालिबान के लिए कुर्सी मांगकर झगड़ा करा दिया, SAARC बैठक रद्द

अफगानिस्तान की पूर्व लोकतांत्रिक सरकार के शामिल होने के खिलाफ है पाकिस्तान.

गोवा घूमने गई 25 साल की एक्ट्रेस की कार एक्सीडेंट में डेथ

गोवा घूमने गई 25 साल की एक्ट्रेस की कार एक्सीडेंट में डेथ

गोवा में पुल से नीचे गिरी कार, पानी में डूबने से हुई डेथ.

नरेंद्र गिरि कथित आत्महत्या: आरोपी आनंद गिरि को किस महंत ने 'हिस्ट्रीशीटर' कहा?

नरेंद्र गिरि कथित आत्महत्या: आरोपी आनंद गिरि को किस महंत ने 'हिस्ट्रीशीटर' कहा?

यूपी पुलिस ने आनंद गिरि को गिरफ्तार कर लिया है.

रूस की यूनिवर्सिटी में अंधाधुंध गोलीबारी, 8 की मौत, आरोपी की उम्र हैरान कर देगी

रूस की यूनिवर्सिटी में अंधाधुंध गोलीबारी, 8 की मौत, आरोपी की उम्र हैरान कर देगी

इस यूनिवर्सिटी में भारत के भी कई छात्र पढ़ते हैं.

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

केंद्रीय मंत्री पद से हटाए जाने के बाद भाजपा छोड़ी थी.

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

कहानी में एक और किरदार सामने आया है, राज फौजदार.