Submit your post

Follow Us

राजनाथ सिंह बोले, 'कोई भारत के मुसलमान को चिमटे से भी नहीं छू सकता'

देश में कई जगहों पर नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के ख़िलाफ़ प्रदर्शन हो रहे हैं. दूसरी ओर  BJP इस कानून के समर्थन में जगह-जगह सभाएं कर रही है. इन सबके बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह 22 जनवरी, बुधवार को यूपी के मेरठ में थे. वहां उन्होंने कहा, ‘जो मुसलमान भारत का नागरिक है, उसे कोई चिमटे से भी नहीं छू सकता. अगर किसी को कोई शिकायत है, तो हमारे पास आ सकता है.’

पिछले दिनों इस कानून के विरोध में पश्चिमी यूपी में काफ़ी हिंसा हुई थी. राजनाथ सिंह ने कहा कि किसी भी सूरत में जाति, पंथ और मजहब के आधार पर तनाव न पैदा होने दें. उन्होंने कहा कि कुछ ताक़तें चाहती हैं कि तनाव पैदा करके निहित स्वार्थ को पूरा कर लें, हमें ये नहीं होने देना है. हमें सबको साथ लेकर चलना है.

NPR, NRC और मुसलमान पर

राजनाथ सिंह ने कहा,

क्या देश की जनसंख्या का रजिस्टर नहीं होना चाहिए? मैं आपसे पूछता हूं. ये हम लोगों ने नहीं बनाया. कांग्रेस ने 2010 में इसके बारे में फैसला किया था. ये कहते हैं कि आप नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर बना रहे हैं. फिर आप NRC लाएंगे और मुसलमानों को भारत से निकाल देंगे. मैं यहां मौजूद मुसलमानों से कहना चाहता हूं कि जो मुसलमान भारत का नागरिक है, कोई मां का लाल चिमटे से भी उसको छू नहीं पाएगा. अगर किसी को कोई शिकायत है, तो वो हमारे पास आ सकता है. हम उस मुसलमान के साथ खड़े होंगे. हम इंसानियत को लेकर राजनीति नहीं करते हैं.

‘सांप्रदायिक तनाव नहीं पैदा होना चाहिए’

उन्होंने कहा,

जो लोग जलालत की ज़िंदगी जी रहे थे, CAA लाकर मोदी सरकार ने उन्हें नागरिकता देने का वादा पूरा किया है. हमने कोई अपराध नहीं किया, लेकिन इसे हिंदू और मुसलमान के नजरिये से देखा जा रहा है. हमारे प्रधानमंत्री धर्म के आधार पर नहीं, इंसानियत के आधार पर सोचते हैं. कुछ ताकते हैं, जो हिंदू और मुसलमानों के बीच खाई पैदा करना चाहती हैं. इनके अपने हित हैं. मैं सबसे अपील करता हूं कि सांप्रदायिक तनाव नहीं पैदा होना चाहिए.

‘महात्मा गांधी ने जो कहा था वो किया’

रक्षा मंत्री ने कहा,

महात्मा गांधी ने कहा था कि अगर अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न होता है, तो उसके प्रति भारत को संवेदनशील होना होगा. महात्मा गांधी ने जो कहा था, उसे BJP ने कर दिखाया है. कांग्रेस के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 18 दिसंबर 2003 को कहा था- पाकिस्तान, बांग्लादेश में जिन हिंदू-सिखों का उत्पीड़न हुआ है, सरकार को उन्हें नागरिकता देनी चाहिए. जो उन्होंने कहा था, वह हमने पूरा किया. आज जगह-जगह ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ नारे लग रहे हैं. ये अधिकार किसने दिया?

‘सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर असम में NRC हुआ’

राजनाथ सिंह ने कहा,

विपक्षी दल दुष्प्रचार कर रहे हैं कि NRC लाकर देश के मुसलमानों को बाहर कर दिया जाएगा, जबकि NRC पर कहीं चर्चा भी नहीं हुई. NPR में यदि आपसे कोई नाम, जन्मतिथि पूछता है, तो जो आप देंगे, वही लिख लिया जाएगा. कोई किसी पर दबाव नहीं डाला जाएगा. NRC हमलोग भारत में लेकर नहीं आए हैं. NRC की चर्चा आजादी के समय आ गई थी. तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने बांग्लादेश के प्रधानमंत्री से उस समय बात की थी. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर असम में NRC लागू हुआ. जो ताकतें भ्रम फैला रही हैं, उन पर ध्यान न दें.

इसके अलावा उन्होंने कहा कि 2014 और 2019 में चुनावी सभाओं की शुरुआत मेरठ से ही हुई थी. ये क्रांतिकारियों की धरती है और बीजेपी इसका महत्व समझती है.


BJP के नितिन गडकरी ने सरकार में ‘निगेटिव एटीट्यूड’ की बात क्यों कही?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.