Submit your post

Follow Us

क्या बुलंदशहर में बड़े दंगे की तैयारी में खेत में टांगा गया था गोमांस?

क्या 3 दिसंबर, 2018 बुलंदशहर में हुई घटना हिंदू-मुस्लिम तनाव भड़काने की साजिश थी? क्या किसी ने गोकशी के बहाने सांप्रदायिक दंगा कराने की प्लानिंग की थी?

‘खेत में गाय के शरीर के हिस्से टंगे हुए थे’
फिलहाल जो घटनाक्रम सामने आ रहा है, उसमें कुछ चीजों पर शक तो होता ही है. जानवर के शरीर के हिस्से मिलने की बात पता चलने पर प्रशासन की ओर से सबसे पहले मौके पर पहुंचे थे तहसीलदार राजकुमार भाष्कर. न्यूज 18 के रौनक कुमार गुंजन ने राजकुमार से बात की. उन्होंने बताया,

कटी हुई गाय के टुकड़े गन्ने के खेत में टंगे हुए थे. गाय की चमड़ी और उसका सिर ऐसे टांगा गया था, जैसे लोग हैंगर पर कपड़े टांगते हैं. ये बहुत अजीब है. गोकशी करने वाला कोई आदमी इस तरह उसका प्रदर्शन क्यों करेगा? उत्तर प्रदेश में जैसी स्थितियां हैं, उसे जानते हुए वो यूं डिस्प्ले में क्यों लगाएगा? मांस के टुकड़ों को यूं टांगा गया था कि वो दूर से ही नज़र आ रहे थे.

जल्दी ही कुछ हिंदू संगठनों के लोग वहां जमा हो गए
तहसीलदार राजकुमार का कहना है कि जैसे ही गाय का मांस मिलने की बात फैली, तुरंत ही हिंदू युवा वाहिनी, शिव सेना और बजरंग दल के लोग वहां पहुंच गए. उन्होंने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. माहौल गर्मा गया. भीड़ जमा हो गई. फिर भीड़ ने जानवर के शरीर के टुकड़ों को ट्रैक्टर पर लादा और उसे लेकर थाने के सामने प्रदर्शन करने पहुंच गए. ये बुलंदशहर को जाने वाला हाई-वे है.

इस जगह से कुछ दूर पर लाखों मुस्लिमों का जमावड़ा था
इधर ये सब हो रहा था. यहां से तकरीबन 40-50 किलोमीटर की दूरी पर मुस्लिमों का एक कार्यक्रम ‘इज्तेमा’ चालू था. तीन दिनों के इस प्रोग्राम का आखिरी दिन था 3 दिसंबर को. यहां लाखों मुस्लिम जमा हुए थे. वहां से लौटने वाले इसी बुलंदशहर-गढ़मुक्तेश्वर हाई-वे से लौटते. ऐसा होता, तो रास्ते में उनकी मुलाकात इस भीड़ से होती. क्या ऐसे में किसी दंगे जैसी स्थिति की आशंका से इनकार किया जा सकता है? अगर ऐसा है, तो क्या ये मुमकिन नहीं कि ये सब बहुत सोच-समझकर किया गया हो.

पुलिस अपना काम कर रही थी, फिर भी भीड़ हिंसक हो गई
भीड़ बौखलाई क्यों? मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच का वादा किया. कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया. बल्कि FIR भी दर्ज करने को तैयार थी. इसके बावजूद भीड़ शांत नहीं हुई. वो लोग हटने का नाम नहीं ले रहे थे. बल्कि भीड़ हिंसक हो गई. पुलिस पर पथराव किया जाने लगा. साजिश वाली बात में इसलिए भी दम लगता है कि भीड़ अपने साथ ईंट-पत्थर, लाठी-डंडे और यहां तक कि पिस्तौल भी लेकर आई थी. अगर प्रदर्शन ही करने का इरादा था, तो हथियार साथ लेकर आने की क्या जरूरत थी? क्या वो हिंसा करने की ठानकर आए थे? गोली लगने के बाद भी इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को बचाया जा सकता था. उनकी टीम ने कोशिश भी की उन्हें अस्पताल ले जाने की. मगर भीड़ ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया.

न्यूज 18 की टीम ने एक गांववाले से भी बात की. जिससे बात हुई, उनका घर उन खेतों के बिल्कुल पास है जहां गाय का मांस मिलने की बात है. उन्होंने न्यूज 18 को बताया-

मैं खेत के बिल्कुल पास में रहता हूं. पिछले दिन, यानी 2 दिसंबर को वहां मरी हुई गाय नहीं थी. सोमवार को ही हमें वहां जानवर के शरीर के हिस्से दिखाई दिए. मैंने किसी को भी गाय काटते हुए नहीं देखा.

ये भोला सिंह है. बुलंदशहर से बीजेपी के सांसद हैं. इनका कहना है कि पुलिस को इज्तमा के बारे में कोई जानकारी ही नहीं थी.
ये भोला सिंह है. बुलंदशहर से बीजेपी के सांसद हैं. इनका कहना है कि पुलिस को इज्तेमा के बारे में कोई जानकारी ही नहीं थी.

क्या बीजेपी किसी भी तरह इस घटना का लिंक मुसलमानों से जोड़ना चाहती है?
फिलहाल उत्तर प्रदेश ने इस घटना के पीछे कोई सांप्रदायिक ऐंगल होने की बात से इनकार किया है. एक तरफ पुलिस ये कह रही है, दूसरी तरफ बीजेपी के सांसद भोला सिंह हैं. उन्होंने न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा-

यहां कानून-व्यवस्था आमतौर पर सही रहती है. मगर बुलंदशहर में हुए मुस्लिमों के इज्तेमा कार्यक्रम के बारे में पुलिस को कुछ नहीं बताया गया था. पुलिस अंधेरे में थी. इसी वजह से ये सब हुआ. यही है हिंसा की वजह.

मतलब जिस प्रोग्राम में 10 लाख के करीब मुस्लिम शामिल हुए. जहां तीन दिनों तक इतना बड़ा धार्मिक कार्यक्रम हुआ. उस जगह की पुलिस को इस प्रोग्राम के बारे में कोई जानकारी ही नहीं थी! तो फिर पुलिस और प्रशासन इज्तेमा वाली जगह पर मुस्तैद कैसे था? शहर की पुलिस फोर्स का एक बड़ा हिस्सा वहां तैनात किसने किया था? इसको क्या अंधेरे में होना कहते हैं? क्या इतनी लापरवाही से बयान देकर सांसद भोला सिंह माहौल नहीं खराब कर रहे हैं? क्या वो ये बयान देकर इस पूरी घटना का ठीकरा किसी न किसी तरह से मुस्लिमों और उनके धार्मिक कार्यक्रम पर फोड़ना चाहते हैं? वो भी तब, जब खुद बुलंदशहर पुलिस कह चुकी है कि इज्तेमा पूरी शांति के साथ हुआ.


इज्तमा में क्या होता है जिसके लिए लाखों मुस्लिम इकट्ठा होते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.