Submit your post

Follow Us

PM मोदी के भाई प्रह्लाद को आगे-पीछे चलने के लिए पुलिस नहीं मिली, तो थाने के सामने धरने पर बैठ गए

5
शेयर्स

लोग कह रहे हैं कि ‘जब सैंया भये कोतवाल तो डर काहे का’. इसी कहावत को कुछ अपडेट करे दे रहे हैं. ‘जब भैया बने प्रधानमंत्री तो डर काहे का’.  हालांकि प्रह्लाद मोदी ने कोई कानून नहीं तोड़ा है, लेकिन जो कुछ भी हुआ है उससे सोशल मीडिया उनके मजे खूब ले रहा है.

दरअसल हुआ ये कि पीएम मोदी के छोटे भाई प्रह्लाद मोदी अहमदाबाद से हरिद्वार जा रहे थे. वो भी सड़क के रास्ते. लेकिन जयुपर से अजमेर वाले रास्ते पर वो नाराज़ हो गए. क्योंकि उन्हें पुलिस एस्कॉर्ट नहीं मिली और वो फिर धरने पर बैठ गए. करीब एक घंटे वो बगरू पुलिस थाने के बाहर बैठे रहें, और लगातार पुलिस एस्कॉर्ट की मांग करते रहे. ये पूरी घटना मंगलवार की रात जयपुर अजमेर नेशनल हाईवे के बीच घटी.

जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के मुताबिक:

प्रह्लाद मोदी सड़क के रास्ते जयपुर आ रहे थे. वे लगातार एस्कॉर्ट की मांग कर रहे थे. जिसके लिए वो एलिजिबल नहीं थे. हमारे पास उन्हें सिर्फ दो पीएसओ उपलब्ध कराने के आदेश थे. जो पहले से ही बगरू थाने में मौजूद थे. लेकिन प्रह्लाद मोदी उन्हें अपनी गाड़ी में ले जाने को तैयार नहीं थे. वे अलग अलग पुलिस की गाड़ी की मांग कर रहे थे. जो कि किसी भी हाल में मुमकिन नहीं था.

जिसके बाद पुलिस कमिश्नर ने ये भी कहा कि हमने उन्हें दो पीएसओ मुहैया कराने वाला आदेश दिखाया. फिर बताया कि उन्हें अलग से पुलिस की गाड़ी नहीं मिल सकती. पहले वो तैयार नहीं हुए. फिर काफी समझाने के बाद वो समझ गए और फिर अंत में वो दो पीएसओ के साथ चले गए. थाने पर ये पूरा घटनाक्रम करीब एक घंटे चला.

अब समझने वाली बात है कि प्रह्लाद मोदी नाराज क्यों हो गए. दरअसल प्रोटोकॉल के मुताबिक पीएम मोदी के रिश्तेदार की पूरी जानकारी इंटेलिजेंस ब्यूरो के पास होती है. जो पूरी एक्टिविटी की जानकारी रखते हैं. लेकिन जब वो सड़क के रास्ते हरिद्वार जा रहे थे, तभी उनके साथ पहले से मौजूद एस्कॉर्ट ने उनके साथ आगे चलने से मना कर दिया. ये वाकया जयपुर के दूदू ग्रामीण इलाके के पास का है. प्रह्लाद मोदी पुलिस एस्कॉर्ट को साथ लेकर जाने की ज़िद पर अड़ गए. फिर बगरू थाना के अधिकारी ने उन्हें पुलिस एस्कॉर्ट मुहैया कराया तब वो हरिद्वार के लिए रवाना हुए.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जामिया CAB प्रदर्शनः पुलिस के आंसू गैस गोले से छात्र का अंगूठा फट गया

जामिया में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन तेज, परीक्षाएं आगे बढ़ीं.

नागरिकता कानून में हुए संशोधन पर संविधान एक्सपर्ट्स का क्या कहना है?

एक्सपर्ट्स का दावा, ये संशोधन संविधान के आर्टिकल 14, 5 और 11 का उल्लंघन है.

पासपोर्ट पर कमल छाप तो दिया लेकिन सरकार खुद इसे राष्ट्रीय फूल नहीं मानती

बवाल मचा तो सरकार ने कहा था राष्ट्रीय प्रतीकों को छाप रहे हैं.

16 दिसंबर को इस वजह से नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही डेथ वारंट पर फैसला होगा.

CAB विरोध: असम में पुलिस की फायरिंग से दो की मौत, कर्फ़्यू मान नहीं रही है भीड़

तीन BJP विधायकों के घर पर हमला. मेघालय के भी कुछ इलाकों में कर्फ़्यू. तीन राज्य में इंटरनेट बंद.

नागरिकता संशोधन बिल पास होने पर IPS ऑफिसर ने विरोध में इस्तीफा दिया

उन्होंने कहा, 'ये बिल देश को बांटने वाला है.'

कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में BJP का क्या हुआ?

BJP सरकार बनी रहेगी या जाएगी?

मोदी सरकार के इस कदम से घरेलू इंडस्ट्री चमक सकती है, पर रिस्क भी बहुत बड़ी है

सरकार नई नौकरियों का दावा कर रही. पर आंकड़ा किसी को नहीं पता.

अगर संसद में ये बिल पास हो गया तो एक ही तमंचे पर डिस्को हो पाएगा

वैसे नए कानून के मुताबिक, तमंचे पर डिस्को करने पर भी 2 साल की सज़ा हो सकती है.

तेलंगाना पुलिस ने खुद बताई एनकाउंटर के पीछे की पूरी कहानी

'आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनकर फायरिंग की'.