Submit your post

Follow Us

भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र ने बैट से अधिकारी को पीटा

33.51 K
शेयर्स

पिता कैलाश विजयवर्गीय भाजपा के ताकतवर महासचिव. और खुद इंदौर-3 से विधायक. नाम- आकाश विजयवर्गीय. आकाश को विधायकी पहली बार मिली है. जाहिर है जोश हाई है. 26 जून के दिन ये जोश फट पड़ा इंदौर नगर निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों पर. आकाश ने पहले तो नगर निगम अफसरों को धमकाया. कहा-10 मिनट में यहां से निकल लो. जब अफसर वहां से नहीं हटे, तो विधायक भड़क गए. उन्होंने आव देखा न ताव क्रिकेट बैट लेकर नगर निगम कर्मचारियों पर हमला बोल दिया. और फिर जो सामने आया, सबकी बैट से ठुकाई कर दी.

क्यों भड़क गए विधायक?
इंदौर नगर निगम इन दिनों खतरनाक और जर्जर मकान तोड़ने की कार्रवाई कर रहा है. इसके लिए शहर भर में 26 मकान चिह्नित किए गए हैं. बुधवार 26 जून के दिन नगर निगम की टीम गंजी कंपाउंड में एक बिल्डिंग को तोड़ने पहुंची. नगर निगम टीम को देखकर स्थानीय लोगों ने विरोध किया. कुछ ही देर में विधायक आकाश विजयवर्गीय भी मौके पर पहुंच गए. आकाश ने आते ही नगर निगम अधिकारियों और कर्मचारियों को धमकाना शुरू कर दिया. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि 10 मिनट में यहां से निकल जाओ. नहीं तो जो होगा, उसकी जिम्मेदारी आप लोगों की होगी. इस बीच उन्होंने वहां जेसीबी मशीन की चाबी भी निकाल ली. इस दौरान नगर निगम के अफसर विधायक को समझाते-बुझाते रहे. मगर वे शांत नहीं हुए. और फिर विवाद बढ़ गया. आकाश विजयवर्गीय अपना आपा खो बैठे. उन्होंने क्रिकेट बैट से नगर निगम कर्मचारियों पर हमला कर दिया. विधायक को मारपीट करते देख वहां मौजूद पुलिसकर्मी भी सकते में आ गए. नगर निगम कर्मचारी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागे. बाद में पुलिस और मौके पर मौजूद दूसरे लोगों ने किसी तरह विधायक को पकड़कर शांत किया.

सियासत तेज
इस पूरे मामले पर अब सियासत तेज हो गई है. नगर निगम कर्मचारी विधायक के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने थाने पहुंचे तो विधायक समर्थकों ने थाना घेर लिया. उधर मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री जीतू पटवारी ने आकाश विजयवर्गीय की गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं. इसको लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच सियासत तेज हो गई है. उधर, सोशल मीडिया पर भी लोग विधायक की जमकर आलोचना कर रहे हैं. कुछ लोग विधायक की मौज ले रहे हैं. लोग कह रहे हैं कि पिता कैलाश विजयवर्गीय पश्चिम बंगाल भाजपा के प्रभारी हैं. पश्चिम बंगाल में वे आरोप लगाते हैं कि तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी हिंसा फैला रहे हैं. और खुद उनके सुपुत्र कौन सा उदाहरण लोगों के सामने पेश कर रहे हैं.

धमकाना डांटना विधायक की आदत
आकाश के बारे में कहा जाता है कि लोगों को धमकाना- डांटना विधायक की आदत में शुमार हो चुका है. कुछ दिन पहले भी उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इसमें आकाश नगर निगम अधिकारियों को धमकाते नजर आ रहे थे. जनवरी, 2019 में इंदौर नगर निगम के कुछ अफसरों ने एक कार्यक्रम रखा था. इसकी सूचना विधायक को थोड़ी देर से दी गई. इस पर विधायक भड़क गए थे. तब एक पुल का शिलान्यास कार्यक्रम था. आकाश जब वहां पहुंचे तो देखा कि उनके लिए बैठने का इंतजाम नहीं है. इस पर वे निगम अधिकारियों पर भड़क गए.


वी़डियोः कैलाश विजयवर्गीय की जगह उनके बेटे आकाश को टिकट क्यों दे दिया गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
BJP leader Kailash Vijayvargiya son and MLA Akash Vijayvargiya attacked the municipal corporation workers

टॉप खबर

मायावती ने गठबंधन क्या तोड़ा, खुद की लुटिया ही डुबो ली है

गठबंधन तोड़कर अखिलेश और माया चवन्नी भर सीटें भी नहीं जीत रहे हैं.

खट्टर सरकार रेपिस्ट बाबा की जेल से छुट्टी का समर्थन कर रही, लेकिन जानिए ऐसा होना संभव क्यूं नहीं

जेल से छुट्टी क्यों चाह रहा है बलात्कारी बाबा राम रहीम?

चमकी बुखार में जिनके बच्चे मरे, उन्होंने विरोध किया तो केस दर्ज हो गया

बिहार में एक दो नहीं पूरे 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.

चमकी बुखार से पीड़ित परिवार से मिलने गए सांसद-विधायक को लोगों ने बंधक बना लिया

उधर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य और केंद्र सरकार को नोटिस भेज दिया है.

जिन SP अजय पाल शर्मा को हीरो बताया जा रहा, उन्होंने "रेपिस्ट" पर गोली चलाई ही नहीं

न वो मौके पर थे, न रेप की वजह से गोली चली और न ही "रेपिस्ट" की मौत हुई.

पंजाब में गुरु ग्रंथ की बेअदबी के आरोपी और डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी मोहिंदर की जेल में हत्या

जानिए क्या है पूरा मामला जिसके चलते पूरे पंजाब में अफवाहों और कानाफूसियों का माहौल है और सीएम ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की रिक्वेस्ट की है.

मज़दूर के बेटे ने तीरंदाज़ी में भारत को सिल्वर मेडल दिला डाला

गरीब बस्ती में पले बढ़े इस लड़के ने भारत का नाम रोशन कर दिया.

क्या सन्नी देओल से छिन जाएगी उनकी सांसदी?

वजह चुनाव आयोग का एक नियम है.

CM नीतीश कुमार अस्पताल में थे, बच्चे की मौत हो गई

चमकी कहें या इंसेफेलाइटिस, अब तक 129 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मनमोहन सिंह को राज्य सभा में भेजने के लिए कांग्रेस ये तिगड़म भिड़ा रही है

अपना एक मात्र चुनाव हारने वाले मनमोहन सिंह पिछले 28 साल में पहली बार संसद के सदस्य नहीं होंगे.