Submit your post

Follow Us

बिल गेट्स ने कोरोना वैक्सीन के फॉर्मूले को लेकर कौन सी चुभने वाली बात कह दी है?

एक वायरस के दुनियाभर के लिए सिरदर्द बनने की जानकारी माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स ने 2015 में ही दी थी. उन्होंने यह बात अपने एक लेक्चरमें कही थी. उस दौरान उन्होंने विकासशील देशों में किसी भी वायरस से फैलने वाली बीमारी के लिए नाकाफी तैयारियों का भी जिक्र किया था. अब एक इंटरव्यू में बिल गेट्स विकासशील देशों को कोरोना वैक्सीन का फॉर्मूला देने से मना करते दिख रहे हैं.

क्या बोले बिल गेट्स?

ब्रिटिश न्यूज चैनल स्काई न्यूज ने एक इंटरव्यू में विकासशील देशों में वैक्सीन बनाने को लेकर बिल गेट्स से एक सवाल पूछा. बिल गेट्स से पूछा गया,

वैक्सीन से इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट की सुरक्षा हटा ली जाए और इसे दुनिया के देशों के साथ साझा किया जाए तो क्या इससे सब तक टीका पहुंचाने में मदद मिलेगी?

बिल गेट्स ने सपाट लहजे में कहा,

‘नहीं.’

उन्होंने आगे कहा,

‘दुनिया में वैक्सीन बनाने वाली बहुत सी फैक्ट्रियां  हैं. लोग टीके की सुरक्षा को लेकर बहुत ही गंभीर हैं. फिर भी दवा का फार्मूला साझा नहीं किया जाना चाहिए.’

उन्होंने इसके बाद भारत में अमेरिकी फॉर्मूले पर बनने वाली वैक्सीन का उदाहरण देते हुए कहा,

‘मिसाल के तौर पर अमेरिका की जॉन्सन एंड जॉन्सन की फैक्ट्री से भारत की फैक्टी में वैक्सीन बनने के लिए भेजना एक नया और अलग मामला है. यह हमारे अनुदान और विशेषज्ञता की वजह से मुमकिन हो पाया है.’

बिल गेट्स उस इंटरव्यू में आगे कहते हैं,

‘इस मामले में हमें जो चीज पीछे खींच रही है वह इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी नहीं है. ऐसा नहीं है कि दुनिया में कहीं भी आम फैक्ट्री लगी हुई है जिसके पास सारे अप्रूवल हैं और वह जादुई तरीके से एक सुरक्षित वैक्सीन बना देगी. इसके लिए बहुत चीजों के ट्रायल करने होते हैं. उत्पादन के हर तरीके को बारीकी और सावधानी से देखना पड़ता है.’

बता दें कि जो कंपनी किसी वैक्सीन को ईजाद करती है उसके इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स उसके पास होते हैं. कंपनी ही तय करती है कि वैक्सीन के उसके फॉर्मूले के तहत किस कंपनी को इसे बनाने की छूट दी जाए. मिसाल के तौर पर ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने मिलकर एक वैक्सीन ईजाद की. इस वैक्सीन के फॉर्मूले पर भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया कोविशील्ड के नाम से वैक्सीन बना रही है. वह बिना एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड की अनुमति के यह वैक्सीन नहीं बना सकती. अगर वह ऐसा करती है तो इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स का उल्लंघन माना जाएगा.

बिल गेट्स के इस बयान का विरोध भी देखने को मिला. वायरलॉजिस्ट जेरेमी कामिल ने बिल गेट्स के इंटरव्यू का हिस्सा शेयर करते हुए लिखा,

‘औपनिवेशिक विज्ञान. उदाहरण ए.’

 

अमीर देशों के स्वार्थ को स्वाभाविक बताया

बिल गेट्स यहीं नहीं रुके. उन्होंने अमेरिका और ब्रिटेन जैसे अमीर देशों में टीकों के लिए खुद को प्राथमिकता देने को एक स्वाभाविक कदम बताया. उन्होंने कहा,

इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि अमीर देशों ने टीकों के लिए पहले खुद को प्राथमिकता दी है. यह बात सही है कि अमेरिका और ब्रिटेन में 30 साल के आयु वर्ग वालों को भी वैक्सीन लग रही है, लेकिन ब्राजील और दक्षिणी अफ्रीका में 60 साल वालों को टीका नहीं लग पा रहा है. यह अनुचित है. गंभीर कोरोना संकट का सामना कर रहे देशों को दो-तीन महीनों में वैक्सीन मिल जाएगी.

लब्लोलुआब यह कि जब एक बार अमीर और विकसित देशों में वैक्सीनेशन पूरा हो जाए तो गरीब देशों को भी टीके मुहैया करा दिए जाएंगे. उन्होंने यह उम्मीद भी जताई कि साल 2022 अंत तक स्थितियां सामान्य हो जाएंगी.


वीडियो – एलन मस्क, बिल गेट्स को पिछाड़कर दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति कैसे बने?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.