Submit your post

Follow Us

कोवैक्सीन की पहली डोज लेने के 9 दिन के अंदर मौत पर बायोटेक ने क्या कहा?

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 12 दिसंबर को कोवैक्सीन का पहला खुराक एक मजदूर को लगा. 21 दिसंबर को उसकी मौत हो गई. इस बात की जानकारी तब हुई, जब शुक्रवार 8 जनवरी को मजदूर के घर अस्पताल वालों ने दूसरी डोज के लिए कॉल किया.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, मजदूर का नाम दीपक मरावी है. उनकी उम्र 47 वर्ष थी. रिपोर्ट के मुताबिक, दीपक को कोवैक्सीन के ट्रायल के दौरान डोज दिया गया था. वो इसके वॉलिंटियर थे. 12 को टीका लगा और 9 दिन के अंदर मौत होने के बाद परिवार ने आरोप लगाया कि वैक्सीन की वजह से ऐसा हुआ है.

इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा है कि मजदूर की विसरा रिपोर्ट को टेस्ट के लिए लैब में भेजा गया है. मामला संवेदनशील है, तो उन्होंने अपील की लोग गलतफहमी न फैलाएं. क्योंकि इससे वैक्सीनेशन प्रभावित होगी. रिपोर्ट आने के बाद ही व्यक्ति की मौत के कारणों का पता चल पाएगा. उन्होंने कहा कि वैक्सीन का कोई भी साइड इफेक्ट होगा, तो वो 24 घंटे या दो से तीन दिनों के अंदर दिख जाता है, वैक्सीनेशन के कई दिनों बाद नहीं दिख सकता.

वहीं, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी ने कहा था कि वैक्सीन का साइड इफेक्ट वैक्सीनेशन के 30 मिनिट के भीतर दिखाई दे जाता है. पर उस व्यक्ति में वैक्सीनेशन के 24 से 48 घंटे के भीतर वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट दिखाई नहीं दिया. उन्होंने बताया कि व्यक्ति की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में जहर के कारण मौत होने की बात सामने आई है.

बायोटेक ने क्या कहा है?

वहीं, भारत बायोटेक ने वैक्सीन ट्रायल के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान वालंटियर की मौत पर सफाई दी है. कहा कि वालंटियर को वैक्सीन ट्रायल की सभी नियम और शर्तों के बारे में सारी जानकारी दी गई थी. वैक्सीन देने के अगले 7 दिनों तक उसका हालचाल लिया गया था और किसी भी तरह का साइड इफेक्ट उसमें नज़र नहीं आया था.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या है?

उधर, भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज के द्वारा जारी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस का कहना है कि दीपक की मौत का कारण कार्डियॉरेस्पिरेट्री फेलियर हो सकता है. जो कि हो सकता है ज़हर के चलते हुआ हो.

वहीं भारत बायोटेक ने कहा कि कंपनी ये नहीं बता सकती कि वालंटियर को वैक्सीन दी गई थी या प्लेसिबो. क्योंकि स्टडी की बात अभी सामने नहीं आई है.

भारत बायोटेक ICMR के सहयोग से स्वदेशी टीके कोवैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल कर रही है. इस बीच सरकार ने बैकअप के तौर पर कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है. भारत में 16 जनवरी से कोरोना के टीकाकरण का कार्यक्रम शुरू होना है. इसमें ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा तैयार और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में बनाए गए टीके कोविशील्ड का इस्तेमाल होना है.


वीडियो देखें: कोरोना वैक्सीन लगवाने से पहले बेहद ज़रूरी सवालों के जवाब जान लें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

डॉनल्ड ट्रम्प के समर्थकों ने अमेरिका की राजधानी में मचाया दंगा, 4 लोगों की मौत, वॉशिंगटन में कर्फ़्यू

फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम ने ट्रम्प पर बैन लगा दिया है.

चांदनी चौक: हनुमान मंदिर तोड़ने के पीछे की असल वजह क्या है, जान लीजिए

BJP, AAP और कांग्रेस मंदिर ढहाने का ठीकरा एक दूसरे पर फोड़ रही हैं.

शाहजहांपुर बॉर्डर से हरियाणा में घुस रहे किसानों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

किसान नेताओं ने क्या ऐलान किया है?

कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को किस मामले में जेल भेज दिया गया है?

मध्य प्रदेश में बीजेपी विधायक के बेटे ने दर्ज करवाया था केस.

तीसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया के पांच खिलाड़ियों को आइसोलेट क्यों कर दिया गया?

इसमें रोहित शर्मा का नाम भी शामिल है.

देश के स्वास्थ्य मंत्री बोले सबको फ्री देंगे वैक्सीन, फिर ट्वीट करके कुछ और बात कह दी

जानिए देश में कहां-कहां वैक्सीन का ड्राई रन चल रहा है.

BCCI अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेटर सौरव गांगुली अस्पताल में भर्ती

ममता बनर्जी का ट्वीट-गांगुली को हल्का कार्डियक अरेस्ट आया है.

राजीव गांधी सरकार में नंबर-2 रहे बूटा सिंह का निधन, PM मोदी ने ट्वीट कर दुख जताया

बूटा सिंह 86 साल के थे, अक्टूबर-2020 में उन्हें ब्रेन हैमरेज के बाद AIIMS में भर्ती कराया गया था.

नए साल पर देश को मिला कोविड वैक्सीन का तोहफा!

एक्सपर्ट कमेटी ने दी मंज़ूरी. अब बस DCGI की हां बाकी.

मोबाइल बेचने के लिए होर्डिंग पर लगा दी मोदी-योगी की फोटो, UP के मंत्री का भाई फंस गया

इस पर मंत्री जी ने क्या कहा है?