Submit your post

Follow Us

आंखों का ये हाल क्या वाकई पतंजलि की आई ड्रॉप ने कर दिया है?

पिछले तकरीबन एक साल से कोरोना की दवा बनाने का दावा करके बाबा रामदेव चर्चा में हैं. इस पर कई सवाल उठे लेकिन वह अपने दावे पर अभी भी अडिग हैं. अब एक वायरल ट्वीट ने उनकी एक और दवा पर सवाल खड़े कर दिए हैं. यह है उनकी कंपनी पतंजलि द्वारा निर्मित ‘दृष्टि आई ड्रॉप’. इसे लेकर आंख के एक डॉक्टर ने ट्वीट किया है. क्या है यह ट्वीट और इस पर पतंजलि का क्या कहना है.

क्या है ट्वीट में

गुरुग्राम में रहने वाली आंख की एक सर्जन डॉक्टर पारुल एम शर्मा ने बुधवार को ट्वीट किया कि

कभी भी अपना इलाज खुद करते हुए किसी भी केमिस्ट से लेकर आई ड्रॉप का इस्तेमाल न करें. पतंजलि के दृष्टि आईड्रॉप के इस्तेमाल के बाद गंभीर एलर्जिक कंजंक्टिवाइटिस (आंख आना), ब्लेफेराइटिस (पलकों की सूजन) और पंक्टेट केराटोपैथी. मैंने पहले भी ऐसे कुछ केस देखे हैं.

ट्विटर पर अपने बायो के मुताबिक डॉक्टर पारुल एम शर्मा गुरुग्राम के मैक्स हॉस्पिटल में आंख की सर्जन हैं. हमने उनसे संपर्क किया तो उनके स्टाफ ने बताया कि वह फिलहाल कुछ दिन की छुट्टी पर हैं. उनका नंबर भी लगातार नॉट रीचेबल है. हमने उन्हें संपर्क करने के लिए मेसेज भी डाला है.

क्या है यह आई ड्रॉप

हमने इस आईड्रॉप के बारे में पता किया तो हमें जानकारी मिली कि यह पतंजलि का एक पॉपुलर प्रॉडक्ट है. 10 मिली ग्राम की शीशी 20 रुपए में मार्केट में उपलब्ध है. हमें साल 2015 का बाबा रामदेव का एक वीडियो मिला. इसमें बाबा रामदेव इसे बनाने का फॉर्मूला बताते सुने जा सकते हैं. वह बताते हैं कि एक चम्मच सफेद प्याज का रस, एक चम्मच छिलका उतारा हुआ अदरक का रस, एक चम्मच नीबू का रस, 3 चम्मच शहद का रस मिलाकर इसे बनाया जा सकता है. वह इस वीडियो में दावा करते हैं इसे बहुत से लोग इस्तेमाल कर रहे हैं और इसे महंगी मशीनों में बनाया जा रहा है. आप भी देखिए ये वीडियो.

पतंजलि का क्या कहना है?

इस पूरे मामले की जानकारी हमने आई ड्रॉप बनाने वाली कंपनी पतंजलि के प्रवक्ता को दी. उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया के तौर पर इतना ही कहा कि इस मामले को गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है. किसी एक शख्स के दावे पर कैसे मान लिया जाए कि ऐसा हुआ है. लाखों लोग इस ड्रॉप का बरसों से इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि फिर भी हम देखेंगे कि पूरा मामला क्या है और विस्तृत जवाब देंगे. फिलहाल हम उनकी तरफ से विस्तृत जवाब का इंतजार कर रहे हैं. वो जैसा भी जवाब देंगे हम स्टोरी में उसे शामिल कर लेंगे.


वीडियो – पतंजलि की बनाई ‘कोरोनिल’ को सर्टिफिकेट देने की बात पर WHO ने क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सरकार ने FCAT बंद करने का मनमाना फैसला लेकर बोल्ड फिल्मों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी

सरकार ने FCAT बंद करने का मनमाना फैसला लेकर बोल्ड फिल्मों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी

फिल्म मेकर्स भड़क गए हैं. जानिए क्या है पूरा मामला.

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उन पर गंभीर आरोप लगाए थे.

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.