Submit your post

Follow Us

क्यों एम्स में भर्ती किए गए अटल बिहारी वाजपेयी?

638
शेयर्स

भारतीय जनता पार्टी के सबसे बुजुर्ग नेता और देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को 11 जून को दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. बीजेपी के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री की हालत ठीक है और उन्हें रुटीन चेकअप के लिए ही अस्पताल ले जाया गया है. एम्स के डॉयरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम उनका इलाज कर रही है. एम्स की ओर से कहा गया है कि वाजपेयी को कॉर्डियो न्यूरो सेंटर में हैं. किसी को भी उनसे मिलने की इजाजत नहीं है. उनके पास कोई नहीं जा सकता है. वहां वीआईपी मूवमेंट पर भी रोक लगा दी गई है.

लेकिन वाजपेयी के चाहने वालों को पार्टी का ये बयान रास नहीं आ रहा है. इसकी वजह ये है कि वाजपेयी की उम्र फिलहाल 93 साल से ज्यादा की है. वो 2009 से ही वील चेयर पर हैं. उन्हें डिमेंशिया नाम की बीमारी है, जिसकी वजह से वो कहीं भी आ-जा नहीं सकते हैं और पूरे दिन बिस्तर पर ही पड़े रहते हैं.

घर पर ही होता है रुटीन चेकअप

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी को भारत रत्न देने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी उनके घर गए थे.
पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी को भारत रत्न देने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी उनके घर गए थे.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की देखभाल का जिम्मा उनके सबसे करीबी सहयोगी शिव कुमार शर्मा के पास है. वाजपेयी के 93वें जन्मदिन पर बीबीसी को दिए इंटरव्यू में शिव कुमार शर्मा ने बताया था किकभी देश के सबसे अच्छे वक्ता रहे वाजपेयी अब बोल नहीं पाते हैं. अगर कोई बीजेपी का पुराना नेता उनसे मिलता है, तो आंखों और इशारे से ही वो बता देते हैं कि उन्होंने उसे पहचान लिया है या नहीं. इसके अलावा वाजपेयी की देखभाल के 24 घंटे डॉक्टरों की एक टीम तैनात रहती है. इसके अलावा चार फिजियोथेरेपिस्ट हर रोज पूर्व प्रधानमंत्री की फिजियोथेरेपी करते हैं. इसके अलावा उन्हें सिर्फ लिक्विड डाइट ही दी जाती है.

क्या होता है डिमेंशिया, जिसने वाजपेयी को इस हाल में पहुंचा दिया

एम्स में भर्ती वाजपेयी की हालत स्थिर है. एम्स ने खुद प्रेस विज्ञप्ति जारी कर ये बताया है.
एम्स में भर्ती वाजपेयी की हालत स्थिर है. एम्स ने खुद प्रेस विज्ञप्ति जारी कर ये बताया है.

अगर साधारण भाषा में समझें, तो डिमेंशिया भूलने की बीमारी को कहा जाता है. इसकी वजह से आदमी अपने बारे में सबकुछ भूल जाता है और उसे अपने आस-पास की भी चीजें याद नहीं रह जाती हैं. ये कोई एक बीमारी नहीं, बल्कि बीमारियों का एक समूह है. इसकी वजह से इंसान हमेशा के लिए सबकुछ भूल सकता है, थोड़ी देर के लिए सबकुछ भूल सकता है या फिर उसके व्यवहार में बदलाव देखने को मिल सकता है. डॉक्टरों के मुताबिक 65 साल से ज्यादा उम्र के आदमी को इस बीमारी के होने का खतरा ज्यादा रहता है. उम्र के साथ बीमारी और भी बढ़ती जाती है.


ये भी पढ़ें:

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहकर पलट गए थे अटल बिहारी?

उमा भारती-गोविंदाचार्य प्रसंग और वाजपेयी की नाराजगी की पूरी कहानी

ममता ने झोले से इंसान की हड्डियां निकालकर प्रधानमंत्री की टेबल पर उलट दीं

कुंभकरण के जागते ही वाजपेयी के गले लग गए आडवाणी

अटल बिहारी ने सुनाया मौलवी साब का अजीब किस्सा

वीडियो में देखिए वो कहानी, जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.

PMC खाताधारकों ने बीजेपी नेता को घेरा, तो पुलिस ने उन्हें बचाकर निकाला

RBI के साथ मीटिंग करने पहुंचे थे.

इस विदेशी सांसद को कश्मीर आने का न्योता दिया फिर कैंसल कर दिया, वजह हैरान करने वाली है

सांसद ने ऐसी शर्त रख दी थी कि विदेशी डेलिगेशन का हिस्सा नहीं बन पाए.